पर्वों पर पड़ रही महंगाई की मार, मामूली चीजें भी पहुंच के बाहर

पर्व में दान, पुण्य के साथ खानपान के लिए आवश्यक तिल, गुड़ सहित अन्य आवश्यक खाद्य पदार्थों की दामों में गत वर्ष की तुलना में इस वर्ष बीस फीसदी तक बढ़ोतरी हो गई

जबलपुर. इस समय महंगाई की ऐसी मार पड़ रही है कि पर्वों और त्योहारों की चमक और उत्साह भी फीका पड़ गया है। त्योहारों पर दिखने वाला उत्साह अब वैसा नहीं रह गया जैसा कुछ वर्षों पहले तक देखा जाता था। महंगाई ने लोगों को मजबूर कर दिया है इसलिए अब लोग त्योहारों पर सिर्फ औपचारिकता पूरी करने और पूजा-अनुष्ठान तक ही सीमित रह गए हैं। खाने-पीने की मामूली चीजें पर अब लोगों की पहुंच से बाहर हो रहीं हैं, इसके चलते लोग त्योहारों पर खुलकर खर्च करने के बजाय हाथ सिकोडऩे लगे हैं।
मकर संक्रांति पर महंगाई की मार साफ नजर आ रही है। पर्व में दान, पुण्य के साथ खानपान के लिए आवश्यक तिल, गुड़ सहित अन्य आवश्यक खाद्य पदार्थों की दामों में गत वर्ष की तुलना में इस वर्ष बीस फीसदी तक बढ़ोतरी हो गई। बाजार में लड्डुओं की बिक्री तो जम कर हो रही, लेकिन लोग अपेक्षाकृत वजन में कम खरीद कर रहे हैं।
मकर संक्रांति के दिन नदी तालाबों में स्नान का विशेष महत्व है। साथ ही तिल का दान, स्नान व खानपान भी विशेष महत्व रखता है। लोग गुड़ से बने मिष्ठानों का दान करने के साथ उसका सेवन करते हैं। ऐसे में बाजार में तिल, तिली, गुड़, मुरमुरे के लड्डुओं की जम कर बिक्री हो रही है। लेकिन इनके ऊंचे दाम लोगों का बजट बिगाड़ रहे हैं।
20 फीसदी तक वृद्धि
गत वर्ष की तुलना में मुरमुरे के लड्डुओं के दामों में बीस फीसदी की वृद्धि हुई है। गुड़, तिल, मूंगफली व मेवे के दामों में भी 10 से बीस फीसदी बढ़त हुई। मुकादमंगज के किराना व्यवसायी भीमलाल गुप्ता का कहना है इस वर्ष कम मात्रा में लड्डू की सामग्री बिक रही हैं।
वैज्ञानिक कारण
तिल और गुड़ खाने के पीछे एक वैज्ञानिक कारण भी है। सर्दियों में शरीर का तापमान गिर जाता है। हमें बाहरी तापमान से अंदरूनी तापमान को बैलेंस करना होता है। तिल और गुड़ गर्म होते हैं, ये खाने से शरीर गर्म रहता है। इसलिए इस त्योहार में ये चीजें खाई और बनाई जाती हैं। वैज्ञानिकों के मुताबिक तिल खाने से शरीर गर्म रहता है और इसके तेल से शरीर को भरपूर नमी मिलती है। यह पाचन क्रिया भी दुरुस्त करता है।
सामग्री
गुड़ 35-40
तिल काली 160-240
तिल सफेद 140-160
बादाम 720
काजू टुकड़ा 750-800
मंूगफली 120
मुरमुरा 80—90
सोंठ 260-300
तेल 95-100 (लीटर)
बनस्पति घी 95-100

shivmangal singh Desk
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned