scriptmp Collector built a bungalow worth two crores from corruption | कलेक्टर ने भ्रष्टाचार की कमाई से बनाया दो करोड़ का बंगला, माफिया से ली रिश्वत | Patrika News

कलेक्टर ने भ्रष्टाचार की कमाई से बनाया दो करोड़ का बंगला, माफिया से ली रिश्वत

कलेक्टर ने भ्रष्टाचार की कमाई से बनाया दो करोड़ का बंगला, माफिया से ली रिश्वत

 

जबलपुर

Published: January 14, 2022 01:09:10 pm

जबलपुर। हाईकोर्ट ने राज्य सरकार को निर्देश दिए कि बालाघाट जिले के कलेक्टर दीपक आर्य के खिलाफ भ्रष्टाचार की शिकायत की जांच के लिए उच्चस्तरीय अधिकारी तैनात किया जाए। पूर्व विधायक किशोर समरीते की याचिका का पटाक्षेप करते हुए चीफ जस्टिस रवि मलिमठ व जस्टिस पीके कौरव की डिवीजन बेंच ने यह निर्देश दिए। कोर्ट ने कहा कि विधि अनुसार समरीते की शिकायत पर विचार कर समुचित कार्रवाई की जाए। शिकायत का निराकरण करने के बाद याचिकाकर्ता को भी परिणाम से अवगत कराया जाए।

corruption.jpg
corruption

हाईकोर्ट का निर्देश
बालाघाट कलेक्टर के खिलाफ जांच के लिए तैनात करो उच्चस्तरीय अधिकारी

बालाघाट जिले की लांजी विधानसभा से पूर्व विधायक किशोर समरीते की ओर से याचिका दायर की गई। अधिवक्ता शिवेंद्र पांडे ने कोर्ट को बताया कि बालाघाट जिले के कलेक्टर दीपक आर्य ने रेत माफिया, शराब ठेकेदारों को अनुचित लाभ पहुंचाया। बदले में उन्होंने रिश्वत और गैरकानूनी उपहार लिए। भ्रष्टाचार की कमाई से आर्य ने अपने गृह जिले डिंडोरी में दो करोड़ का मकान बनवाया। इसकी शिकायत याचिकाकर्ता ने लोकायुक्त से की। कार्रवाई न होने पर 11 सितम्बर 2020 को समरीते ने भारत सरकार के कैबिनेट सचिव से शिकायत की।

कैबिनेट सचिव ने इसे मप्र सरकार के मुख्य सचिव को अग्रेषित कर कार्रवाई के लिए कहा। लेकिन, मप्र सरकार ने शिकायत की जांच बालाघाट कलेक्टर को ही सौंप दी। कलेक्टर ने 12 अक्टूबर 2020 को समरीते को पत्र लिखकर शिकायत के पक्ष में साक्ष्य और दस्तावेज प्रस्तुत करने को कहा। चेतावनी दी गई कि साक्ष्य, दस्तावेज पेश नहीं किए गए, तो शिकायत खारिज कर दी जाएगी। अधिवक्ता पांडे ने तर्क दिया कि राज्य सरकार की ओर से कलेक्टर को ही कलेक्टर के खिलाफ शिकायत की जांच सौंपना गलत है। विधि का सुस्थापित सिद्धांत है कि कोई भी व्यक्तिअपने खिलाफ शिकायत पर जज या जांचकर्ता नहीं हो सकता। सुनवाई के बाद कोर्ट ने याचिका निराकृत करते हुए शिकायत की जांच दूसरे उच्चस्तरीय अधिकारी से कराने का निर्देश दिया। लोकायुक्तका पक्ष अधिवक्ता सत्यम अग्रवाल ने रखा।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Video Weather News: कल से प्रदेश में पूरी तरह से सक्रिय होगा पश्चिमी विक्षोभ, होगी बारिशVIDEO: राजस्थान में 24 घंटे के भीतर बारिश का दौर शुरू, शनिवार को 16 जिलों में बारिश, 5 में ओलावृष्टिदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगश्री गणेश से जुड़ा उपाय : जो बनाता है धन लाभ का योग! बस ये एक कार्य करेगा आपकी रुकावटें दूर और दिलाएगा सफलता!पाकिस्तान से राजस्थान में हो रहा गंदा धंधाइन 4 राशि वाले लड़कों की सबसे ज्यादा दीवानी होती हैं लड़कियां, पत्नी के दिल पर करते हैं राजहार्दिक पांड्या ने चुनी ऑलटाइम IPL XI, रोहित शर्मा की जगह इसे बनाया कप्तानName Astrology: अपने लव पार्टनर के लिए बेहद लकी मानी जाती हैं इन नाम वाली लड़कियां
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.