नागपुर भोपाल जाने वालों के लिए वरदान साबित होंगे ये फ्लाईओवर

तिलवारा पुल के काम में भी तेजी, जून तक शुरू होगा अंध-मूक बाईपास का फ्लाईओवर

 

By: Lalit kostha

Published: 15 Jan 2018, 11:07 AM IST

जबलपुर. राष्ट्रीय राजमार्ग-७ पर अंधमूक बाईपास के पास बन रहा फ्लाईओवर जून २०१८ तक चालू हो जाएगा। २७०० करोड़ की लागत वाले इस फोरलेन पर एक किमी लम्बाई का यह सबसे बड़ा फ्लाईओवर है। एनएच-७ का काम लगभग ७० प्रतिशत पूरा हो चुका है। अगले डेढ़ साल में प्रोजेक्ट को पूरा करने का दावा किया जा रहा है। कटंगी व पाटन बाईपास के पास बन रहे फ्लाईओवर का काम भी अंतिम चरण में है। तिलवारा स्थित नए पुल के बीच के तीन पिलर को छोड़कर शेष का निर्माण हो गया है। जानकारी के अनुसार वर्ष २०१५ में जबलपुर-लखनादौन हिस्से का निर्माण कार्य शुरू हुआ था। निर्माण एजेंसी एलएंडटी ने ७० प्रतिशत काम पूरा कर लिया है। कम्पनी एक्सटेंशन पर काम कर रही है।

जबलपुर के शहरी सीमा क्षेत्र में फोरलेन पर तीन फ्लाईओवर, एक रेलवे ओवरब्रिज और तिलवारा पर नए पुल का निर्माण हो रहा है। अंधमूक बाईपास पर बनाए जा रहे एक किमी लम्बे फ्लाईओवर को चालू करने के लिए अप्रोच रोड का निर्माण शेष है। दोनों तरफ सीमेंट सड़क का निर्माण भी चालू हैं। पाटन बाईपास से तिलवारा तक एक लेन का निर्माण पूरा हो गया है, जबकि दूसरी लेन का निर्माण कार्य शुरू हो चुका है।

जबलपुर सीमा में फोरलेन के काम की स्थिति

अंधमूक बाईपास फ्लाईओवर- एक किमी लम्बे फ्लाईओवर का काम ९० प्रतिशत पूरा हो गया है। अप्रोच रोड बनते ही जून २०१८ में इसे चालू कर दिया जाएगा। यहीं पर राष्ट्रीय राजमार्ग १२ का भी काम चालू होगा।
कटंगी बाईपास पर फ्लाईओवर- ७०० मीटर लम्बे इस फ्लाईओवर के एक हिस्से का काम पूरा हो चुका है। दूसरे हिस्से का पिलर तैयार हो चुका है। ढलाई का काम शेष है। इस फ्लाईओवर का ४० प्रतिशत काम पूरा हो पाया है। इसे दिसम्बर २०१८ तक चालू करने का लक्ष्य है।
पाटन बाईपास पर फ्लाईओवर- इसका ५०० मीटर का निर्माण हो चुका है। एक तरफ का अप्रोच मार्ग भी पूरा हो गया है। दूसरे तरफ का काम जारी है। दोनों तरफ की सड़क का काम भी चालू है। फ्लाईओवर का लगभग ७० प्रतिशत काम पूरा हो चुका है। इसे सितम्बर २०१८ तक पूरा करने का लक्ष्य है।
तिलवारा में नया पुल- १२ मीटर ऊंचे और दोनों तरफ फुटपाथ वाला यह पुल एक किमी लम्बा होगा। बीच के तीन पिलर को छोड़कर शेष का काम पूरा हो गया है। इसे मार्च २०१९ तक पूरा करने का लक्ष्य है।
अंधुआ से आगे रेलवे ब्रिज- इसके लिए दोनों तरफ पिलर का काम पूरा हो गया है। बीच में गार्डर का काम रेलवे को करना है। अप्रोच मार्ग का काम भी तेजी से हो रहा है। अंधमूक बाईपास साइड वाला हिस्सा ८० प्रतिशत पूरा हो गया है।

जबलपुर से लखनादौन तक बनाए जा रहे फोरलेन का ७० प्रतिशत काम पूरा हो गया है। बारिश में सिर्फ सीमेंट रोड का काम होगा। इससे पहले मिट्टी सहित पिलर आदि का काम पूरा कर लिया जाएगा।
- कर्नल शरद चंद सिंह, प्रोजेक्ट मैनेजर, एनएचएआई

Lalit kostha Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned