scriptNetaji Subhash Chandra Bose Jayanti | आमजन भी देख सकेंगे नेताजी का बैरक और सामान | Patrika News

आमजन भी देख सकेंगे नेताजी का बैरक और सामान

जबलपुर सेंट्रल जेल में संग्रहालय का शुभारम्भ : शनिवार और रविवार को मिलेगा प्रवेश

 

जबलपुर

Published: January 23, 2022 07:52:29 pm

जबलपुर। नेताजी सुभाषचंद्र बोस केंद्रीय कारागार स्थित उस बैरक को आमजन भी देख सकेंगे, जिसमें नेताजी सुभाषचंद्र बोस को रखा गया था। उनकी 126वीं जयंती पर एसपी सिद्धार्थ बहुगुणा और जेल अधीक्षक अखिलेश तोमर ने संग्रहालय का शुभारम्भ किया। कार्यक्रम की शुरुआत नेताजी की प्रतिमा पर माल्यार्पण से हुई। एसपी ने कहा कि नेताजी से जुड़ी चीजों का संग्रहालय बनाना शहर के लिए गौरव का विषय है। आमजन सप्ताह में दो दिन शनिवार और रविवार को संग्रहालय में प्रवेश कर सकेंगे।
photo_2022-01-23_17-26-28.jpg
jabalpur central Jail
दो बार जेल में रहे
स्वतंत्रता संग्राम के दौरान नेताजी सुभाषचंद्र बोस दो बार इस जेल में रहे। पहली बार उन्हें 22 दिसंबर, 1931 को लाया गया था। 16 जुलाई 1932 को मुम्बई की जेल में ट्रांसफर कर दिया गया था। इसके बाद 18 फरवरी, 1933 से 22 फरवरी 1933 तक उन्हें इस जेल में रखा गया। इसके बाद मद्रास भेज दिया गया।
शयन पट्टिका समेत अन्य सामान
जेल अधीक्षक अखिलेश तोमर ने बताया कि जेल में उस बैरक को सहेजकर रखा गया है, जिसमें नेताजी को रखा गया था। उनकी शयन पट्टिका और वह रजिस्टर भी मौजूद है, जिसमें दोनों बार जेल में नेताजी की आमद दर्ज हुई थी। उनके गिरफ्तारी वारंट की मूल प्रति, हथकड़ी, बेडिय़ां, कोल्हू, चक्की, उस वक्त के जेल अधिकारियों-प्रहरियों की ड्रेस, अभिलेख और अन्य सामान सहेजकर रखा गया है।

नेताजी की जबलपुर से जुडी यादें
नेताजी सुभाष चंद्र बोस चार बार जबलपुर आए थे।
दो बार जेल यात्रा के दौरान और दो बार राजनीतिक प्रवास पर आए थे।
केन्द्रीय जेल जबलपुर में सुभाष बाबू पहली बार 22 दिसम्बर 1931 से 16 जुलाई 1932 तक तथा दूसरी बार 18 फरवरी 1933 से 22 फरवरी 1933 तक कैद रहे।
05 मार्च 1939 को वे तीसरी बार जबलपुर में कांग्रेस के त्रिपुरी अधिवेशन में आए थे। इसी अधिवेशन में उन्होंने महात्मा गांधी के प्रत्याशी को हराया था।
105 डिग्री सेल्सियस के बुखार से तपने के बावजूद वे त्रिपुरी कांग्रेस की अध्यक्षता करने पहुंचे और सभा को संबोधित किया था।
त्रिपुरी अधिवेशन की याद में ही शहर के सराफा में कमानिया गेट बना है। उनके कांग्रेस अध्यक्ष चुने जाने के बाद 60 हाथियों का जुलूस निकला था।
04 जुलाई 1939 को वे आखिरी बाद राष्ट्रीय नवयुवक मंडल का उद्धाटन करने शहर आए थे। यह उनका अंतिम प्रवास था।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभज्योतिष अनुसार घर में इस यंत्र को लगाने से व्यापार-नौकरी में जबरदस्त तरक्की मिलने की है मान्यतासूर्य-मंगल बैक-टू-बैक बदलेंगे राशि, जानें किन राशि वालों की होगी चांदी ही चांदीससुराल को स्वर्ग बनाकर रखती हैं इन 3 नाम वाली लड़कियां, मां लक्ष्मी का मानी जाती हैं रूपबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करें'दिलजले' के लिए अजय देवगन नहीं ये थे पहली पसंद, एक्टर ने दाढ़ी कटवाने की शर्त पर छोड़ी थी फिल्ममेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मत

बड़ी खबरें

IPL 2022 MI vs SRH Live Updates : रोमांचक मुकाबले में हैदराबाद ने मुंबई को 3 रनों से हरायामुस्लिम पक्षकार क्यों चाहते हैं 1991 एक्ट को लागू कराना, क्या कनेक्शन है काशी की ज्ञानवापी मस्जिद और शिवलिंग...जम्मू कश्मीर के बारामूला में आतंकवादियों ने शराब की दुकान पर फेंका ग्रेनेड,3 घायल, 1 की मौतमॉब लिंचिंग : भीड़ ने युवक को पुलिस के सामने पीट पीटकर मार डाला, दूसरी पत्नी से मिलने पहुंचा थादिल्ली के अशोक विहार के बैंक्वेट हॉल में लगी आग, 10 दमकल मौके पर मौजूदभारत में पेट्रोल अमेरिका, चीन, पाकिस्तान और श्रीलंका से भी महंगाकर्नाटक के राज्यपाल ने धर्मांतरण विरोधी विधेयक को दी मंजूरी, इस कानून को लागू करने वाला 9वां राज्य बनाSwayamvar Mika Di Vohti : सिंगर मीका का जोधपुर में हो रहा स्वयंवर, भाई दिलर मेहंदी व कॉमेडियन कपिल शर्मा सहित कई सितारे आए
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.