एमपी गजब है! फर्जी अंकसूची से बने बड़े अधिकारी और कर दिया कांड

एमपी गजब है! फर्जी अंकसूची से बने बड़े अधिकारी और कर दिया कांड

 

By: Lalit kostha

Published: 08 Jul 2018, 01:39 PM IST

कटनी। एमपी अजब है, सबसे गजब है... ये लाइनें जहां प्रदेश की विशेषताओं को बताती हैं। वहीं यहां होने वाले बड़े बड़े कांड पर भी सटीक बैठती हैं। ताजा मामला बिजली कंपनी में सामने आया है। बिजली कंपनी में ठेका ऑपरेटर की नौकरी के लिए आइटीआइ डिप्लोमा की जाली अंकसूची लगाने के आरोप में द्वितीय अपर सत्र न्यायाधीश सुशील कुमार की अदालत ने 15 उम्मीदवारों को क्रमश: दो व तीन साल की सजा सुनाई है। इस प्रकरण को जालसाजी मानते हुए कोर्ट ने अर्थदंड भी लगाया है। अपर लोक अभियोजक केके पांडे ने बताया कि मध्यप्रदेश पूर्व क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी द्वारा वर्ष 2008 में कटनी संभाग के अंतर्गत आने वाले 33/11 केवी उपकेंद्रों में ठेका ऑपरेटर पद के लिए आवेदन आमंत्रित किए थे। सभी आरोपियों ने ठेका ऑपरेटर के लिए दिए आवेदन में विद्यासागर औद्योगिक प्रशिक्षण केंद्र कटनी से इलेक्ट्रीशियन ट्रेड से डिप्लोमा होने का सर्टीफिकेट लगाया था।

news fact-

दस साल पुराना मामला, षडयंत्र में शामिल दो अन्य को भी मिली कैद
फर्जी अंकसूची से नौकरी का आवेदन देने वाले 15 उम्मीदवारों को सजा
बिजली कंपनी की जांच में सामने आया था फर्जीवाड़ा

 

officers dirty game, use  <a href=fake marksheet on jobs, mp government job , mp govt job 2018, mp govt jobs for 12th pass , mp vacancy upcoming" src="https://new-img.patrika.com/upload/2018/07/02/electroic_tower_3070318-m.jpg">

आवेदनों की जांच के दौरान अधिकारियों को सभी 15 लोगों के सर्टीफिकेट फर्जी प्रतीत हुए। कार्यपालन यंत्री ने सभी के खिलाफ 21 नवंबर 2008 को माधवनगर थाना में शिकायत दर्ज कराई। मामले की जांच के दौरान विद्यासागर औद्योगिक प्रशिक्षण केंद्र कटनी के प्राचार्य ने बताया कि आरोपियों ने उनके यहां कभी एडमिशन ही नहीं लिया था। सभी की अंकसूची फर्जी हैं। इसके बाद मामला न्यायालय में पहुंचा। एडीपीओ अभिषेक मेहलोत्रा ने बताया कि लगभग 10 साल से चल रहे प्रकरण में साक्ष्य के आधार पर द्वितीय अपर सत्र न्यायाधीश सुशील कुमार ने 15 जालसाजों को दो साल की सजा व एक हजार रुपये के अर्थदंड से दंडित किया है। वहीं गजेंद्र उरमलिया (40) विजयराघवगढ़ व रघुनंदन कोल (38) पहरुआ मंडी कटनी को 3 साल की सजा व 2500-2500 रुपये के अर्थदंड से दंडित किया है।

 

officers dirty game, use fake marksheet on jobs, mp government job, mp govt job 2018, mp govt jobs for 12th pass, mp vacancy upcoming

इन्हें मिली सजा
मुकेश कुमार पिता नारायण कोल (28) निवासी शांति नगर जबलपुर, श्यामलाल पिता नोनेलाल (23) निवासी ग्राम परौहा पिपरिया, कटनी, रामकरण पिता मुरारी कोल (37) निवासी परसवारा बरही, सुखलाल पिता रामफल (29) निवासी डीघी विजयराघवगढ़, अशोक कुमार पिता देवी प्रसाद कोरी (20) ग्राम पुरैनी माधवनगर, लेखराम पिता लक्ष्मण वर्मा (24) निवासी कुदरेही बरही, सदनलाल पिता ओमकार केवट (30) निवासी परसवारा बहोरीबंद, रामअवतार पिता जोधेराम कोल (30) निवासी संजय नगर कटनी, भोला प्रसाद पिता दुखीलाल कोल (28) निवासी सुहागी जबलपुर, प्रेमलाल पिता सु_ी 33 निवासी परसवाराकला बरही, गुड्डू प्रसाद पिता मनसुखलाल रजक (23) निवासी पुरैनी कटनी, राकेश कुमार पिता अंगद प्रसाद तिवारी (33) निवासी ग्राम पिपरिया विजयराघवगढ़, साकेत कुमार पटेल पिता गोरेलाल पटेल (22) निवासी रमपुरा उचेहरा जिला सतना शामिल हैं।

Lalit kostha Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned