मप्र आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय का गजब का कारनामा, डेढ़ साल से रिजल्ट घोषित नहीं, दो साल में वापस नहीं कर सके राशि

जबलपुर के मप्र आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय का कारनामा, कई वर्ष तक एक ही कुर्सी पर टिके रहे अधिकारियों की लापरवाही, सीएम हेल्पलाइन की पांच सौ से ज्यादा शिकायतें लम्बित

 

By: shyam bihari

Updated: 02 Mar 2021, 07:51 PM IST

 

जबलपुर। सीएम हेल्पलाइन पर भी मध्यप्रदेश आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय, जबलपुर से प्रताडि़त छात्र-छात्राओं को राहत नहीं मिल रही है। कई वर्ष तक एक ही कुर्सी में टिके रहे अधिकारियों ने सीएम हेल्पलाइन की शिकायतों को भी नजरअंदाज कर दिया। डेढ़ से दो साल से कई शिकायतों का निराकरण नहीं किया। जब ये अधिकारी विवि से चले गए तो इन मामलों का खुलासा हुआ। छात्र-छात्राओं की परीक्षा, परिणाम और प्रशासन संबंधी शिकायतें एक से दो वर्ष से लंबित हैं। सीएम हेल्पलाइन में एमयू से संबंधित पांच सौ से ज्यादा शिकायतें लंबित हैं। इसमें ज्यादातर शिकायतें परीक्षा, परिणाम और डिग्री जैसे मामलों की हैं। कुछ-कुछ शिकायतें 10 से 18 महीने पुरानी हैं। तत्कालीन परीक्षा-परिणाम के प्रभारी और प्रभारी कुलसचिव सीएम हेल्पलाइन में छात्रों की शिकायतों पर खानापूर्ति के जवाब देते रहे। मामूली दस्तावेजों की कमी के कारण अटके परीक्षा एवं परिणाम संबंधी प्रकरणों का निराकरण नहीं किया। छात्रों का आरोप है कि गैर चिकित्सकीय होने के कारण उन्हें परेशान होना पड़ा।
अनदेखी से लेवल-3 व 4 में पहुंच गई शिकायत
विवि स्तर पर कई बार समस्या की जानकारी देने के बाद भी जब सुनवाई नहीं हुई तो परेशान होकर छात्र-छात्राओं ने सीएम हेल्पलाइन की शरण ली। आधी से ज्यादा शिकायतें एल-3 और एल-4 लेवल तक पहुंच गई हैं। एमयू की लंबित शिकायतों को कलेक्टर कर्मवीर शर्मा ने गम्भीरता से लिया है। सीएम हेल्पलाइन की शिकायतों के जल्द से जल्द से निराकरण के निर्देश दिए हैं।

सीएम हेल्पलाइन में एम यू की शिकायतें
- 543 कुल शिकायतें लंबित हैं।
- 162 शिकायत एल-4 लेवल में।
- 165 शिकायत एल-3 लेवल में

650 दिन पुरानी शिकायत : ग्वालियर के एक छात्र ने बीइएमएस के प्रथम वर्ष 2018 की परीक्षा के लिए 4 हजार 66 रुपए ऑनलाइन शुल्क जमा किया। ट्रांजेक्शन फेल हो गया। लेकिन आवेदक को राशि वापस प्राप्त नहीं हुई। परीक्षा विभाग को आवेदन किया। जांच कराने कहा। कोइ संतोषजनक जवाब नहीं मिला।
538 दिन पुरानी शिकायत : एक छात्रा का पोस्ट बेसिक नर्सिंग द्वितीय वर्ष- 2018 की परीक्षा का परिणाम घोषित नहीं हुआ। विवि ने बताया कि नर्सिंग विशेषज्ञों का परामर्श लेने के बाद परिणाम घोषित होगा। परिणाम छात्रा के पक्ष में होने की जानकारी दी। लेकिन अभी तक उसे परिणाम की जानकारी नहीं दी गई।
397 दिन पुरानी शिकायत : नेताजी सुभाषचंद्र बोस मेडिकल कॉलेज के एक छात्र ने शिकायत की है उसकी डिप्लोमा एक्स-रे पाठ्यक्रम की परीक्षा मार्च-2018 में हुई है। अभी तक रिजल्ट नहीं आया है। विवि छात्र के दस्तावेज अधूरे होने की बात कहकर परिणाम रोकने की बात कह रहा है। लेकिन अधूरे दस्तावेज पूरे करके परिणाम घोषित नहीं कर रहा है।
382 दिन पुरानी शिकायत : एक छात्र ने एमडी एनेस्थीयोलॉजी की डिग्री के लिए दो साल पहले आवेदन किया है। छात्र ने शिकायत की है कि विवि से अभी तक कोई जवाब नहीं आया है। ना ही कोइ फोन रिसीव करता है। डिग्री के बिना नौकरी ज्वाइन करने में परेशानी होती है।
380 दिन पुरानी शिकायत : भोपाल के मानसरोवर कॉलेज के एक एमएससी के छात्र ने शिकायत की उसने माइग्रेशन के लिए 4 हजर 250 रुपए विवि को ऑनलाइन जमा किए। चूक से यह अलग मद में चले गए। इसे वापस करने के लिए आवेदन किया। अभी तक राशि छात्र को रिफंड नहीं हुई है।

shyam bihari Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned