एसएएफ जवान हत्याकांड: संदेह और प्रताडऩा ने पत्नी को बना दिया कातिल

चचेरी बहन व पड़ोस की नाबालिग सहेली संग चुनरी से गला घोटने के बाद मोपेड से लाश को लगाया था ठिकाने, 15 सेकेंड के वीडियो फुटेज और वायस रिकॉर्ड ने खोल दी हत्याकांड की गुत्थी

By: santosh singh

Published: 01 Jul 2019, 11:42 AM IST

जबलपुर. छठी बटालियन रांझी में पदस्थ एसएएफ जवान की गला घोट कर हत्या करने के सनसनीखेज प्रकरण का रविवार को पुलिस ने खुलासा किया। एसपी अमित सिंह ने बताया कि जवान की हत्या उसकी पत्नी ने चचेरी बहन और पड़ोस में रहने वाली नाबालिग सहेली के साथ मिलकर की थी। शराब पीकर रोज-रोज की पिटाई और संदेह करने से पत्नी परेशान थी। जवान लाखों की उधारी ले चुका था। शव ठिकाने लगाने में उसकी सास की भूमिका भी सामने आई। चारों को आरोपी बनाया गया है।

मां-बेटे के बयान अलग
एसपी सिंह के मुताबिक दुर्गा बेन ने बयान में बताया कि राकेश सुबह नौ बजे बेटे की फीस जमा करने निकला था। जबकि, बेटे ने बयान में दोपहर दो बजे निकलने की बात कही। दुर्गा ने ये भी बताया कि उसके पति ने सोनू सोनकर नाम के व्यक्ति से कर्ज लिया है। उसे लौटाने के लिए वह लोन लेने वाला था। सोनू की तलाश की गई, तो वह घर पर नहीं मिला।

एसएएफ जवान राकेश बेन
IMAGE CREDIT: patrika

अंगुलियों में फंसे थे महिला के बाल
एसपी सिंह के मुताबिक शव की शिनाख्त सोशल ग्रुप में फोटो वायरल करने पर एसएएफ क्वार्टर में रहने वाली दुर्गा बेन ने अपने पति राकेश बेन (35) के रूप में की। राकेश की अंगुलियों में महिला के बाल फंसे थे।

ऑडियो से खुला राज
रात 11.30 बजे खमरिया थाने की महिला आरक्षक आरती सोनकर के पास उसके भाई सोनू सोनकर ने ऑडियो रिकॉर्डिंग भेजी। उसमें दुर्गा की ओर से हत्या की बात कहते हुए शव ठिकाने लगाने में मदद मांगी गई थी। ये ऑडियो दुर्गा को सुनाया गया, तो उसने हत्या की बात स्वीकार कर ली।

लाश मिलने के बाद परिजन इस हालत में
IMAGE CREDIT: patrika

हत्या की ये बताई कहानी
शुक्रवार रात 11 बजे राकेश नशे में घर पहुंचा और दुर्गा से मारपीट की। इसके बाद दुर्गा ने चचेरी बहन संजय नगर कॉलोनी निवासी काजल और पड़ोस में रहने वाली 16 वर्षीय सहेली के साथ मिलकर राकेश का चुनरी से गला घोटकर शव बोरे में भर दिया। सुबह पांच बजे उसने बम्हनी बंजर मंडला निवासी मां सुकरानी को घटना के बारे में बताया। दोपहर में वह घर पहुंची। दोपहर सवा दो बजे दुर्गा ने सहेली की मोपेड पर राकेश के शव को बीच में बैठाने की मुद्रा में रखा। मोपेड चचेरी बहन चला रही थी। पीछे पति की लाश को सहारा देने के लिए दुर्गा बैठ गई। वेस्टलैंड होते हुए पुरानी पुलिस लाइन के पास सूनसान जगह में शव फेंक कर दोनों घर आ गईं। उनके पीछे सहेली व उसकी मां भी ऑटो से गई थी। 3.35 बजे खमरिया फैक्ट्री के फायरमैन पवन गोटियां ने शव देख पुलिस को खबर दी।

सीसीटीवी में कैद दिखी पत्नी दुर्गा व चचेरी बहन
IMAGE CREDIT: patrika

सीसीटीवी फुटेज में भी दिखी
पुलिस ने मोबाइल, मोपेड, मृतक के अंगुलियों में फंसे बाल, और डस्टबिन में फेंका गया बोरा बतौर साक्ष्य जब्त किया। वेस्टलैंड पोस्ट ऑफिस मोड पर लगे सीसीटीवी कैमरे में दोनों दोपहर 2.52 बजे मोपेड से जाती दिख रही हैं। पुलिस ने 15 सेकेंड का वीडियो फुटेज भी जब्त किया।

 

Show More
santosh singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned