scriptSuper specialty facilities are also available along with basic | जबलपुर मेडिकल कॉलेज में बेसिक के साथ सुपर स्पेशलिटी की सुविधाएं भी उपलब्ध | Patrika News

जबलपुर मेडिकल कॉलेज में बेसिक के साथ सुपर स्पेशलिटी की सुविधाएं भी उपलब्ध

राज्य सरकार ने हाईकोर्ट को बताया, 20 साल बाद जनहित याचिका का पटाक्षेप

जबलपुर

Published: January 07, 2022 07:35:20 pm

जबलपुर. राज्य सरकार की ओर से मप्र हाईकोर्ट को बताया गया कि जबलपुर मेडिकल कॉलेज में स्पाइनल इंजुरी सेंटर व कैंसर अस्पताल सहित अन्य सभी आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध करा दी गई हैं। मरीजों को बेसिक सुविधाओं के साथ सुपर स्पेशलिटी की सुविधाएं भी मिल रही हैं। जवाब को रिकॉर्ड पर लेकर चीफ जस्टिस रवि मलिमठ व जस्टिस पीके कौरव की डिवीजन बेंच ने 20 सालों से लम्बित एक जनहित याचिका का पटाक्षेप कर दिया।

Jabalpur High Court
Jabalpur High Court

2001 में लगी थी याचिका
इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) के तत्कालीन सचिव डॉ अरविंद जैन, डॉ ब्रजेश अग्रवाल व प्रीतिंकर दिवाकर (वर्तमान में इलाहाबाद हाईकोर्ट के जज) की ओर से 2001 में यह याचिका दायर की गई थी। इसमें कहा गया था कि जबलपुर मेडिकल कॉलेज में स्वास्थ्य सेवाएं बदहाल हैं। यहां मूलभूत सुविधाओं की कमी है। जबलपुर मेडिकल कॉलेज को चंडीगढ़ के पीजीआई की तर्ज पर विकसित करने का आग्रह किया गया था। याचिका की सुनवाई के दौरान समय-समय पर दिए गए हाईकोर्ट के दिशानिर्देशों के चलते मेडिकल कॉलेज अस्पताल में कई सुविधाएं उपलब्ध कराई गईं।

पेश की एक्शन टेकन रिपोर्ट
16 नवम्बर 2021 को सरकार की ओर से प्रस्तुत एक्शन टेकन रिपोर्ट में सर्जरी, मेडिसिन, पीडियाट्रिक्स, सुपर स्पेशलिटी सुविधाओं की जानकारी दी गई। कोर्ट को बताया गया कि मेडिकल कॉलेज में 80 बिस्तरों का रीजनल स्पाइनल इंजुरी सेंटर चल रहा है। यहां न्यूरो सर्जरी, न्यूरोलॉजी कार्डियोलॉजी व न्यूरो रेडियोलॉजी की सुपर स्पेशलिटी सुविधाएं भी हैं। 1983 से कैंसर अस्पताल सचालित है। इसमे 70 बेड हैं। 152 स्वीकृत पदों में से 92 कर्मी कार्यरत हैं। 24 नवम्बर 2021 को हाईकोर्ट ने फिर से ताजा एक्शन टेकन रिपोर्ट मांगी थी। इस पर सरकार की ओर पदस्थ डॉक्टर, पैरामेडिकल व अन्य सुविधाओं की जानकारी देते हुए बताया गया कि अब मेडिकल कॉलेज अस्पताल जबलपुर में पर्याप्त स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध हैं। सुनवाई के बाद कोर्ट ने सरकार की रिपोट्र्स को संज्ञान में लेकर कहा कि अब याचिका का मकसद पूरा हो गया है। यह कहते हुए याचिका निराकृत कर दी गई। राज्य सरकार का पक्ष उपमहाधिवक्ता स्वप्निल गांगुली ने रखा।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

ज्योतिष: ऊंची किस्मत लेकर जन्मी होती हैं इन नाम की लड़कियां, लाइफ में खूब कमाती हैं पैसाशनि देव जल्द कर्क, वृश्चिक और मीन वालों को देने वाले हैं बड़ी राहत, ये है वजहताजमहल बनाने वाले कारीगर के वंशज ने खोले कई राजपापी ग्रह राहु 2023 तक 3 राशियों पर रहेगा मेहरबान, हर काम में मिलेगी सफलताजून का महीना इन 4 राशि वालों के लिए हो सकता है शानदार, ग्रह-नक्षत्रों का खूब मिलेगा साथJaya Kishori: शादी को लेकर जया किशोरी को इस बात का है डर, रखी है ये शर्तखुशखबरी: LPG घरेलू गैस सिलेंडर का रेट कम करने का फैसला, जानें कितनी मिलेगी राहतनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

IPL 2022: टिम डेविड की तूफानी पारी, मुंबई ने दिल्ली को 5 विकेट से हराया, RCB प्लेऑफ मेंपेट्रोल-डीज़ल होगा सस्ता, गैस सिलेंडर पर भी मिलेगी सब्सिडी, केंद्र सरकार ने किया बड़ा ऐलान'हमारे लिए हमेशा लोग पहले होते हैं', पेट्रोल-डीजल की कीमतों में कटौती पर पीएम मोदीArchery World Cup: भारतीय कंपाउंड टीम ने जीता गोल्ड मेडल, फ्रांस को हरा लगातार दूसरी बार बने चैम्पियनआय से अधिक संपत्ति मामले में ओम प्रकाश चौटाला दोषी करार, 26 मई को सजा पर होगी बहसऑस्ट्रेलिया के चुनावों में प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन हारे, एंथनी अल्बनीज होंगे नए PM, जानें कौन हैं येगुजरात में BJP को बड़ा झटका, कांग्रेस व आदिवासियों के लगातार विरोध के बाद पार-तापी नर्मदा रिवर लिंक प्रोजेक्ट रद्दजापान में होगा तीसरा क्वाड समिट, 23-24 मई को PM मोदी का जापान दौरा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.