scriptBastar shanti Cycle yatra start slogan of shanti | आदिवासियों को शांति दो, मध्यभारत में शांति हो... नारे के साथ निकाली साइकिल यात्रा | Patrika News

आदिवासियों को शांति दो, मध्यभारत में शांति हो... नारे के साथ निकाली साइकिल यात्रा

शांति मार्च के तीसरे चरण का आगाज 'बस्तरवासियों को शांति दो, आजादी दो' नारे के साथ शुरू हुई।

जगदलपुर

Published: February 23, 2019 03:29:51 pm

जगदलपुर. 40 से भी अधिक साल से माओवाद का दंश झेल रहे बस्तरवासियों के लिए शुक्रवार से शांति मार्च के तीसरे चरण का आगाज 'बस्तरवासियों को शांति दो, आजादी दो' नारे के साथ शुरू हुई। शुक्रवार को दंतेश्वरी मंदिर के सामने से 300 से अधिक माओवाद और सलवा जुडूम पीडि़तों का दल बस्तर में शांति के लिए साइकिल शांति मार्च पर निकला। इस दौरान आदिवासियों को आजादी दो के नारे भी लगाए।
Chhattisgarh news
गौरतलब है कि बस्तर में छिड़े सरकार और माओवादी के बीच घोषित युद्ध में आदिवासी सालों से फंसा हुआ है। ऐसे में जब तक यह लड़ाई थम नहीं जाती तब तक इन इलाकों में रहने वाले आदिवासियों को राहत नहीं मिलेगी। शुक्रवार की सुबह साढ़े 9 बजे मार्च शामिल होने आए बीजापुर, सुकमा और जिलों व प्रदेशों के 300 से अधिक लोग दंतेश्वरी मंदिर के बाहर एकजुट हुए।
इसके बाद यहां आदिवासी समाज के दिग्गजों और पद्मश्री धर्मपाल सैनी ने हरी झंडी दिखाकर इन्हें रवाना किया। इसके बाद आदिवासियों की पारम्परिक सांस्कृतिक और नारे के साथ यह यात्रा शुरू हुई। साइकल यात्री अपने साथ राशन पानी भी ले रखा है। यात्री सभी बस्तर में कुछ देर रूके इसके बाद भानपुरी में जाकर यह रैली समाप्त हुई। संयोजक शुभ्रांशु चौधरी, सोशल एक्टिविस्ट डॉ शेख हनीफ, शबरी गांधी आश्रम चेट्टि के ए वी वी चंद्रशेखर साथ चल रहे हैं।
शांति के लिए बापू का रास्ता
इस पहल के जरिए सभी पक्षों से अपील करना चाहते हैं, कि जो आपसी मतभेद हैं, उन्हें गांधीवादी तरीके से क्या हल नहीं किया जा सकता। यह लंबी लड़ाईयह लंबी लड़ाई है, इसमें जल्द ही कुछ होगा ऐसी कोई उम्मीद नहीं है। लेकिन शांति प्रकिया चलनी चाहिए। सफल हो या नहीं, लेकिन प्रयास होना चाहिए। आदिवासियों के नेतृत्व में यह हो रहा है बड़ी बात है। पीडि़तों के नेतृत्व में आंदोलन चले, तो आंदोलन के सफल होने की उम्मीद बढ़ जाती है। इसमें पीडि़त आदिवासी बड़ी संख्या में शामिल हैं।
माओवादियों के विरोध में नहीं है रैली
माओवादियों का एक पत्र आया है, जिसमें उन्होंने कहा कि यह रैली उनके खिलाफ है। लेकिन ऐसा नहीं है। वे सभी पक्ष जिनके चलते यह अशांति फैली है, उनसे हम शांति की अपील कर रहे हैं। क्योंकि इस हिंसा में मासूम आदिवासी मारे जा रहे हैं और वे ही बाहर निकलकर कहना चाह रहे हैं, ताकि शांतिपूर्ण तरीके से इसका हल निकले। यह रैली किसी के भी विरोध में नहीं है, शांति के पक्ष में है। आदिवासी प्रकृति प्रेमी, नहीं चाहिए सुरक्षा, प्रकृति करेगी रक्षा शांति मार्च में शमिल हुए आदिवासियों ने कहा कि वे दोनो ही पक्षों की हिंसा से परेशान हैं। इसलिए जरूरत है कि शांति हो। आदिवासी प्रकृति प्रेमी है, और यह इलाका आदिवासियों का है इसलिए उन्हें डर नहीं है। उनकी रक्षा प्रकृति करेगी,सुरक्षा नहीं चाहिए। इस मार्च में दंडकारणय इलाके के गोंड समाज के प्रमुख लोग शामिल हुए हैं।
हम किसी के विरोध में नहीं
इस साइकिल यात्रा के विरोध में माओवादियों की डीकेएसजेडसी ने पर्चा जारी किया था। इस पर सुभ्रांशु ने कहा कि यह मार्च किसी के विरोध में नहीं है।

मध्य भारत की अशांति, उसे तोडऩे शुरू की पहल
इस यात्रा के संयोजक सुभ्रांशु दंडकारण्य में पिछले 40 से हिंसा का दौर चल रहा है, लेकिन इस अशांति के लिए शांति है। इस चुप्पी को तोडऩे और शांति के लिए माहौल बनाने के लिए पहले चरण में बैठक, दूसरे चरण में गांधी जयंती की 150 वीं जयंती के मौके पर एक शुरूआत की गई है। और अब तीसरे चरण में राजधानी तक की साइकिल यात्रा की जा रही है।
कुछ ऐसा है कार्यक्रम
इसलिए बस्तर में शांति के लिए इस बैठक में प्रक्रिया को अगली कड़ी के रूप में पदयात्रा को आगे ले जाते हुए 22 फरवरी से बस्तर के जगदलपुर से छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर तक एक शांति साइकिल यात्रा का आयोजन किया जा रहा है। यह साइकिल यात्रा 28 फरवरी 2019 को रायपुर पहुंचेगी और उसके बाद 1 और 2 मार्च को रायपुर में बस्तर डायलॉग-2 का आयोजन किया जाएगा। इसमें सरकार पर विभिन्न मांगों के साथ यह दबाव डालने का प्रयास किया जाएगा कि सरकार द्वारा सुकमा जिले के तत्कालीन कलेक्टर एलेक्स पॉल मेनन के समय जो वादा किया गया था उसे पूरा करे ताकि शांति वार्ता के लिए बेहतर माहौल तैयार हो सके।
 

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

जयपुर में एक स्वीमिंग पूल में रात का सीसीटीवी आया सामने, पुलिसवालें भी दंग रह गएकचौरी में छिपकली निकलने का मामला, कहानी में आया नया ट्विस्टइन 4 राशियों के लोग होते हैं सबसे ज्यादा बुद्धिमान, देखें क्या आपकी राशि भी है इसमें शामिलचेन्नई सेंट्रल से बनारस के बीच चली ट्रेन, इन स्टेशनों पर भी रुकेगीNumerology: इस मूलांक वालों के पास धन की नहीं होती कमी, स्वभाव से होते हैं थोड़े घमंडीबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयधन कमाने की योजना बनाने में माहिर होती हैं इन बर्थ डेट वाली लड़कियां, दूसरों की चमका देती हैं किस्मतCBSE ने बदला सिलेबस: छात्र अब नहीं पढ़ेगे फैज की कविता, इस्लाम और मुगल साम्राज्य सहित कई चैप्टर हटाए

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: एक्शन में शिवसेना! अयोग्य करार देने के लिए डिप्टी स्पीकर को भेजा 4 और MLA के नाम, 16 बागियों पर भी कार्रवाई की तैयारीMaharashtra Political Crisis: सड़क पर शिवसैनिकों के उपद्रव का डर, हाई अलर्ट पर मुंबई समेत राज्य के सभी पुलिस थानेMumbai News Live Updates: शिंदे के गढ़ ठाणे में निषेधाज्ञा लागू, 30 जून तक खुलेआम लाठी-डंडे, हथियार लेकर चलना व पोस्टर जलाना प्रतिबंधितNDA की राष्ट्रपति उम्मीदवार पर रामगोपाल वर्मा ने किया विवादित ट्वीट, BJP ने दर्ज कराई शिकायतपाकिस्तान की खुली पोल, 26/11 मुंबई हमले का मास्टर माइंड साजिद मीर जिंदा, ISI ने मोस्ट वांटेड आतंकी को बताया था मराअमरीकी सुप्रीम कोर्ट ने खत्म किया गर्भपात का अधिकार: बाइडेन बोले, ट्रंप द्वारा नियुक्त जज छीन रहे महिलाओं के फंडामेंटल राइटयूपी में नमाज के बाद उपद्रव मचाने वालों के घर पर चला बाबा का बुलडोजर, देखें वीडियोनॉर्वे की राजधानी ओस्लो में नाइट क्लब में अंधाधुंध फायरिंग, 2 की मौत
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.