script40 injured in kite flying, four hospitalized | jaipur kite पतंगबाजी में 40 घायल, चार अस्पताल में भर्ती | Patrika News

jaipur kite पतंगबाजी में 40 घायल, चार अस्पताल में भर्ती

छत से गिरने वालों में ज्यादातर 10 से 13 साल के बच्चे हैं, वहीं मांझे से कटने और पतंग लूटने के चक्कर में घायल होकर भी बड़ी संख्या में लोग अस्पताल पहुंचे हैं।

 

जयपुर

Published: January 14, 2022 09:24:55 pm

जयपुर।

मकर संक्रांति पर पंतगबाजी के दौरान छत से गिरकर और मांझे से कटकर 40 लोग एसएमएस अस्पताल के ट्रोमा सेंटर पहुंचे। जिनमें से चार के सिर में गंभीर चोट आने की वजह से भर्ती किया गया है, शेष को उपचार कर घर भेज दिया गया।
  Makar Sankranti 2022
Makar Sankranti 2022
एसएमएस अस्पताल अधीक्षक डॉ. विनय मल्होत्रा ने बताया कि मकर संक्रांति पर छत से गिरने, मांझे से कटने के मामले बढ़ जाते हैं, ऐसे में अस्पताल में उपचार के लिए विशेष इंतजाम किए गए थे। उन्होंने बताया कि ज्यादातर फ्रेक्चर, नाक, मुंह पर कट लगने वाले मरीज अस्पताल पहुंचे।
ज्यादातर बच्चे
छत से गिरने वालों में ज्यादातर 10 से 13 साल के बच्चे हैं, वहीं मांझे से कटने और पतंग लूटने के चक्कर में घायल होकर भी बड़ी संख्या में लोग अस्पताल पहुंचे हैं।
तीन सौ से ज्यादा कबूतर और पक्षी घायल

मकर संक्रांति पर मांझे में उलझकर करीब 300 पक्षी घायल हुए, जिनको सामाजिक संगठनों की ओर से लगाए गए पक्षी चिकित्सा शिविर में लाया गया। जहां पर पक्षियों का इलाज किया गया। इनमें ज्यादातर कबूतर है, लेकिन इनमें तोता, कमेडी, चील और बाज भी शामिल हैं।
अशोक विहार स्थित वन विभाग के पक्षी चिकित्सा शिविर में शुक्रवार को पतंग के मांझें में उलझकर घायल हुए 16 कबूतरों को भर्ती किया गया। यहां पर बीते तीन दिन में कुल 129 घायल पक्षियों को लाया गया है। राजस्थान जनमंच की ओर से मालवीय नगर में संचालित पक्षी चिकित्सालय में शुक्रवार को 110 कबूतर, चिड़िया, तोता सहित अन्य पक्षियों को को भर्ती किया गया है। इसी के साथ शहर में कई सामाजिक संगठनों ने पक्षियों के उपचार के लिए शिविर लगाए हैं, शुक्रवार को शहर में तीन सौ से ज्यादा पक्षियों को इन पक्षी चिकित्सा शिविर में लाया गया।
डोर मांझा नहीं छोड़े

मालवीय नगर में पक्षी चिकित्सा चिकित्सालय संचालक कमल लोचन ने बताया आजकल पतंगबाजी के दौरान मांझा छत पर छोड़ देते हैं। यह दीवारों, पक्ष या छत से नीचे लटका रहता है जो पक्षियों के लिए खतरनाक साबित होता है। ऐसे में बेकार मांझा, डोर समेटकर एक तरह रखें ताकि पक्षी उनके जाल में नहीं फंसे।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीजब हनीमून पर ताहिरा का ब्रेस्ट मिल्क पी गए थे आयुष्मान खुराना, बताया था पौष्टिकIndian Railways : अब ट्रेन में यात्रा करना मुश्किल, रेलवे ने जारी की नयी गाइडलाइन, ज़रूर पढ़ें ये नियमधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजशेखावाटी सहित राजस्थान के 12 जिलों में होगी बरसातदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

देश में वैक्‍सीनेशन की रफ्तार हुई और तेज, आंकड़ा पहुंचा 160 करोड़ के पारपाकिस्तान के लाहौर में जोरदार बम धमाका, तीन की नौत, कई घायलजम्मू कश्मीर में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी कामयाबी, लश्कर-ए-तैयबा का आतंकी जहांगीर नाइकू आया गिरफ्त मेंCovid-19 Update: दिल्ली में बीते 24 घंटे के भीतर आए कोरोना के 12306 नए मामले, संक्रमण दर पहुंचा 21.48%घर खरीदारों को बड़ा झटका, साल 2022 में 30% बढ़ेंगे मकान-फ्लैट के दाम, जानिए क्या है वजहकर्नाटक में कोरोना की रफ्तार तेज, 47  हजार से अधिक नए मामलेरामगढ़ पचवारा में बरसे टिकैत, कहा किसानों की जमीन को छीनने नहीं दिया जाएगाप्रदेश के डेढ़ दर्जन जिलों में रेत का अवैध परिवहन जारी, सरकार को करोड़ों का नुकसान
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.