scriptAaj Ka Rashifal 1 February: Know what your stars say today | Aaj Ka Rashifal 1 February : जानिए क्या कहते हैं आज आपके सितारे, बता रहे हैं तीन ज्‍योतिषाचार्य | Patrika News

Aaj Ka Rashifal 1 February : जानिए क्या कहते हैं आज आपके सितारे, बता रहे हैं तीन ज्‍योतिषाचार्य

locationजयपुरPublished: Jan 31, 2024 06:46:23 pm

Submitted by:

Shipra Gupta

1 Februaryपढ़े तीन ज्‍योतिषियों से राशिफल स‍मेत फैमिली एस्‍ट्रो स्‍पेशल सिर्फ पत्रिका पर

rashifal_1.png
आपके सवालों के जवाब फैमिली एस्ट्रो स्पेशल पर
ज्योतिषाचार्य: पं. मुकेश भारद्वाज के साथ

यहां पाएं चार तरह की एस्ट्रो विधाओं के टिप्स
1). अंकगणित
2). टैरो कार्ड
3). वैदिक ज्योतिष (सनसाइन-मूनसाइन)
4). वास्तु शास्‍त्र
यह कॉलम उन पाठकों के लिए है जो ज्योतिष शास्त्र के माध्यम से भविष्य के पूर्वानुमानों में भी रुचि रखते हैं। भविष्य के पूर्वानुमान लगाने की लगभग सभी लोकप्रिय विधाओं को समाहित कर इस क्षेत्र में रुचि रखने वाले पाठकों के लिए यह देश में एक नए तरह की पहल है। जिसमें पाठक ना केवल दिन से जुड़ी सम्भावनाओं की जानकारी लें सकेगें साथ ही भविष्य से जुड़े प्रश्न भेज पूर्वानुमान प्राप्त कर सकेगें।
इस कॉलम में अंकगणित टैरो कार्ड, सनसाइन, वैदिक ज्योतिष एवं मून साइन के अनुसार ग्रह नक्षत्र के समग्र प्रभाव का पूर्वानुमान और संभावना पर लगातार जानकारियों को साझा करेंगे।
mukesh_1.jpgज्योतिर्विद पं. मुकेश भारद्वाज

अंकगणित के अनुसार आज का मूलांक 1 और भाग्यांक 2 है। आज के दिन में जहां एक ओर सभी कार्यों को करने के लिए प्रबंधकीय दक्षता की ऊर्जा प्रचुर मात्रा में उपलब्ध रहेगी। वहीं दूसरी ओर भावनात्मक चीजों में सही संतुलन और उन पर आधारित कार्यों को लेकर के भी सकारात्मक दृष्टिकोण रहेगा। इस तरह से आज का दिन एक बेहद संतुलित और विशिष्ट दर्ज की सफलता दिलाने वाला हो सकता है। यह उन लोगों के लिए और बेहतर हो सकता है जो अपने कार्यों में भावनात्मक दृष्टिकोण पहले से ही सामाजिक करके चलते हैं। मूलांक 1,2,3,5,7 और 9 वालों के लिए आज का दिन बेहतर साबित हो सकता है।
वैदिक ज्योतिष (मूनसाइन — सनसाइन )

मूनसाइन के अनुसार आज का दिन भावनात्मक कार्यों के लिए ने केवल बेहतर है बल्कि अगर कहीं साहस और आपस में किसी कार्य को लेकर सम्मिलित दृष्टिकोण की आवश्यकता है तो उसे भी आज प्रकृति की ओर से पूरा समर्थन मिल रहा है। आज उन सभी लोगों को जो अपने भावनात्मक रिश्तों को बेहतर करने या बातचीत के जरिए आगे बढ़ाने या किन्हीं कर्म से अगर पिछले दिनों उन में नकारात्मकता आ गई है तो उसे समाप्त करने के लिए आज के दिन का उपयोग कर सकते हैं।
सनसाइन के अनुसार आज का दिन कार्यस्थल पर तीव्र गति से कार्यों को पूरा करने का रह सकता है। आज जहां एक और सूर्य की प्रचुर मात्रा में ऊर्जा उपलब्ध रहेगी। वहीं दूसरी ओर चंद्रमा की सूक्ष्म दृष्टि भी उपलब्ध रहेगीं ऐसे में साहस और सुखद दृष्टि और भावनात्मक केयर से जुड़ा होगा। आज का दिन कार्यस्थल पर न केवल उत्साहजनक रहेगा बल्कि पिछले कार्यों को पूरा करते हुए नए कार्यों की सही रूपरेखा बनाने और हाथ में जो कार्य हैं। उनको बेहद सटीक और बेहतर प्रबंधन के साथ करने के लिए पर्याप्त ऊर्जा प्रदान कर रहा है। सावधानी केवल यह रखती है कि ने ज्यादा कठोरता और नए ज्यादा भावुकता यानी दोनों है। आज के दिन में तो किसी एक पक्ष को अधिक काम में न लेने का ध्यान रखना होगा।

कैसा रहेगा साप्ताहिक विद्यार्थी राशिफल

विद्यार्थियों के लिए आने वाला सप्ताह अधिक परिश्रम भरा हो सकता है। जहां एक ओर काल्पनिक कार्यों, मित्रता व भावनात्मक कॉसेस पर काम करने का मन करेगा। वहीं दूसरी ओर आगामी प्रतियोगिता व परीक्षा के लिए कठिन मेहनत करनी होगी। पिछले एग्जाम में जो कमी रह गई थी उसे पूरा करने का दबाव रह सकता है। इस बीच विद्यार्थियों को भावनाओं और कर्तव्य के बीच संतुलन में जो सफल होगे वो इस सप्ताह का बेहतर उपयोग कर पाएंगे। इस सप्ताह के नकारात्मक प्रभाव के लिए भी मानसिक रूप से तैयार रहना होगा। परिणाम में बेहतर स्थान के लिए मॉर्निंग हॉर्स यानी सूर्योदय से पूर्व के समय को अगर आप काम में लेंगे तो ज्यादा बेहतर परिणाम पा सकेंगे।

आपका सवाल

प्रश्न: फरवरी में पीले रंग के कपड़े पहनने का क्या महत्व है? — सीता चौहान

उत्तर: पीले रंग सात्विक ऊर्जा का प्रतिनिधित्व करता है। पीला रंग ज्ञान प्राप्त करना, कार्यों में धन उपार्जन की ऊर्जा मन और आसपास के वातावरण में व्यापत करता है। पीला रंग आध्यात्मिक रूप से बेहतर होने के साथ ही धन की स्थिति को बेहतर बनाने के लिए भी श्रेष्ठ उपाय है। फरवरी के महीने में पीत वस्त्र पहनने से शैक्षणिक और बौद्धिक कार्यों के प्रति सजग बनते हैं। साथ ही दूसरों के साथ भावनात्मक या बौद्धिक स्तर के कार्यों में अधिक ऊर्जा प्राप्त करने का श्रेष्ठ माध्यम हो सकता है।
shyam_narayan_1.jpgज्यो. पं चंदन श्यामनारायण व्यास, पंचांगकर्ता


मेष : दूसरे के भरोसे अपना नुकसान कर लेंगे। आर्थिक मामलों में आज लाभ होगा। कार्यस्थल पर प्रलोभन से बचें।

वृषभ: परिजन व मित्रों से मुलाकात और उपहार प्राप्त हो सकते हैं। वाणी पर संयम रखें अन्यथा काम बिगड़ सकते हैं।
मिथुन: दिन शुभ है। सुबह से ही कार्यों की व्यस्तता बनी रहेगी। उत्साहपूर्वक व्यावसायिक योजनाओं को पूरा करेंगे।

कर्क: काम की व्यस्तता में परिवार को नजरअंदाज कर रहे हैं। अपरिचित व्यक्तियों के सहयोग से आत्मविश्वास बढ़ेगा।
सिंह: परिजनों के साथ सत्संग का लाभ मिलेगा। व्यक्तिगत समस्या का निदान होगा। व्यापारिक कार्य से यात्रा हो सकती है।

कन्या: आज का दिन आप मेहमानों की खातिरदारी में लगे रहेंगे। दोस्तों के साथ मौज-मस्ती में समय बीतेगा।
तुला: व्यवसाय में सतर्कता व सावधानीपूर्वक योजना बनाएं। विद्यार्थी शिक्षा में सफलता अर्जित करेंगे।

वृश्चिक: आज लाभकारी निवेश बढ़ेगा। बड़े एवं प्रतिष्ठित लोगों से संबंधों का लाभ मिलेगा। वाहन प्राप्ति के योग है।
धनु: आज व्यापार अच्छा चलेगा। पारिवारिक वातावरण खुशनुमा रहेगा। यात्रा लाभदायक रहेगी। आशानुरूप आमदनी होगी।

मकर: दिन की शुरुआत भक्ति भाव से होगी। स्थायी संपत्ति, क्रय-विक्रय से लाभ होगा। अनुभव का लाभ मिलेगा।
कुम्भ: समय पर काम होने से राहत मिलेगी। व्यापार-व्यवसाय में अनुभव से लाभ होगा। निवेश में सफलता मिलेगी।

मीन: कारोबार में दूसरों पर अधिक विश्वास न करें। व्यवहार कुशलता के बल पर समस्या का समाधान होगा।
ghanshyam_1.jpgग्रह-नक्षत्र : ज्योतिर्विद: पं. घनश्यामलाल स्वर्णकार


शुभ वि. सं: 2080
संवत्सर का नाम: पिङ्गल
शाके सम्वत: 1945
हिजरी सम्वत : 1445
मु.मास: रज्जब- 20
अयन: उत्तरायण
ऋ तु: शिशिर
मास: माघ
पक्ष: कृष्ण

श्रेष्ठ चौघडिय़ा: आज सूर्योदय से प्रात: 08-38 बजे तक शुभ, पूर्वाह्न 11-19 बजे से अपराह्न 03-22 बजे क्रमश: चर, लाभ व अमृत तथा सायं 04-41 बजे से सूर्यास्त तक शुभ के श्रेष्ठ चौघडि़ए हैं एवं दोपहर 12-18 बजे से दोपहर 01-02 बजे तक अभिजित नामक श्रेष्ठ मुहूर्त है, जो आवश्यक शुभकार्यारम्भ के लिए अत्युत्तम हैं।

शुभ तिथि: षष्ठी नन्दा संज्ञक तिथि दोपहर बाद 02-04 बजे तक, तदुपरान्त सप्तमी भद्रा संज्ञक शुभ तिथि है। षष्ठी तिथि में काठ की दातुन, यात्रा, उबटन तथा चित्रकारी के कार्यों को छोडक़र वास्तु, विवाहादि मांगलिक कार्य, अलंकारादिक कार्य तथा अन्य घरेलू कार्य और उत्सवादिक करने योग्य है।

नक्षत्र: चित्रा ‘‘मृदु व तिङर्् यंमुख’’ संज्ञक नक्षत्र अन्तरात 03-49 बजे तक, तदुपरान्त स्वाति ‘‘चर व तिङर्् यंमुख’’ संज्ञक नक्षत्र है। चित्रा नक्षत्र में शान्ति, पुष्टता, कारीगरी, वास्तु, अलंकार, वस्त्र, जनेऊ, कृषि और सभी स्थिर संज्ञक कार्य शुभ कहे हैं।
योग: धृति नामक नैसर्गिक शुभ योग दोपहर 12-27 बजे तक, तदन्तर शूल नामक नैसर्गिक अशुभ योग है। शूल योग की प्रथम पांच घटी शुभकार्यों में त्याज्य है।

विशिष्ट योग: रवियोग नामक दोष समूह नाशक शुभ योग रात्रि 03-49 बजे तक। रवियोग सभी प्रकार के कुयोगों की अशुभताओं को दूर करता है।
करण: वणिज नामकरण दोपहर बाद 02-04 बजे तक, तदुपरान्त रात्रि 03-03 बजे तक भद्रा है।

व्रतोत्सव : आज मेला मस्तुआणां समाप्त (पंजाब में)।

ग्रह राशि-नक्षत्र परिवर्तन : बुध मकर राशि में दोपहर बाद 02-21 बजे से तथा मंगल उत्तराषाढ़ा नक्षत्र में दोपहर 12-53 बजे से।
चंद्रमा : दोपहर बाद 02-32 तक कन्या राशि में, इसके बाद तुला राशि में होगा।
शुभ मुहूर्त: आज चित्रा नक्षत्र में विवाह (दिवा) स्वाति रात्रि लग्न (शनि वेध दोष), गृहारम्भ, गृह-प्रवेश, देव-प्रतिष्ठा, विपणि-व्यापारारम्भ, वाहन क्रय करना, मशीनरी प्रा., प्रसूतिस्नान, चौल, मुण्डन, सगाई, रोका, अक्षरारम्भ, कर्ण-वेध आदि कार्य शुभ व सिद्ध होते हैं।
दिशाशूल: गुरुवार को दक्षिण दिशा की यात्रा में दिशाशूल रहता है, पर आज दोपहर 02-32 बजे तक चन्द्रमा कन्या राशि में होने से चन्द्रवास दक्षिण दिशा में तथा तुला राशि के चन्द्रमा का पश्चिम दिशा में होगा। यात्रा में सम्मुख चन्द्र लाभदायक व शुभ माना जाता है।
राहुकाल (मध्यममान से): दोपहर बाद 1-30 बजे से अपराह्न 3-00 बजे तक राहुकाल वेला में शुभकार्यारम्भ यथासम्भव वर्जित रखना हितकर है।

आज जन्म लेने वाले बच्चे: आज जन्म लेने वाले बच्चों के नाम (पे, पो, र, री, रु) आदि अक्षरों पर रखे जा सकते हैं। दोपहर बाद 02-32 बजे तक जन्मे जातकों की जन्म राशि कन्या व इसके बाद जन्मे जातकों की जन्म राशि तुला है। कन्या राशि के स्वामी बुध व तुला राशि के स्वामी शुक्र हैं। इनका जन्म रजतपाद से है। सामान्यत: ये जातक बुद्धिमान, साहसी, धनवान, सुशील, सुन्दर लिखावट वाले तथा प्रकृति प्रेमी और सौन्दर्य-प्रसाधन प्रेमी होते हैं। इनका भाग्योदय 32-33 वर्ष की आयु के बाद होता है। कन्या राशि वाले जातकों को लाभ तो होगा, पर कार्यक्रमों व उत्सव आदि पर व्यय अधिक करना पड़ेगा।

ट्रेंडिंग वीडियो