कोरोना इफेक्ट : यूनिवर्सिटी और कॉलेजों की नेशनल रैंकिंग स्थगित

अभी नहीं आएगी नेशनल इंस्टिट्यूशनल फ्रेमवर्क रैंकिंग (एनआईआरएफ) की रिपोर्ट, कोविड-19 की वजह से रैंकिंग को किया स्थगित, पिछले साल 8 अप्रेल को आई थी रिपोर्ट

 

By: MOHIT SHARMA

Updated: 07 Apr 2020, 12:19 PM IST

जयपुर। कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने के लिए देशभर में लॉकडाउन है, ऐसे में इस बार नेशनल इंस्टिट्यूशनल फ्रेमवर्क रैंकिंग (एनआईआरएफ) की रिपोर्ट नहीं आएगी। एक साल से सभी कॉलेज और यूनिवर्सिटी इसकी राह ताक रहे थे, लेकिन इस रिपोर्ट को आगामी आदेशों तक स्थगित कर दिया है। मानव संसाधन विकास मंत्रालय की ओर से उच्च शिक्षण संस्थानों के प्रदर्शन के आधार पर यह रिपोर्ट दी जाती है, लेकिन इस बार इंडिया रैंकिंग 2020 को कोविड—19 के कारण स्थगित कर दिया गया है।

ये है रैंकिंग
एनआईआरएफ रैंकिंग को 2015 में मानव संसाधन विकास मंत्री ने लॉन्च किया था। पहली एनआईआरएफ रैंकिंग वर्ष 2016 में जारी की गई थी। वर्ष 2016 में सिर्फ चार श्रेणियों में यूनिवर्सिटी, इंजीनियरिंग, मैनेजमेंट और फार्मेसी में रैंकिंग का ऐलान किया गया था। बाद में रैंकिंग की श्रेणियों को चार से बढ़ाकर नौ कर दिया गया। अब कुल नौ श्रेणियों में रैंकिंग होती है। जिनके नाम ओवरऑल रैंकिंग्स, यूनिवर्सिटी, इंजीनियरिंग, कॉलेज, मैनेजमेंट, फार्मेसी, लॉ, आर्किटेक्चर और मेडिकल है। आमतौर पर यह रैंकिंग अप्रैल के पहले हफ्ते में होती है। लेकिन इस साल कोरोनावायरस संक्रमण की वजह से हुए लॉकडाउन को देखते हुए फिलहाल रैंकिंग को टाल दिया गया है। पिछले साल 8 अप्रेल को यह रिपोर्ट आई थी।

2019 रैंकिंग
2019 में सभी कैटेगिरी में आईआईटी मद्रास को बेस्ट इंस्टिट्यूट घोषित किया गया था। आईआईएससी बेंगलुरु ने बेस्ट यूनिवर्सिटी की अपनी रैंक जारी रखी थी। देश में मिरांडा हाउस को बेस्ट कॉलेज करार दिया गया था। आईआईटी मद्रास को बेस्ट इंजीनियरिंग इंस्टिट्यूट और आईआईएम बेंगलुरु को मैनेजमेंट कैटिगरी में बेस्ट इंस्टिट्यूट करार दिया गया था।

MOHIT SHARMA Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned