योगेश जाटव मौत मामले में उबाल, भाजपा नेता बोले कानून का इकबाल हुआ खत्म

बड़ौदामेव में योगेश जाटव की पीट पीटकर हत्या करने के मामले को लेकर सियासी उफान आ गया है। बिगड़ी कानून व्यवस्था को लेकर एक बार फिर भाजपा ने सरकार को घेरा है।

By: Umesh Sharma

Published: 20 Sep 2021, 05:41 PM IST

जयपुर।

बड़ौदामेव में योगेश जाटव की पीट पीटकर हत्या करने के मामले को लेकर सियासी उफान आ गया है। बिगड़ी कानून व्यवस्था को लेकर एक बार फिर भाजपा ने सरकार को घेरा है।

भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनियां ने कांग्रेस आलाकमान व राज्य सरकार पर निशाना साधा। पूनियां ने कहा कि यह कोई पहली घटना नहीं है। इस तरह की घटनाएं पूर्व में भी घटित चुकी है। इससे साफ जाहिर होता है कि राजस्थान में कानून का इकबाल खत्म हो चुका है। इस घटना से राजस्थान एक बार फिर से शर्मसार हुआ है। योगेश जाटव की मौत के बाद जनता पूछ रही है कि राहुल गांधी और प्रियंका गांधी क्या इन पीड़ितों के आंसू पहुंचने यहां आएंगे क्या, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत गहरी निंद्रा से बाहर आ पाएंगे। उन्होंने यह भी कहा है कि अब पानी सिर के ऊपर चला गया है। पूनिया ने कहा झालावाड़ में जुलाई माह में कृष्णा वाल्मीकि की हत्या हो या फिर अलवर में ही मॉब लिंचिंग की घटना में योगेश जाटव से जुड़ा मामला हो। हर प्रकार की घटनाओं में प्रदेश की कानून व्यवस्था पूरी तरह से फेल नजर आई।

दिलावर बोले ने घटना को बताया मॉब लिचिंग

भाजपा के प्रदेश महामंत्री मदन दिलावर ने इस घटना को मॉब लिंचिंग बताया है। दिलावर ने सीएम गहलोत पर इस हत्याकांड में शामिल एक समुदाय विशेष के लोगों को बचाने आरोप लगाया। उन्होंने एक वीडियो सोशल मीडिया पर जारी किया है। उन्होंने कहा कि लोगों ने अनुसूचित जाति के योगेश कुमार जाटव को सामूहिक रूप से घेर कर हत्या कर दी है, जिसे आप लोग मॉब लिंचिंक कह देते हैं। वह गरीब और अनुसूचित जाति का है, इसलिए कांग्रेस के लोग उस के पक्ष में बोलने को तैयार नहीं है। इसका दुष्परिणाम राजस्थान सरकार को भुगतना होगा।

Umesh Sharma Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned