scriptBoard Corporations Vice-President will get status of Deputy minister | बोर्ड-निगमों, आयोगों के उपाध्यक्ष का इंतजार अब होगा खत्म, सरकार में उप मंत्री का दर्जा देने की तैयारी | Patrika News

बोर्ड-निगमों, आयोगों के उपाध्यक्ष का इंतजार अब होगा खत्म, सरकार में उप मंत्री का दर्जा देने की तैयारी

-उप मंत्री का दर्जा मिलने पर मिलेंगे वेतन भत्ते और सरकारी वाहन, चार महीने से बिना ऑफिस और सुविधाओं के ही काम करने को मजबूर हैं बोर्ड- निगमों और आयोगों के उपाध्यक्ष, गहलोत सरकार ने 23 नेताओं को बोर्ड-निगम और आयोगों में बनाया था उपाध्यक्ष, बोर्ड-निगम और आयोगों के चेयरमैन को तो दिया गया है राज्य और कैबिनेट मंत्री का दर्जा लेकिन उपाध्यक्ष नहीं मिला किसी प्रकार का कोई दर्जा, बोर्ड निगम और आयोग के उपाध्यक्ष में विधायक दीपचंद खेरिया और रमिला खड़िया का भी नाम

जयपुर

Published: June 13, 2022 02:29:50 pm

फिरोज सैफी
जयपुर। सरकार में गहलोत सरकार के 3 साल पूरा होने के बाद कांग्रेस कार्यकर्ताओं और नेताओं को राजनीतिक नियुक्तियां देकर संतुष्ट करने का प्रयास भले ही किया गया हो लेकिन बोर्ड-निगम और आयोगों में उपाध्यक्ष बनाए गए नेता अभी भी सरकार में भागीदारी मिलने का इंतजार कर रहे हैं। हालांकि बोर्ड-निगमों और आयोगों के उपाध्यक्ष का इंतजार जल्द ही खत्म होने वाला है।

ashok gehlot
ashok gehlot


दरअसल बोर्ड-निगमों और आयोगों के उपाध्यक्ष को भी सरकार में भागीदारी देने की तैयारी चल रही है। उपाध्यक्ष को उप मंत्री बनाकर सरकार में भागीदारी दी जाएगी।
बताया जाता है कि जल्दी ही मंत्रिमंडल सचिवालय की ओर से बोर्ड-निगमों और आयोगों के उपाध्यक्ष को उप मंत्री का दर्जा देने के आदेश जारी हो सकते हैं।

सरकारी गाड़ी और वेतन भत्ते मिलेंगे
बोर्ड-निगम और आयोगों के उपाध्यक्ष को उप मंत्री का दर्जा मिलने के बाद सरकारी वाहन, वेतन भत्ते, मासिक आवास किराया और सर्किट हाउस में ठहरने जैसी सुविधाएं मिलेंगी। साथ राज्य मंत्रियों की तरह उन्हें चिकित्सा सुविधाएं मिलेगी। इसके अलावा कार्यालय और सरकारी स्टाफ भी मिलेगा।

4 माह से बिना सुविधाओं के काम कर रहे हैं उपाध्यक्ष

दिलचस्प बात तो यह है कि गहलोत सरकार ने विभिन्न बोर्ड- निगम और आयोगों में चेयरमैन और उपाध्यक्ष की नियुक्ति की थी लेकिन गहलोत सरकार ने बोर्ड-निगमों और आयोग के चेयरमैन को तो राज्य मंत्री और कैबिनेट मंत्री का दर्जा दे दिया और उन्हें तमाम सुविधाएं भी उपलब्ध करा दी लेकिन बोर्ड-निगमों और आयोगों के उपाध्यक्ष को सुविधाओं के नाम पर कुछ नहीं मिला। पिछले 4 महीने से बोर्ड-निगम के उपाध्यक्ष बिना सुविधाओं के काम कर रहे हैं।

कई उपाध्यक्ष को बैठने के लिए कार्यालय तक नहीं

वही कई बोर्ड-निगम औरआयोगों के उपाध्यक्ष तो ऐसे भी हैं जिन्हें बैठने के लिए कार्यालय तक नहीं है। और कई कार्यालय ऐसे हैं जहां पर केवल अध्यक्ष कोई बैठने का स्थान मिला हुआ है। ऐसे में बोर्ड-निगमों,आयोगों के उपाध्यक्ष बिना सुविधाएं के काम करने को मजबूर हो रहे थे।

मुख्यमंत्री के सामने भी जाहिर की थी पीड़ा

हाल ही में बोर्ड-निगम और आयोगों के उपाध्यक्ष नियुक्त किए गए नेताओं ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से भी मुलाकात करके अपनी पीड़ा जाहिर की थी, जिस पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने उन्हें जल्द की सरकार में भागीदारी देने का आश्वासन भी दिया था। और उसके बाद ही बोर्ड- निगमों और आयोगों के उपाध्यक्ष को भी उप मंत्री का दर्जा देने की कवायद शुरू हुई थी।

2 विधायकों को भी बनाया गया बोर्ड-निगमों आयोगों का उपाध्यक्ष

इधर गहलोत सरकार ने जहां 1 दर्जन से ज्यादा विधायकों को बोर्ड-निगम और आयोगों का चेयरमैन बनाया है तो वहीं दो विधायक ऐसे भी हैं जिन्हें बोर्ड- निगम और आयोगों में उपाध्यक्ष बनाया गया है। इनमें दीपचंद खेरिया और रमिला खड़िया शामिल हैं। हालांकि ऑफिस ऑफ प्रॉफिट के चलते इन दोनों विधायकों को उप मंत्री का दर्जा नहीं मिल पाएगा।

इन 23 नेताओं को बनाया था बोर्ड- निगमों और आयोगों में उपाध्यक्ष

1- दीपचंद खेरिया- उपाध्यक्ष-किसान आयोग

2-पंकज मेहता- उपाध्यक्ष--खादी ग्रामोद्योग बोर्ड

3-सचिन सरवटे----- उपाध्यक्ष----अनुसूचित जाति आयोग

4-सुमेर सिंह------- उपाध्यक्ष----------- गौ सेवा आयोग

5-डूंगरराम गेदर------उपाध्यक्ष------- माटी कला बोर्ड

6-सतवीर चौधरी---- उपाध्यक्ष-------राज्य क्रीड़ा परिषद

7-राजेश टंडन------ उपाध्यक्ष--------वरिष्ठ नागरिक कल्याण बोर्ड

8-रामसहाय बाजिया- उपाध्यक्ष------- सैनिक कल्याण सलाहकार समिति

9-सांवरमल मेहरिया- ---उपाध्यक्ष------ राजस्थान धरोहर संरक्षण प्रोन्नति प्राधिकरण

10-चुन्नीलाल राजपुरोहित-- उपाध्यक्ष------- पशुधन विकास बोर्ड

11-किशनलाल जैदिया-- -उपाध्यक्ष--------- सफाई कर्मचारी आयोग

12-रमिला खड़िया--- --उपाध्यक्ष-------------- अजजा आयोग

13-सुशील पारीक--- --उपाध्यक्ष----------- युवा बोर्ड

14-चतराराम देशबंधु---- उपाध्यक्ष------- घुमंतु अर्ध घुमंतु बोर्ड

15-जगदीश श्रीमाली---- उपाध्यक्ष---------- श्रम सलाहकार समिति

16-रमेश बोराणा----- उपाध्यक्ष------------ राज्य मेला प्राधिकरण

17-मंजू शर्मा------- उपाध्यक्ष-------------- विप्र कल्याण बोर्ड

18- मानसिंह गुर्जर--- उपाध्यक्ष------------ सेंटर फॉर डेवलपमेंट ऑफ़ वॉलंटरी सेंटर

19- कीर्ति सिंह भील--- उपाध्यक्ष--------------- मारवाड़ क्षेत्रीय जनजाति विकास बोर्ड

20-मीनाक्षी चंद्रावत---- उपाध्यक्ष------------------ समाज कल्याण बोर्ड

21-सुचित्रा आर्य--------- उपाध्यक्ष------------ स्टेट एग्रो इंडस्ट्रीज डेवलपमेंट बोर्ड

22- दर्शन सिंह गुर्जर------ उपाध्यक्ष------------ पिछड़ा वर्ग वित्त विकास आयोग

23-अवधेश दिवाकर बैरवा-- उपाध्यक्ष------------- अनुसूचित जाति वित्त विकास आयोग

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

मौसम अलर्ट: जल्द दस्तक देगा मानसून, राजस्थान के 7 जिलों में होगी बारिशइन 4 राशियों के लोग होते हैं सबसे ज्यादा बुद्धिमान, देखें क्या आपकी राशि भी है इसमें शामिलस्कूलों में तीन दिन की छुट्टी, जानिये क्यों बंद रहेंगे स्कूल, जारी हो गया आदेश1 जुलाई से बदल जाएगा इंदौरी खान-पान का तरीका, जानिये क्यों हो रहा है ये बड़ा बदलावNumerology: इस मूलांक वालों के पास धन की नहीं होती कमी, स्वभाव से होते हैं थोड़े घमंडीबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयमोदी सरकार ने एलपीजी गैस सिलेण्डर पर दिया चुपके से तगड़ा झटकाजयपुर में रात 8 बजते ही घर में आ जाते है 40-50 सांप, कमरे में दुबक जाता है परिवार

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: खतरे में MVA सरकार! समर्थन वापस लेने की तैयारी में शिंदे खेमा, राज्यपाल से जल्द करेंगे संपर्क?Maharashtra Political Crisis: एकनाथ शिंदे की याचिका पर SC ने डिप्टी स्पीकर, महाराष्ट्र पुलिस और केंद्र को भेजा नोटिस, 5 दिन के भीतर जवाब मांगाMaharashtra Political Crisis: सुप्रीम कोर्ट से शिंदे खेमे को मिली राहत, अब 12 जुलाई तक दे सकते है डिप्टी स्पीकर के अयोग्यता नोटिस का जवाब"BJP से डर रही", तीस्ता की गिरफ़्तारी पर पिनाराई विजयन ने कांग्रेस की चुप्पी पर साधा निशानाअंबानी परिवार की सुरक्षा को लेकर सुप्रीम कोर्ट कल करेगा सुनवाई, जानिए क्या है पूरा मामलासचिन पायलट बोले-गहलोत मेरे पितातुल्य, उनकी बातों को अदरवाइज नहीं लेताPunjab Budget 2022: 1 जुलाई से फ्री बिजली; यहां पढ़ें पंजाब सरकार के पहले बजट में क्या-क्या है खासमुकुल रॉय ने पश्चिम बंगाल विधानसभा के पब्लिक अकाउंट्स कमेटी के चैयरमैन पद से दिया इस्तीफा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.