बसपा से कांग्रेस में गए विधायक सबसे बड़े गद्दार, रद्द होगी सदस्यताः बंशीवाल

दलित और कमजोर वर्गों पर अत्याचार के विरोध में बसपा का कलेक्ट्रेट पर प्रदर्शन

By: firoz shaifi

Published: 21 Jun 2021, 04:28 PM IST

जयपुर। बसपा का दामन छोड़कर कांग्रेस का दामन थामने वाले 6 बीएसपी विधायकों का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। बसपा के प्रदेश अध्यक्ष भगवान सिंह बाबा के बाद प्रदेश प्रभारी अमर सिंह बंशीवाल ने भी बसपा छोड़कर कांग्रेस में गए छह विधायकों को सबसे बड़ा गद्दार करार दिया है।

बसपा के प्रदेश प्रभारी बंशीवाल का कहना है कि बसपा से कांग्रेस में शामिल हुए विधायकों ने बहन मायावती और पार्टी के मतदाताओं के साथ विश्वासघात किया है इसलिए यह सबसे बड़े गद्दार हैं।

बंशीवाल ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से भी मांग की है कि बसपा के साथ विश्वासघात करने वाले इन विधायकों को मंत्रिमंडल में शामिल नहीं किया जाए क्योंकि इनके दलबदल का मामला सुप्रीम कोर्ट में चल रहा है जहां हमें पूरी उम्मीद है कि फैसला पार्टी के पक्ष में जाएगा और इन विधायकों की सदस्यता रद्द होगी। बसपा के प्रदेश प्रभारी ने कहा कि जिन लोगों ने बहुजन समाज पार्टी के मतदाताओं के वोट से चुनाव जीता और उसके बाद उनके साथ गद्दारी की, ऐसे लोगों की तो सदस्यता रद्द होनी ही चाहिए।

दलित अत्याचार के खिलाफ कलेक्ट्रेट पर प्रदर्शन
इससे पहले बहुजन समाज पार्टी के कार्यकर्ताओं ने सोमवार को दलित अत्याचार की घटनाओं के खिलाफ प्रदेश प्रभारी अमर सिंह बंशीवाल के नेतृत्व में जयपुर का कलेक्ट्रेट पर प्रदर्शन किया और उसके पश्चात 6 सूत्री मांग का ज्ञापन राज्यपाल कलराज मिश्र के नाम अतिरिक्त जिला कलेक्टर दक्षिण शंकर लाल सैनी को सौंपा।

ज्ञापन में उन्होंने प्रदेश में दलित और कमजोर वर्ग के लोगों पर बढ़ रहे अत्याचार पर ठोस कदम उठाने और बालिका और महिलाओं के खिलाफ बढ़ रहे बलात्कार के मामलों पर ठोस कदम उठाने की मांग की। इसके साथ ही बसपा कार्यकर्ताओं ने विद्युत दरों को नियंत्रित करने, कोराना काल के बिजली के बिल माफ करने, खान-पान और रोजमर्रा के काम आने वाली वस्तुओं की महंगाई पर लगाम लगाने, पेट्रोल डीजल पर वैट को कम करने और बिगड़ती कानून व्यवस्था में सुधार करने की मांग भी की है।

Show More
firoz shaifi Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned