प्रवासी श्रमिकों को राहत देने के लिए ठोस नीति बनाने में केन्द्र सरकार नाकाम-पायलट

उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट ने मंगलवार को जयपुर के 200 फीट बाइपास, अजमेर रोड स्थित कमला देवी बुधिया स्कूल, हीरापुरा में संचालित प्रवासी श्रमिक शिविर पहुंचकर प्रवासी श्रमिकों से मुलाकात की तथा उनके परेशानियों को साझा किया। इस अवसर पर परिवहन मंत्री प्रतापसिंह खाचरियावास भी उपस्थित रहे।

By: rahul

Published: 19 May 2020, 08:14 PM IST

जयपुर।

उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट ने मंगलवार को जयपुर के 200 फीट बाइपास, अजमेर रोड स्थित कमला देवी बुधिया स्कूल, हीरापुरा में संचालित प्रवासी श्रमिक शिविर पहुंचकर प्रवासी श्रमिकों से मुलाकात की तथा उनके परेशानियों को साझा किया। इस अवसर पर परिवहन मंत्री प्रतापसिंह खाचरियावास भी उपस्थित रहे।

पायलट ने कहा कि उत्तरप्रदेश की बॉर्डर पर कांग्रेस द्वारा भेजी गई सैंकड़ों बसों तथा हजारों की संख्या में खड़े प्रवासी श्रमिकों को प्रवेश की अनुमति नहीं देकर यूपी सरकार नकारात्मक राजनीति का परिचय दे रही है। प्रवासी श्रमिकों को अपने घरों पर पहुंचने से वंचित किया जाना दुर्भाग्यपूर्ण है। पायलट ने कहा कि यह समय प्रवासी श्रमिकों के प्रति अपने उत्तरदायित्व को समझने तथा उनके प्रति संवेदनशीलता रखते हुए उनकी पीड़ा को समझने का है। वर्तमान परिस्थिति के चलते प्रवासी श्रमिक बहुत परेशानी में है। इनके दुख-दर्द को साझा करना हम सभी का सामाजिक दायित्व हैं।

उन्होंने कहा कि प्रवासी श्रमिकों को अपने-अपने राज्यों में पहुंचाने तथा उनको राहत देने के लिए केन्द्र सरकार कोई ठोस नीति बनाने में नाकाम रही है। पायलट ने प्रवासी श्रमिको के शिविर पहुंचकर उन्हें खाद्य सामग्री, बिस्किट के पैकेट, पानी की बोतल, फुटवियर आदि उपलब्ध कराए। पायलट ने प्रवासी श्रमिकों को उनके आगे के सुखद सफर की शुभकामनाएं देकर उनकी बस को रवाना किया। पायलट ने उपस्थित अधिकारियों को प्रवासी श्रमिकों को सुरक्षित एवं व्यवस्थित तरीके से उनके गंतव्य स्थान पर पहुंचाने के निर्देश भी दिए।

COVID-19 virus
rahul Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned