दिन के समय और खाने के तुरंत बाद सोने से शुगर बढ़ता है, नियमित व्यायाम करें

सही खानपान और नियमित एक्सरसाइज से इसको नियंत्रित किया जा सकता है। डायबिटीज के मरीज दिन में ज्यादा सोने और ज्यादा देर बैठने से बचें। खाने के तुरंत बाद न सोएं। इससे मेटाबॉलिज्म सुस्त होता है।

By: Archana Kumawat

Published: 11 Jan 2021, 09:26 AM IST

अंतरराष्ट्रीय डायबिटीज फेडरेशन के अनुसार दुनिया में 10 में से एक व्यक्ति डायबिटीज से पीडि़त है। एक रिपोर्ट के अनुसार वर्ष 2030 तक देश में डायबिटीज रोगी 9.8 करोड़ तक हो जाएंगे। मुख्य रूप से चार तरह की टाइप-1, टाइप-2, जेस्टेशनल और सेकंडरी डायबिटीज होती है। इसके पीछे खराब जीवनशैली एवं आनुवांशिक कारण प्रमुख हंै। लंबे समय तक रक्त शर्करा के अनियमित होने से आंखों व किडनी का रोग, सुन्नपन जैसी समस्या हो सकती है।
आहार पर विशेष ध्यान देें
डा यबिटीज के साथ यदि अन्य तरह की कोई समस्या नहीं है तो डाइट में 50-60 फीसदी तक कार्बोहाइड्रेट लेना चाहिए। इसमें जटिल कार्बोहाइड्रेट जैसे मोटा अनाज, चोकर युक्त मिश्रित आटा, ब्राउन राइस आदि लें। 15-25 फीसदी प्रोटीन लें, जिसमें पनीर, दूध, लो फैट डेयरी प्रोडक्ट्स ले सकते हैं। 5-10 फीसदी फैट भी शामिल करें। दिनभर में 25-30 ग्राम फाइबर के लिए फल-सब्जियां खाएं।
इंसुलिन से नुकसान नहीं
इं सुलिन लगाने से शरीर को नुकसान नहीं होता है। यह ब्लड शुगर को नियमित रखेगा, ताकि डायबिटीज के कारण अन्य अंगों पर दुष्प्रभाव को कम किया जा सके। सही खानपान और नियमित एक्सरसाइज से इसको नियंत्रित किया जा सकता है। डायबिटीज के मरीज दिन में ज्यादा सोने और ज्यादा देर बैठने से बचें। खाने के तुरंत बाद न सोएं। इससे मेटाबॉलिज्म सुस्त होता है।
जानें भ्रम और सत्य
जिन लोगों को डायबिटीज होती है, उन्हें सर्दी-जुकाम और अन्य बीमारियों की आशंका बढ़ जाती है?
डायबिटीज से इम्यूनिटी पर असर पड़ता है। इसलिए कुछ बीमारियों की आशंका बढ़ सकती है। यदि डायबिटीज नियंत्रित है तो यह रिस्क कम हो जाएगी।

इंसुलिन लेने का मतलब है कि डायबिटीज नियंत्रित नहीं हो रही है?
कुछ मरीजों में दवाइयों से शुगर नियंत्रित नहीं हो पाती है। ऐसे में इंसुलिन लेना बेहतर व सुरक्षित विकल्प है।

इंसुलिन की वजह से मोटापा बढ़ता है?
इंसुलिन से थोड़ा मोटापा बढ़ सकता है। इसे नियंत्रित करने के लिए खानपान में बदलाव लाएं एवं नियमित व्यायाम करें।

एक बार इंसुलिन लगाना शुरू हो गया तो यह आगे बंद नहीं होता है। इससे पेट की त्वचा पर लगाने से वहां छेद बन जाते हैं?
इंसुलिन लेना निर्भर करता है कि बीमारी का प्रकार क्या है। टाइप-1 में इंसुलिन जीवनभर लेना पड़ता है। टाइप-2 में इंसुलिन बंद हो सकता है। एक ही जगह इंसुलिन नहीं लगाएं।

ज्यादा मीठा खाने की आदत से डायबिटीज हो जाती है?
मीठा खाने का संबंध डायबिटीज से नहीं है लेकिन इससे मोटापा बढ़ता है, जो डायबिटीज की आशंका बढ़ाता है।

कसैले खाद्य पदार्थ ज्यादा खाएं
डायबिटीज के रोगियों को मिश्रित अनाज जैसे जौ, गेहूं, ग्वार, ओट्स, सांवा, रागी आदि की रोटी खानी चाहिए। चावल की जगह दलिया और सूजी का उपमा लें। कसैले खाद्य पदार्थ जैसे आंवला, करेला आदि वर्षभर खाएं। मैदा से बने पदार्थ और रिफाइंड युक्त चीजें न खाएं।

डॉ. बलराम शर्मा
सह आचार्य (हार्मोन रोग विभाग), एसएमएस मेडिकल कॉलेज, जयपुर
डॉ. कृतिका जोशी
आयुर्वेद विशेषज्ञ, राष्ट्रीय आयुर्वेद संस्थान, जयपुर

Archana Kumawat
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned