दिल्ली  बिहार लौटे हर चौथे प्रवासी का सैंपल पॉजिटिव

प्रवासियों में संक्रमण की दर संबंधित राज्य से निकल रही ज्यादा

By: anoop singh

Published: 19 May 2020, 10:36 PM IST


नई दिल्ली. लॉकडाउन के चलते रोजगार के साथ रहने और खाने का जरिया खत्म पर अपने शहर-गांव जाने को मजबूर प्रवासी मजदूर अनजाने में ही कोरोना के वाहक बन गए हैं। इसका अंदाज दिल्ली व अन्य शहरों से बिहार लौट रहे प्रावसियों की कोरोना जांच के नतीजों से लगाया जा सकता है।
बिहार में 18 मई तक कुल 8,337 सैंपलों की जांच हुई। इनमें से 8 प्रतिशत कोरोना पॉजिटिव निकले। यह प्रतिशत राष्ट्रीय औसत यानी 4 प्रतिशत दोगुना है। इनमें भी 835 सैंपल दिल्ली से लौटे प्रवासी श्रमिकों के थे। इनमें कुल 218 सैंपल यानी करीब 26 प्रतिशत पॉजिटिव निकले। दूसरे शब्दों में कहें तो दिल्ली से बिहार लौटा हर चौथा प्रवासी मजदूर कोरोना वायरस से संक्रमित निकला है। वह भी तब खुद दिल्ली में सैंपलों के पॉजिटिव आने की दर 7 प्रतिशत है। यह दर न केवल इन प्रवासियों के लिए खतरे का संकेत है, बल्कि उन राज्यों के लिए भी जहां वे लौट रहे हैं। ज्ञात हो कि देशभर में चलीं श्रमिक ट्रेनों में से दो तिहाई ट्रेनें रेड से ग्रीन और ऑरेंज जोन में गई हैं।
हरियाणा से लौटे उनमें दोगुना संक्रमण
बिहार लौटे हरियाणा के 390 प्रवासियों की कोरोना जांच की गई। इनमें से 36 पॉजिटिव मिले यानी उनके पॉजिटिव होने की दर 9त्न है, जबकि खुद हरियाणा में पॉजिटिव होने की दर मात्र 1.16त्न है।
राजस्थान वालों में संक्रमण ज्यादा
राजस्थान से लौटे 430 प्रवासियों की कोरोना जांच हुई। इनमें से 16 पॉजिटिव निकले। संक्रमण की दर 3.7 प्रतिशत है, जबकि राजस्थान में यह दर मात्र 2.24 प्रतिशत है।
महाराष्ट्र से आए 11त्न प्रवासी पॉजिटिव
महाराष्ट्र से बिहार लौटे प्रवासियों में से 1,283 की कोरोना जांच की गई। इनमें से 141 पॉजिटिव निकले। यानी इन प्रवासियों में संक्रमण की दर 11 प्रतिशत है। महाराष्ट्र में पॉजिटिव आने की दर 11.7 प्रतिशत है।
गुजरात : 6.8त्न संक्रमित निकले
गुजरात से बिहार लौटे प्रवासियों के 2,045 सैंपलों की जांच हुई, इनमें से 139 पॉजिटिव निकले। संक्रमण दर 6.8त्न निकली जो गुजरात में 7.9त्न है।
यूपी से लौटने वाले 21 पॉजिटिव
यूपी से लौटे कुल 704 प्रवासियों की जांच में 21 पॉजिटिव निकले। संक्रमण की दर 3 प्रतिशत है, जबकि यूपी में संक्रमण की दर 2.59 प्रतिशत ही है।
दक्षिणी से आने वालों की स्थिति गंभीर
कर्नाटक: बिहार लौटे प्रवासियों के सैंपलों में से 3 प्रतिशत पॉजिटिव मिले, जबकि कर्नाटक में यह दर मात्र 0.78 प्रतिशत है।
केरल लौटे प्रवासियों के लिए यह आंकड़ा 1.8 प्रतिशत है, जबकि इस राज्य में पॉजिटिव आने की दर 1.33 प्रतिशत है।
तमिलनाडु प्रवासियों में 3.5 प्रतिशत के सैंपल पॉजिटिव निकले जबकि राज्य 3.43 प्रतिशत है।

Corona virus
anoop singh Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned