किसानों को इस तकनीक से मिलेगी बड़ी राहत

किसानों को इस तकनीक से मिलेगी बड़ी राहत
किसानों को इस तकनीक से मिलेगी बड़ी राहत

Ashish sharma | Updated: 12 Oct 2019, 06:06:55 PM (IST) Jaipur, Jaipur, Rajasthan, India

Crop Survey By Drone : किसान अपने खून पसीने से हमारे के लिए अन्न पैदा करते हैं।

जयपुर
Crop Survey By Drone : किसान अपने खून पसीने से हमारे के लिए अन्न पैदा करते हैं। लेकिन कई बार किसानों को प्राकृतिक आपदा का शिकार होना पड़ता है और फसल खराबे का सामना करना पड़ता है। फसल खराबे से किसानों के सामने कई परेशानियां खड़ी हो जाती हैं। एक तो फसल खराब हो जाती है, दूसरा फसल खराबे का मुआवजा या फिर बीमा क्लेम मिलने के लिए उन्हें काफी चक्कर लगाने के साथ लंबा इंतजार करना पड़ता है। ऐसे में आर्थिक रूप से कमजोर और लघु, सीमांत किसानों के लिए फसल खराबा किसी बड़ी मुसीबत से कम नहीं होता है। लेकिन देश में अब फसल खराबे का आकंलन नए तरीके से करवाया जाएगा।

आपको बता दें कि केन्द्र की ओर से किसानों के लिए प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना है। इस योजना के तहत किसानों को फसल खराबे के बाद बीमा मिलता है। लेकिन इसके लिए किसानों को फसल का बीमा करवाना जरूरी है। लेकिन इस बीमा का क्लेम मिलने में किसानों को लंबा इंतजार करना पड़ जाता है। क्योंकि बीमा क्लेम की औपचारिकताओं को पूरा करने में काफी समय लगता है। लेकिन अब फसल बीमा योजना के तहत अब देश के दस राज्यों के 96 जिलों में अंततः ड्रोन से फसलों का आंकलन किया जाएगा। इस आंकलन से ही इस बात का भी पता लगाया जाएगा कि बीमा की रकम कितनी हो। यह सब ड्रोन के जरिए खेतों के जायजे के बाद ड्रोन से त्वरित गति से मिलने वाली तस्वीरों से तय किया जाएगा। विदेशों में इस तकनीक का इस्तेमाल किया जा रहा है। हालांकि भारत में पायलट फेज में ड्रोन से फसलों का आंकलन करवाया जाएगा।
इस साल शुरू हुई थी योजना
आपको बता दें कि 2016 में प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना शुरू की गई। हालांकि बिहार पश्चिम बंगाल से शुरूआत में इस योजना को लागू करने के लिए मना कर दिया था। चीन और अमेरिका में भारत की तुलना में बीमा कवरेज काफी ज्यादा होता है। चीन और अमेरिका क्रमशः 70 और 90 प्रतिशत बीमा कवरेज किसानों को देते हैं, जबकि भारत में 18 फरवरी 2016 को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा घोषित की गई यह महत्वाकांक्षी योजना तीन साल बाद मात्र 24 प्रतिशत कवरेज कर पाई। आपको बता दें कि अभी फसल खराबे की स्थिति में ब्लॉक और राजस्व विभाग के कर्मचारियों की ओर से खराबे का आंकलन किया जाता है। कई जगह बीमा कंपनी की ओर से भी खराबा देखा जाता है। इस प्रक्रिया में काफी समय लगता है। लेकिन ड्रोन के जरिए फसल का सही आंकलन और तेज गति से आंकलन किया जा सकता है।

Show More

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned