सेहत सुधारो सरकार... दावों की खुल रही पोल

vinod Sharma

Publish: Sep, 17 2017 07:23:36 (IST)

Jaipur, Rajasthan, India
1/5

बस्सी/बगरू संस्करण (जयपुर)। सरकार विभिन्न योजनाओं के माध्यम से प्रसूताओं और शिशुओं को बेहतर चिकित्सा सुविधा उपलब्ध करवाने का भले ही दावा कर रही हो, लेकिन हकीकत में स्थिति विकट नजर आ रही है। सरकारी अस्पतालों में लाखों रुपए के उपकरण महज दिखावा साबित हो रहे हैं। ....सरकारी दावों की खुली पोल... शाहपुरा सीएचसी के प्रसूती वार्ड का रविवार को सेहत सुधारो सरकार अभियान को लेकर जब संवाददाता ने जायजा लिया तो सरकारी दावों की पोल खुलकर सामने आ गई। यहां सीएचसी में लाखों रुपए की सोनाग्राफी मशीन को जहां रेडियोलॉजिस्ट का इंतजार है, वहीं नवजात शिशु इकाई में तो नर्सिंग स्टॉफ के पद ही स्वीकृत नहीं है। यहां प्रसूती वार्ड में प्रसूताओं के लिए शौचालय की सुविधा भी खतरा बनी हुई है। शौचालय में गंदगी से संक्रमण फैलने का खतरा मंडरा रहा है। वहीं जर्जर होने से कभी भी शौचालय गिर सकता है। इसी से अंदाजा लगाया जा सकता है कि सरकार के दावों कीकैसे हवा निकल रही है। यहां शाहपुरा सीएचसी में गत सालों के आंकड़ों पर गौर किया जाए तो हर साल प्रसव के आंकड़ों में लगातार गिरावट आ रही है। वर्ष 2013 में जहां प्रसव के आंकड़े 02 हजार को पार कर रहे थे, वहीं बीते सत्र में महज 01 हजार 500 ही प्रसव हो पाए हैं।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned