Jaipur : एक दिन की महापौर बनीं 8 साल की इशिता...

महिला दिवस पर सोमवार को हेरिटेज नगर निगम महापौर मुनेश गुर्जर (Heritage Municipal Corporation Mayor) ने अनूठी पहल की। मुनेश ने बिना किसी स्वार्थ के गंभीर बीमारी से पीड़ित आठ वर्षीय इशिता को एक दिन के लिए अपनी कुर्सी सौंपी, वहीं रोजाना महिलाओं के लिए आधे घंटे सुनवाई करने की घोषणा की। इशिता के एक दिन की मेयर बनने पर हेरिटेज निगम के अधिकारियों और महिला पार्षदों ने स्वागत किया।

By: Girraj Sharma

Updated: 08 Mar 2021, 07:17 PM IST

एक दिन की महापौर बनीं 8 साल की इशिता...
— महिला दिवस पर हेरिटेज नगर निगम महापौर मुनेश गुर्जर की पहल
— इशिता को बनाया एक दिन की मेयर, बिठाया कुर्सी पर

जयपुर। महिला दिवस पर सोमवार को हेरिटेज नगर निगम महापौर मुनेश गुर्जर (Heritage Municipal Corporation Mayor) ने अनूठी पहल की। मुनेश ने बिना किसी स्वार्थ के गंभीर बीमारी से पीड़ित आठ वर्षीय इशिता को एक दिन के लिए अपनी कुर्सी सौंपी, वहीं रोजाना महिलाओं के लिए आधे घंटे सुनवाई करने की घोषणा की। इशिता के एक दिन की मेयर बनने पर हेरिटेज निगम के अधिकारियों और महिला पार्षदों ने स्वागत किया। इससे पहले महापौर मुनेश इशिता को अपने जैसी ड्रेस पहनाकर खुद की गाड़ी से निगम मुख्यालय लाईं। इशिता को महापौर की कुर्सी पर बैठाकर मुनेश ने उसका हाथ पकड़ साइन भी करवाए और स्वच्छता का संदेश दिलवाया। इस दौरान मुनेश गुर्जर लोगों से अपील भी की, गरीब की मदद के लिए आगे आना चाहिए।

शहर को साफ रखना प्राथमिक लक्ष्य बताया
एक दिवस के लिए शहर की प्रथम नागरिक बनने वाली इशिता ने एक नोट जारी करके शहर की सफाई को अपनी प्राथमिक जिम्मेदारी और लक्ष्य बताया। बोलने में असक्षम इशिता की ओर से जारी नोट के अनुसार शहर को साफ रखने के लिए उसका नारा हर कदम स्वच्छता की ओर रहेगा।

भावुक हुए माता—पिता
एक दिन की मेयर बनी इशिता महापौर के वार्ड निवासी बनवारी लाल जाजोरिया की 8 साल की बेटी है। वह दुर्लभ बीमारी से पीडित है। अपनी बेटी को एक दिन की महापौर बनने पर पिता बनवारी लाल और माता ममता भावुक हो गए।

महापौर मुनेश ने बच्ची को लिया गोद
महापौर मुनेश गुर्जर ने जब हेरिटेज निगम में महापौर का पद संभाला है, तभी वे अधिकारियों और पार्षदों के साथ वार्डों का दौरा कर सफाई, लाईट एवं अन्य व्यवस्थाओं का जायजा लेने क्षेत्र में निकली। गत 30 दिसम्बर को महापौर मुनेश गुर्जर अपने वार्ड के रामराजपुरा कॉलोनी का निरीक्षण करने पहुंची थी तो वहां बनवारीलाल जाजारिया ने महापौर को बताया कि उसकी 8 वर्षीय मासूम बच्ची एक दुर्लभ बीमारी से ग्रसित है। आर्थिक स्थिती कमजोर होने से वे उसका इलाज करवाने में सक्षम नहीं है। इस पर महापौर ने मानवीयता का परिचय देते हुए उस बच्ची को गोद लिया और उसकी पढ़ाई और इलाज आदि का खर्चा उठाने का निर्णय लिया।

रोज आधे घंटे महिलाओं की सुनवाई
महिला दिवस के मौके पर महापौर मुनेश गुर्जर ने घोषणा कि वे रोजाना दोपहर 3 बजे से 3.30 बजे तक आधे घंटे केवल महिलाओं की सुनवाई करेंगी। मुनेश गुर्जर ने बताया कि वो खुद एक महिला महापौर है, ऐसे में महिलाओं के सम्मान में महिलाओं की सुनवाई का निर्णय लिया है।

Girraj Sharma Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned