VIDEO: 'भगौड़ा' ACP आस मोहम्मद पुलिस गिरफ्त से दूर, तफ्तीश में अब हुआ चौंकाने वाला खुलासा

neha soni | Publish: Jun, 09 2019 03:45:45 PM (IST) Jaipur, Jaipur, Rajasthan, India

पुलिस जांच पर उठे सवाल

जयपुर।

पुलिस जब किसी अपने को फायदा पहुंचाने की कोशिश करती है तो हर एक हड़कंपा अपना सकती है। एसीबी कार्रवाई के बाद फरार हुए तत्कालील झोटवाड़ा एसीपी आस माेहम्मद के द्वारा किए गए आपराधिक प्रकरणों की जांच से यह बात खुलकर सामने आई है। स्क्रूटनी के दाैरान चाैंकाने वाले ऐसे तथ्य पुलिस अधिकारियाें के सामने आए हैं कि आम जनता का तो पुलिस की जांच प्रक्रिया से विश्वास ही उठ जाए।

aas mohammad

पुलिस कैसे जांच करती है जरा जानिए आप

  • आस मोहम्मद द्वारा द्वारा किए गए आपराधिक प्रकरणों की जांच से चला पता
  • घूस मामले में फरार चल रहे तत्कालीन झोटवाड़ा एसीपी आस मोहम्मद
  • कमिश्नरेट ने की 267 फाइलाें की स्क्रूटनी
  • 88 आपराधिक मामलाें में एसीपी आस मोहम्मद ने की एक तरफा कार्रवाई
  • पुलिस कमिश्नरेट के तत्कालीन अधिकारियों की जांच प्रक्रिया पर भी उठे सवाल
  • जयपुर कमिश्नरेट पुलिस ने पुलिस मुख्यालय काे रिपाेर्ट भेजी
  • फाइलें पूर्ण नहीं फिर भी कर दिए निर्णय
aas mohammad

आस माेहम्मद ने झोटवाड़ा सर्किल और पश्चिम जिले के अन्य पुलिस थानाें में दर्ज मुकदमाें के अनुसंधान के दाैरान फाइलाें में भारी अनियमितताएं की हैं। जयपुर कमिश्नरेट पुलिस ने एसीबी की कार्रवाई के बाद आस मोहम्मद द्वारा अनुसंधान की गई 267 फाइलाें की स्क्रूटनी की है। सत्यापन में सामने आया कि एसीपी आस माेहम्मद ने करीब 88 आपराधिक मामलाें में गलत अनुसंधान करके एक पक्ष का फायदा पहुंचाया है। आस माेहम्मद ने मिलीभगत करके अधिकत्तर मामलाें में बिना साक्ष्याें के ही लाेगाें को आराेपी मान लिया। और फिर खुद के स्तर पर ही प्रकरण में एफआर लगाकर मामले काे निपटा दिया।

aas mohammad

आस माेहम्मद जून 2016 में एसीपी झाेटवाड़ा लगे थे। जून 2016 से फरवरी 2019 तक एसीबी की कार्रवाई से पहले आस माेहम्मद ने करीब 268 फाइलाें का अनुसंधान किया था। जिनमें से आधे में एफआर लगाई थी। इनमें ज्यादातर जमीनी विवाद से जुड़े प्रकरण हैं।
इसमें खास बात यह है कि तब आस माेहम्मद द्वारा किए गए मुकदमाें के अनुसंधान काे कमिश्नरेट के आला अधिकारियाें ने सही माना था। ऐसे में कमिश्नरेट के तत्कालीन पुलिस अधिकारियाें की कार्यशैली पर भी सवाल खड़े हाेने लगे हैं।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned