परकोटे में पहली मेट्रो, बड़ी चौपड़ से चढ़े सिर्फ 10—12 यात्री

राजधानी के परकोटे क्षेत्र में लम्बे इंतजार के बाद बुधवार से मेट्रो (Jaipur metro) की सौगात मिली। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने मेट्रो फेज—1 बी का वर्चुअल उद्घाटन करने के बाद प्लेटफार्म 2 से मेट्रो दौड़ी (Underground metro train ran), इसके 10 मिनट बाद प्लेटफार्म एक से दूसरी मेट्रो चली, जिसमें मुख्य सचेतक महेश जोशी, विधायक अमीन कागजी, जयपुर व्यापार मंडल अध्यक्ष सुभाष गोयल सहित अन्य व्यापारियों और वीआईपी लोगों ने यात्रा की।

By: Girraj Sharma

Published: 23 Sep 2020, 09:23 PM IST

परकोटे में पहली मेट्रो, बड़ी चौपड़ से चढ़े सिर्फ 10—12 यात्री
— दोपहर में हरी झंडी, शाम को गिने—चुने यात्रियों को लेकर दौड़ी मेट्रो

जयपुर। राजधानी के परकोटे क्षेत्र में लम्बे इंतजार के बाद बुधवार से मेट्रो (Jaipur metro) की सौगात मिली। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने मेट्रो फेज—1 बी का वर्चुअल उद्घाटन करने के बाद प्लेटफार्म 2 से मेट्रो दौड़ी (Underground metro train ran), इसके 10 मिनट बाद प्लेटफार्म एक से दूसरी मेट्रो चली, जिसमें मुख्य सचेतक महेश जोशी, विधायक अमीन कागजी, जयपुर व्यापार मंडल अध्यक्ष सुभाष गोयल सहित अन्य व्यापारियों और वीआईपी लोगों ने यात्रा की। वहीं शाम को जनता के लिए मेट्रो का संचालन शुरू हुआ, हालांकि पहले दिन सभी मेट्रो खाली ही दौड़ी, गिने—चुने यात्री ही मेट्रो का सफर कर पाए। पहली मेट्रो में 10—12 लोग ही सवार हुए। हालांकि मेट्रो में बैठने के लिए यात्री तो आए, लेकिन स्मार्ट कार्ड की पाबंदी ने वापस लौटा दिए।

बड़ी चौपड़ पर आयोजित कार्यक्रम में उद्घाटन को लाइव दिखाया गया। यहां मुख्य सचेतक महेश जोशी, विधायक अमीन कागजी, जयपुर व्यापार मंडल अध्यक्ष सुभाष गोयल सहित अन्य व्यापारी मौजूद रहे। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने सोशल डिस्टेंस की पालना पर भी जोर दिया।

ट्रेन ऑपरेटर शैफाली की हौसला अफजाई
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने जयपुर मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन एवं डीएमआरसी को जयपुर शहर के परकोटे का हेरिटेज लुक बनाए रखते इस भूमिगत रेल लाइन का काम पूरा करने के लिए बधाई दी। उन्होंने प्रदेश की पहली भूमिगत मेट्रो ट्रेन की ऑपरेटर शैफाली से बात कर उनकी हौसला अफजाई की।

हेरिटेज को संरक्षित रखते हुए हुआ काम, 1126 करोड़ खर्च
जयपुर मेट्रो के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक भास्कर सावंत ने बताया कि हेरिटेज में किसी तरह का बदलाव नहीं करते हुए यह विश्व स्तरीय परियोजना पूरी की गई है। अत्याधुनिक टनल वेंटिलेशन सिस्टम लगाया गया है। बड़ी चौपड़ एवं छोटी चौपड़ स्टेशनों पर सभी खंदों से स्टेशन में प्रवेश के लिए द्वारा बनाए गए हैं। यात्रियों की सुविधा के लिए दोनों स्टेशनों पर 18 एस्केलेटर एवं 6 लिफ्ट लगाई गई हैं।परियोजना की लागत 1126 करोड़ रुपए रही।

Girraj Sharma Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned