जम्मू-कश्मीर मामले पर विधानसभा अध्यक्ष के सवाल

जम्मू-कश्मीर मामले पर विधानसभा अध्यक्ष के सवाल
जम्मू-कश्मीर मामले पर विधानसभा अध्यक्ष के सवाल

Girraj Prasad Sharma | Updated: 15 Sep 2019, 09:00:47 PM (IST) Jaipur, Jaipur, Rajasthan, India

शहर में रविवार को भारतीय युवा संसद (Youth parliament) का आयोजन शुरू हुआ। ‘लोकतंत्र में तनाव: बदलते वैश्विक परिदृश्य में समाधान’ विषय पर यह तीन दिवसीय युवा संसद बैठी। इसमें विधानसभा अध्यक्ष सी.पी. जेाशी (Assembly Speaker C.P. Jaishi) ने जम्मू कश्मीर (Jammu Kashmir) मामले चर्चा छेड़ते हुए कहा कि संविधान में स्पष्ट है कि वहां की चुनी हुई विधानसभा भारत सरकार के बनाए नियम लागू करेगी। जम्मू कश्मीर में शासन राज्यपाल के अधीन है। वह चुनी हुई सरकार नहीं है।

जम्मू-कश्मीर मामले पर विधानसभा अध्यक्ष के सवाल
- जयपुर में जुटी युवाओं की संसद
- देशभर के युवा हुए शामिल

जयपुर। शहर में रविवार को भारतीय युवा संसद (Youth parliament) का आयोजन शुरू हुआ। ‘लोकतंत्र में तनाव: बदलते वैश्विक परिदृश्य में समाधान’ विषय पर यह तीन दिवसीय युवा संसद बैठी। इसमें विधानसभा अध्यक्ष सी.पी. जेाशी (Assembly Speaker C.P. Jaishi) ने जम्मू कश्मीर (Jammu Kashmir) मामले चर्चा छेड़ते हुए कहा कि संविधान में स्पष्ट है कि वहां की चुनी हुई विधानसभा भारत सरकार के बनाए नियम लागू करेगी। जम्मू कश्मीर में शासन राज्यपाल के अधीन है। वह चुनी हुई सरकार नहीं है। उनकी स्वीकृति को ही जनता की स्वीकृति मान लिया गया। जनता का प्रतिनिधित्व वह करता है, जो निर्वाचित होकर आता है।

जोशी जयपुर में जुटी भारतीय युवा संसद में देशभर से आए युवाओं को संबोधित कर रहे थे। एमएनआईटी, राजस्थान विश्वविद्यालय, जयपुर नगर निगम के सहयोग से आयोजित यह कार्यक्रम 17 सितम्बर तक जवाहर लाल नेहरू मार्ग के इंदिरा गांधी पंचायती राज संस्थान में चलेगा। उद्घाटन सत्र में विधानसभा अध्यक्ष जोशी ने कहा कि पुनर्गठन अधिनियम के तहत राज्य बनाने का प्रावधान तो हैं, लेकिन राज्य को केंद्र शासित प्रदेश बना दे ये फैसला करने का नियम अभी कानून के अंतर्गत नहीं है। जोशी ने कहा कि धारा 371 से नॉर्थ-ईस्ट की परंपरा बची है, ये हमारे नेताओं की देन है। हमारे यहां बोली कि विविधता व धर्म की विविधता है।

युवाओं को लेकर बनाना होगा ब्लू प्रिंट
जोशी ने कहा राजनीति पार्टियों को घोषणापत्र के आधार पर जनता से वोट मांगना चाहिए, भावनाओं के आधार पर वोट मांगना देश के लिए खतरा है। जोशी ने कहा कि राजनीतिक पार्टियां को ब्लू प्रिंट बनाना होगा। युवाओं से उनके इश्यूज पर चर्चा करनी होगी। वहीं युवाओं को भी सरकार से ब्लू प्रिंट के बारे में जानकारी मांगनी चाहिए।

अरुणाचल प्रदेश पहला राज्य, युवाओं के सुझाव बजट में शामिल
अरुणाचल प्रदेश के युवा मामलात मंत्री मामा नातुंग ने कहा कि देश का भविष्य युवा हैं। प्रदेश के युवाआें के लिए एक पॉलिसी बननी चाहिए। अरुणाचल प्रदेश सरकार ने युवाओं की समस्याओं व सुझावों को जानने के लिए एक कार्यक्रम शुरू कर रखा है। बजट सत्र से पहले यह कार्यक्रम होता है, जिसमें विश्वभर के विश्वविद्यालयों के विद्यार्थियों को बुलाकर युवाओं की सोच, समस्या और सुझावों के बारे में जानते हैं। इसके बाद प्रस्ताव तैयार कर उसे बजट सत्र में शामिल करते हैं, जिससे एक नीति बनाते हैं।

लोग समझते हैं नेपाली
नातुंग ने कहा कि अरुणाचल के लोगों को जनता नेपाली समझती है, लेकिन रुक्मणि अरुणाचल से हैं, जिससे श्रीकृष्ण ने शादी की। अरुणाचल परम्परा से जुड़ा है, वहां सबसे ज्यादा शिवलिंग है। अरुणाचल प्रदेश का एक समृद्ध लोकतंत्र है। अरुणाचल किसी स्विट्जरलैंड से कम नहीं है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned