वार्डों में सुविधाओं का अभाव, फ्लोराइड का पानी बना परेशानी

जयपुर ग्रेटर निगम क्षेत्र ( Jaipur Greater Corporation area ) में शामिल बगरू विधानसभा क्षेत्र ( Bagru assembly constituency ) की वार्ड संख्या 116 और 118 ( ward numbers 116 and 118 ) के लोग मूलभूत सुविधाओं ( basic facilities ) के अभाव में अपने आप को ठगा सा महसूस कर रहे हैं।

By: Ashish

Published: 17 Oct 2020, 04:29 PM IST

जयपुर
जयपुर ग्रेटर निगम क्षेत्र ( Jaipur Greater Corporation area ) में शामिल बगरू विधानसभा क्षेत्र ( Bagru assembly constituency ) की वार्ड संख्या 116 और 118 ( ward numbers 116 and 118 ) के लोग मूलभूत सुविधाओं ( basic facilities ) के अभाव में अपने आप को ठगा सा महसूस कर रहे हैं। यहां लोगों के सामने सबसे बड़ी समस्या शुद्ध पेयजल की उपलब्धता का नहीं होना है। इस कारण स्थानीय निवासियों को फ्लोराइड का पानी ( fluoride water ) पीने को मजबूर होना पड़ रहा है। ऐसा न केवल स्वास्थ्य की दृष्टि से हानिकारक है बल्कि क्षेत्रीय जनप्रतिनिधियों की ओर से किए जाने वाले विकास के दावों की पोल खोलता है।

वार्ड 116 में यह क्षेत्र
वार्ड 116 क्षेत्र की बात करें तो एनआरआई सर्किल के पास प्रतापनगर सेक्टर 26, द्वारकापुरी सर्किल, महल रोड तिराहा, जगतपरुा महल रोड पर चलते हुए सात नंबर बस स्टैंड तक, महल रोड पर खाटूश्याम मंदिर तक, हल्दीघाटी रोड पर टंकी चौराहे तक का हिस्सा, प्रताप एन्क्लेव, घरौंदा योजना समेत अन्य भाग शामिल हैं। वार्ड-116 के अधिकांश क्षेत्र में राजस्थान आवासन मण्डल की प्रताप नगर आवासीय योजना के सैक्टर 26, सेक्टर-25 एवं सेक्टर-23 के अतिरिक्त जयपुर विकास प्राधिकरण की महल योजना के ए एव बी ब्लाॅक, कई स्थानीय ढाणियाँ एवं काॅलोनिया सम्मिलित है। पिछले सालों में इस क्षेत्र में आवासीय आबादी की संख्या बढ़ी है लेकिन जरूरी सुविधाओं का विस्तार नहीं हुआ।

 

वार्डों में सुविधाओं का अभाव, फ्लोराइड का पानी बना परेशानी

पीने के लिए शुद्ध पानी तक नहीं
स्थानीय निवासी मलखान सिंह, घनी मीणा का कहना है कि इस क्षेत्र में सबसे बड़ी और विकराल समस्या पानी में पाया जाने वाला फ्लोराईड का हानिकारक स्तर है। इस वजह से कई कॉलोनियों के लोग सेक्टर-26 के जल संग्रहण केन्द्र पर लगे एक मात्र बीसलपुर पानी के नल से लाइनों में काफी इंतजार के बाद पीने योग्य पानी जुटा पाते हैं।

सफाई का अभाव, कचरे का आलम
इसके साथ ही आवासीय योजना में सफाई की व्यवस्था लचर है। गंदगी का आलम है। सड़कों एवं सार्वजनिक पार्क बदतर हालत में हैं। नगर निगम द्वारा कचरा संग्रहण की व्यवस्था सुचारू और प्र्याप्त मात्रा में न होने के कारण काॅलोनी में जगह-जगह कचरे के ढेर देखे जा सकते हैं। जिनमें आवारा पशुओं को भी विचरण करते हुए देखा जा सकता है। क्षेत्र में बारिश के दिनों में पानी भर जाता है। पार्कों का विकास नहीं है। सार्वजनिक परिवहन की कोई समुचित व्यवस्था नहीं है। केवल द्वारकापुरी स्टेण्ड तक ही जे.सी.टी.एल. परिवहन की बसेंसंचालित होती है। जिसके कारण क्षेत्रवासियों को करीब 1-2 किलोमीटर तक पैदल जाकर स्टेण्ड से बस पकड़नी पड़ती है।

 

वार्डों में सुविधाओं का अभाव, फ्लोराइड का पानी बना परेशानी

मूलभूत सुविधाओं की दरकार
कमोबेश ऐसा ही हाल वार्ड 118 का है। स्थानीय निवासी अरूण कुमार, देवेन्द्र सिंह बघैल का कहना है कि यह वार्ड भी कई मूलभूत सुविधाओं को तरस रहा है। आसपास कोई सरकारी अस्पताल नहीं है। पार्क में साफ सफाई नहीं होती। स्थानीय निवासी किरण नुरूका, विमला शर्मा कहना है कि फ्लोराइड की दिक्कत के चलते पीने का पानी दूर से पैदल जाकर लाना पड़ता है। कई स्थानों पर रोड लाइट नहीं होने से रात्रि के समय में लोगों की कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता है।

वार्ड 118 में यह क्षेत्र
वार्ड 118 के क्षेत्र की बात करें तो इसमें एनआरआई सर्किल से शुरू होकर कुंभा मार्ग होते हुए भैरूजी सर्किल तक का क्षेत्र, देहलावास हनुमान मंदिर, द्रव्यवती नदी, राणा सांगा मार्ग तिराहा, प्रतापनगर सेक्टर 19 को लेते हुए एनआरआई सर्कित तक का समस्त भाग समेत अन्य क्षेत्र शामिल हैं।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned