दुधमुंहे बच्चे के साथ थानों में भटकती रही विवाहिता, नहीं सुनी किसी ने फरियाद

दुधमुंहे बच्चे के साथ थानों में भटकती रही विवाहिता, नहीं सुनी किसी ने फरियाद

pushpendra shekhawat | Publish: Feb, 15 2018 09:28:04 PM (IST) Jaipur, Rajasthan, India

पति और ससुराल वालों पर प्रताडित करने का आरोप

अश्विनी भदौरिया / जयपुर। राज्य की राजधानी में महिला की फरियाद पुलिस नहीं सुन रही। घंटे भर से अधिक समय पुलिस थाने के बाहर महिला बैठी रही और पुलिस ने उसको देखा तक नहीं। पुलिस महिला को इधर-उधर टरकाती रही, लेकिन उसकी न तो फरियाद सुनी और न ही शिकायत ली गई। गुरुवार को माणकचौक थाने में देखने को मिला। जहां करीब दो-तीन घंटे तक एक महिला अपने दुधमुंहे बच्चे को गोद में लेकर बैठी रही। पुलिस वालों ने उसकी शिकायत पर कार्रवाई नहीं की और उसे तरह-तरह के बहाने बनाकर टरका दिया।

 

पीडिता कल्पना शर्मा, पुरोहित जी का कटला की रहने वाली है। उसकी शिकायत थी कि उसका पति और उसके ससुराल वाले आए दिन उसके साथ गाली-गलौच कर मारपीट करते है। पीडि़ता ने कई बार पुलिस में इसकी शिकायत की लेकिन पुलिस उसके पति को समझाइश के बाद भेज देती है। गुरुवार को बात जब ज्यादा बढ़ गई तो वह दोबारा अपनी शिकायत लेकर थाने गई थी। यहां पर पुलिस सिपाही ने उसे काफी देर बैठाए रखा। इस दौरान एक महिला सिपाही भी मौजूद थी। उन्होंने उसकी बात सुनी लेकिन कार्रवाई नहीं की।

 

प्रधानमंत्री को भी भेजी अपनी शिकायत
पीडि़ता ने बताया कि उसके पति और ससुराल वालों के ज्यात्तियों की शिकायत माणकचौक थाना पुलिस को की थी, लेकिन यहां से उसे महिला थाना उत्तर में भेज दिया और कहा कि महिलाओं के पारिवारिक विवाद के केस वहां दर्ज किए जाते हैं। पीडि़ता जब महिला थाने गई तो वहां से उसे दोबारा माणकचौक थाने भिजवा दिया। पीडि़ता ने बताया कि उसने अपनी शिकायत प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को भी की है, लेकिन वहां से भी कोई जवाब नहीं आया। इस संबंध में फोटो जर्नलिस्ट ने जब पुलिस से बात की तो उन्होंने कहा कि यह महिला मानसिक रोगी है। आए दिन कोई न कोई शिकायत लेकर थाने में आ जाती है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned