कोई भले कंकाल कहे, इस मां के लिए यह जिगर का टुकड़ा है...

एक नवजात वानर की किसी हादसे में मौत हो गई। लेकिन इसके बावजूद एक वानर मां का दिल यह मानने को तैयार नहीं और उसे यकीन नहीं कि उसकी संतान की मौत हो चुकी हैं और वह पिछले कई दिनों से उसके सूखकर कंकाल बन चुके शव को अपनी छाती से चिपका चिपकाकर घूमती नजर आई। देखें वीडियो-

By: santosh

Updated: 04 May 2021, 12:17 PM IST

Jaipur, Jaipur, Rajasthan, India

जयपुर। हमारे जीवन में ईश्वर से भी बड़ा स्थान मां का होता हैं और प्रथम गुरु भी मां ही होती हैं। अपनी औलाद के लिए मां की ममता इस कदर होती हैं कि उसका किसी ओर के प्रेम प्यार से मुकाबला ही नहीं। ऐसे में अगर किसी नवजात शिशु की मौत हो जाए तो एक मां के लिए इससे बड़ा दुनिया में कोई भी दुख नहीं हो सकता।

ऐसा ही एक नजारा गलता जी में देखने को मिला, जहां कुछ दिनों पहले एक नवजात वानर की किसी हादसे में मौत हो गई। लेकिन इसके बावजूद एक वानर मां का दिल यह मानने को तैयार नहीं और उसे यकीन नहीं कि उसकी संतान की मौत हो चुकी हैं और वह पिछले कई दिनों से उसके सूखकर कंकाल बन चुके शव को अपनी छाती से चिपका चिपकाकर घूमती नजर आई। यह नजारा देख वहां मौजूद सभी लोगों की आंखें नम हो गई और गला भर आया। सभी की जुबां से सिर्फ एक ही बात निकली '' इंसान की हो या वानर की... अरे मां तो मां होती हैं।

वाइल्ड लाइफर धीरज कपूर ने बताया कि जिस तरह इंसानों में अपने बच्चों के लिए भावनात्मक लगाव होता है उसी प्रकार से जानवरों में भी अपने बच्चो के लिए वही लगाव देखा गया है। ये बंधन इतना मजबूत होता है कि कई बार जानवर अपने मृत शिशुओं को भी कई दिन तक अपने सीने से लगा कर वही प्यार और दुलार देती है जो किसी जिन्दा बच्चे को मिलता है,और जब उसे ये विश्वास हो जाता है कि ये अब नही उठेगा तो स्वत ही उसे छोड़ देते हैं। कुछ समय पहले झालाना के जंगल में मादा पैंथर फ्लोरा भी अपने मृत शावक को लेकर कभी पेड़ पर तो कभी पहाड़ियों पर घूमती रही थी।

(रिपोर्ट दिनेश डाबी)

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned