अचल संपत्ति का ब्यौरा देने की कल अंतिम तारीख

अचल संपत्ति का ब्यौरा देने की कल अंतिम तारीख

PUNEET SHARMA | Publish: Mar, 14 2018 09:43:58 AM (IST) Jaipur, Rajasthan, India

अचल संपत्ति का ब्यौरा देने की कल अंतिम तारीख अभी तक 50 फीसदी अफसरों ने ही दिया है


जयपुर।
गेंहू घोटाले में फंसी आईएएस निर्मला मीणा के पास करोडों रुपए की अचल संपित्त का खुलासा होने के बाद भी कार्मिक विभाग राज्य सरकार के अधीन अफसरों की अचल संपित्त का ब्यौरा ले पा रही है। स्थिति ऐसी है कि सरकार के अधीन 65 हजार से अधिक राजपत्रित अफसरों ने आॅनलाइन राजकाज सॉफ्टवेयर में अपनी अचल संपित्त का ब्यौरा नहीं दिया है। वहीं आॅनलाइन अचल संपित्त का ब्यौरा देने की आखिरी तारीख कल है। सूत्रों के अनुसार कार्मिक विभाग तीन बार अचल संपित्त का ब्यौरा आॅन लाइन देने के लिए तारीख बढा चुका है लेकिन विभिन्न विभागों के अफसरों ने अचल संपित्त का ब्यौरा राजकाज सॉफ्टवेयर पर दर्ज नहीं किया। कार्मिक विभाग के अधिकारियों का कहना है कि अगर कल तक अधिकारी अपनी अचल संपित्त का ब्यौरा नहीं देते हैं तो उनकी सालाना वेतन बढोतरी रोकने और पदोन्नति रोकने की तैयारी की जाएगी।
असल में इस साल से पहले राज्य सरकार के अधीन राजपत्रित अधिकारी अपनी अचल संपित्त का ब्यौरा तय फोर्मेट में भर कर देते थे। इस फार्मेट को राज्य सरकार ज्यादा गंभीरता से नहीं लेती थी और अधिकारी भी हर साल अपनी अचल संपित्त के ब्यौरे वाले कॉलम में उपरोक्त लिख कर अपनी बला टाल लेते थे। जिसे राज्य सरकार ने गंभीरता से लिया और अब आॅनलाइन ही अचल संपित्त का ब्यौरा देना अनिर्वाय कर दिया है।
कार्मिक विभाग के अधिकारियों के अनुसार विभागों के अतिरिक्त् मुख्य सचिव, प्रमुख सचिव को लगातार पत्र लिख कर उनके अधीन राजपत्रित अधिकारियों का राजकाज साफ्टवेयर पर अचल संपित्त का ब्यौरा भिजवाने के लिए कहा गया था। कई विभागों के अधिकारियों ने इस मामले में अच्छी प्रगति दिखाई। लेकिन संपित्त का ब्यौरा आॅनलाइन दर्ज नहीं करने के मामले को राज्य सरकार अब गंभीरता से ले रही है। प्रदेश में राजपत्रित अधिकारियेां की संख्या 65 हजार से ज्यादा है। इनमें से हर साल 10 फीसदी अधिकारी सेवानिवृत हो जाते हैं।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned