सिविल लाइंस उच्च जलाशय हटाने के आज खुलेंगे टेंडर

दो फर्मों ने दी निविदा के लिए प्रस्तावित दरें
एक फर्म ने पूरे नहीं दिए दस्तावेज
दूसरी फर्म का आज खोला जाएगा टेंडर डाक्यूमेंट

जयपुर। राजधानी के अवधिपार हो चुके सबसे पुराने उच्च जलाशय को हटाने की कार्रवाई जलदाय विभाग ने तेज कर दी है। इसी क्रम में आज टंकी हटाने की जारी हुई निविदा खोली जाएगी। वहीं आज तय होगा कि सबसे पुराना उच्च जलाशय जल्द हटेगा या अभी फिलहाल और वक्त लगेगा। बीते 9 जनवरी को विभाग ने निविदा जारी कर निजी फर्मों से प्रस्ताव मांगे थे। सिविल लाइंस उच्च जलाशय हटाने के टेंडर में दो फर्मों ने टेंडर फार्म लगाए लेकिन एक फर्म टेंडर में आवश्यक दस्तावेज पूरे संलग्न करने में असफल रही है। ऐसे में आज एक ही टेंडर खोलने की कार्रवाई की जाएगी।
गौरतलब है कि सिविल लाइन्स रेलवे फाटक स्थित 52 साल पुराने अवधिपार हो चुके उच्च जलाशय को हटाने की कार्रवाई बीते दस साल से जलदाय विभाग कर रहा है। लेकिन टंकी हटाने का मामला अब तक अधरझूल में रहा है। इस बार टंकी हटाने के लिए बीते 18 दिसंबर को जिला कलक्टर ने भी विभाग को मंजूरी दे दी है। वहीं सार्वजनिक निर्माण विभाग के सयुंक्त शासन सचिव की अध्यक्षता में गठित कमेटी ने भी टंकी हटाने की रिपोर्ट जलदाय विभाग को सौंप दी हैं इसके बाद जलदाय विभाग ने टंकी हटाने से पहले टंकी के ठीक नीचे चल रहे सहायक पुलिस आयुक्त कार्यालय को भी बीते 10 जनवरी को पत्र लिखकर कार्यालय परिसर खाली करने के निर्देश दे चुका है।
बीते 9 जनवरी को विभाग ने टंकी हटाने की निविदा जारी कर दी जिसमें दो निजी फर्मों ने टेंडर प्रक्रिया में भाग लिया लेकिन जांच में एक फर्म के टेंडर डाक्युमेंट पूरे नहीं होने पर नोटिस जारी किया गया। तय समय में भी फर्म ने दस्तावेज विभाग को नहीं सौंपे। ऐसे में अब टंकी हटाने के टेंडर में सिर्फ एक ही फर्म तय हुई है। हालांकि आज टेंडर फार्म खोलकर निजी फर्म द्वारा दी गई दरों का आकलन किया जाएगा। विभाग की ओर से तय दरों के अनुसार फर्म की प्रस्तावित दरें होने पर ही विभाग फर्म को टंकी गिराने का वर्कआॅर्डर जारी करेगा।

anand yadav Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned