scriptPlay Review Twelve Angry Men | 12 एंग्री मैन... बेकसूर! | Patrika News

12 एंग्री मैन... बेकसूर!

locationजयपुरPublished: Sep 25, 2022 01:37:12 am

Submitted by:

Aryan Sharma

नाटक : 12 एंग्री मैन
लेखक : रेजीनॉल्ड रोज
हिंदी रूपांतरण : रंजीत कपूर
निर्देशक : विशाल विजय
कलाकार (अभिनेता) : नरेश प्रजापत, राजेश कसाना, योगेंद्र सिंह, चित्रार्थ मिश्रा, कमलेश बैरवा, मोहित भट्ट, महमूद अली, संदीप मिश्रा, विपिन चौधरी, ओम मीणा, राजा भाट, राहुल जांगिड़
मंच : रंगायन सभागार (जवाहर कला केंद्र)

कब हुआ मंचन : 24 सितंबर (शनिवार शाम सात बजे)

12 एंग्री मैन... बेकसूर!
12 एंग्री मैन... बेकसूर!,12 एंग्री मैन... बेकसूर!,12 एंग्री मैन... बेकसूर!
आर्यन शर्मा @ जयपुर. नाटक '12 एंग्री मैन' एक ऐसे कमरे में सेट किया गया है, जिसमें 12 जूरी मेंबर एकत्रित हुए हैं। ये एक-दूसरे के लिए अजनबी हैं। माहौल तनावपूर्ण है। जूरी सदस्यों को उस 19 साल के लड़के के भाग्य के बारे में फैसला करने के लिए कहा गया है, जिस पर अपने पिता की हत्या करने का आरोप है। जूरी को यह फैसला देना है कि वह लड़का 'कसूरवार' है या 'बेकसूर'। यह फैसला एकमत होना चाहिए। असहमति के मामले में फैसले को शून्य माना जाएगा। जैसे ही जूरी सदस्य हत्या के मामले में बहस करना शुरू करते हैं तो इस मामले के तथ्यों और चश्मदीद गवाहों के बयानों तथा युवक की पृष्ठभूमि को देखते हुए उन्हें लगता है कि यह 'ओपन-एंड-शट केस' है।
बहस की शुरुआत में वोटिंग होती है। जूरी के 11 सदस्य कहते हैं कि युवक हत्यारा है यानी दोषी है, मगर केवल एक सदस्य यानी जूरी नंबर 8 कहता है कि युवक दोषी नहीं है। अब तीखी बहस छिड़ जाती है। इस मुद्दे को कई बार वोटिंग के लिए रखा जाता है, प्रत्येक वोटिंग के साथ दोषी न होने की संख्या बढ़ जाती है। बहस के दौरान मेंबर्स के असली चेहरे, निजी विचार और सामाजिक पूर्वाग्रह उभरने लगते हैं। यहां तक कि एक-दूसरे को जलील करने से भी वे नहीं चूकते। बहस आगे बढ़ने और वोटिंग के साथ-साथ जहां अधिकांश मेंबर अपना फैसला बदल लेते हैं, वहीं जूरी नंबर 3 इसे लेकर पूरी तरह आश्वस्त है कि उस लड़के ने ही अपने पिता को मारा है। हालांकि, जूरी नंबर 3 क्लाइमेक्टिक सीन में दर्शकों को स्तब्ध कर देता है।
बहरहाल, नाटक को लय पकड़ने में शुरुआती कुछ मिनट लगते हैं, लेकिन जब यह एक बार फ्लो में आ जाता है तो नाटक की रिदम के साथ दर्शकों के 'आनंद की ताल' मिल जाती है और उनकी दिलचस्पी नाटक में बढ़ने लगती है। तामझाम से रहित इस प्रस्तुति में हर संवाद कौतूहल जगाता है। तमाम चरित्र जटिलताओं के बावजूद नाटक का आधार काफी सरल है। नाटक की संरचना घटना प्रधान की बजाय संवाद प्रधान है। एक्टर्स ने जिस अंदाज में महज एक कमरे के सेट में कॉन्फ्रेंस टेबल और कुर्सियों पर बैठने-उठने, चहलकदमी और भाव-भंगिमाओं को अभिव्यक्त किया है, वह इस नाटक की खूबसूरती है। अभिनय, निर्देशन और मंच पार्श्व तीनों के लिहाज से इसे एक संतुलित प्रस्तुति कहा जा सकता है, जो करीब एक घंटे 30 मिनट तक भावनात्मक व वैचारिक स्तर पर दर्शकों को अपने से कनेक्ट करके रखती है और उनका मनोरंजन करती है। कसा हुआ निर्देशन, कलाकारों की अदाकारी व संवाद अदायगी, मंच सज्जा और सेट प्रॉपर्टी नाटक की मूल भावना के अनुकूल हैं। नाटक में उस समय का 'जीवंत' दृश्य देखने को मिलता है जब अदालती फैसले जूरी मेंबर किया करते थे। अभिनय की बात करें तो जूरी नंबर 3 के रूप में योगेन्द्र सिंह ने एक अभिनेता के तौर पर खुद को और एक्सप्लोर किया है। जहां किरदार की डिमांड के मुताबिक उन्होंने अपनी एक्टिंग व डायलॉग डिलीवरी में अग्रेशन दिखाया है, वहीं दूसरी ओर क्लाइमैक्स में अपने (जूरी नंबर 3) बेटे के साथ कड़वे रिश्ते व अपने पूर्वाग्रह का खुलासा कर भावुक कर दिया और दर्शकों की सहानुभूति भी बटोर ली। उन्होंने वास्तव में अपने चरित्र को जीया है। महमूद अली अपने सहज अभिनय से प्रभावित करने में सफल रहे हैं। राजेश कसाना की अपीयरेंस दर्शकों को हंसने-गुदगुदाने का मौका देती है तो आक्रामक अंदाज के साथ ओम मीणा की परफॉर्मेंस सराहनीय है। चित्रार्थ मिश्रा और संदीप मिश्रा भी छाप छोड़ने में सफल रहे हैं। विपिन चौधरी, राजा भाट, राहुल जांगिड़, मोहित भट्ट, कमलेश बैरवा और नरेश प्रजापत ने भी अपने-अपने किरदार के मिजाज व पृष्ठभूमि को पकड़ते हुए बढि़या परफॉर्म किया है। सोहित शेखावत ने लाइटिंग और डीके भाटी ने संगीत संयोजन का जिम्मा बखूबी संभाला। '12 एंग्री मैन' की यह एक बढि़या और मजेदार प्रस्तुति है। 'बेकसूर' है! इसमें कोई दोराय नहीं है कि कोई भी प्रस्तुति परफेक्ट नहीं हो सकती, सुधार की गुंजाइश हमेशा रहती है। एक अच्छा निर्देशक और कलाकार भी वही है, जो अपनी हर प्रस्तुति पहले वाली से बेहतर बनाने की कोशिश करता है। ...तो उम्मीद है कि अगली बार इस टीम की '12 एंग्री मैन' की प्रस्तुति में 'चार चांद' और लगेंगे।
12 एंग्री मैन... बेकसूर!

सम्बधित खबरे

सबसे लोकप्रिय

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather Update: राजस्थान में बारिश को लेकर मौसम विभाग का आया लेटेस्ट अपडेट, पढ़ें खबरTata Blackbird मचाएगी बाजार में धूम! एडवांस फीचर्स के चलते Creta को मिलेगी बड़ी टक्करजयपुर के करीब गांव में सात दिन से सो भी नहीं पा रहे ग्रामीण, रात भर जागकर दे रहे पहरासातवीं के छात्रों ने चिट्ठी में लिखा अपना दुःख, प्रिंसिपल से कहा लड़कियां class में करती हैं ऐसी हरकतेंनए रंग में पेश हुई Maruti की ये 28Km माइलेज़ देने वाली SUV, अगले महीने भारत में होगी लॉन्चGanesh Chaturthi 2022: गणेश चतुर्थी पर गणपति जी की मूर्ति स्थापना का सबसे शुभ मुहूर्त यहां देखेंJaipur में सनकी आशिक ने कर दी बड़ी वारदात, लड़की थाने पहुंची और सुनाई हैरान करने वाली कहानीOptical Illusion: उल्लुओं के बीच में छुपी है एक बिल्ली, आपकी नजर है तेज तो 20 सेकंड में ढूंढकर दिखाये

बड़ी खबरें

महाराष्ट्र: बल्लारशाह रेलवे स्टेशन पर फुटओवर ब्रिज का हिस्सा गिरा, 20 यात्री घायल, 8 की हालत गंभीरGujarat Elections 2022: PM मोदी का कांग्रेस पर निशाना, कहा- देश में चरम पर था आतंकवादश्रद्धा मर्डर केस: सोमवार को आफताब के नार्को टेस्ट के लिए FSL में तैयारी, जानिए तिहाड़ में कैसे गुजरी पहली रातराजस्थान में बैकफुट पर कांग्रेस, पार्टी में फूट का डर, गहलोत खेमा शांत, पायलट समर्थक मुखरकेजरीवाल का बड़ा दावा! बोले- लिख कर देता हूं गुजरात में बन रही AAP की सरकारBJP का केजरीवाल पर हमला, संबित पात्रा बोले, सत्येंद्र जैन के लिए जेल में रखे गए हैं 10 लोगपूर्व राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद सहारनपुर दो दिवसीय दौरे पर, कई कार्यक्रमों में करेंगे शिरकतमन की बात में पीएम मोदी ने कहा, जी-20 की अध्यक्षता मिलना गौरव की बात
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.