ढाई साल से माँ तलाश रही लाल, पुलिस ने FIR दर्ज नहीं किया

ढाई साल से माँ तलाश रही लाल, पुलिस ने FIR दर्ज नहीं किया

SAVITA VYAS | Publish: Mar, 14 2018 12:53:43 PM (IST) Jaipur, Rajasthan, India

पांच साल पहले गया था , लौटा ही नहीं राजूराम, राजूराम मजदूरी के लिए पंजाब जाता था और साल-दो साल बाद ही लौटता था

जयपुर/बाड़मेर
पुलिस थानों में संवेदनाओं की कितनी कद्र है, इसी की बानगी है बाड़मेर स्थित गिड़ा थाने का एक मामला। पांच साल से राजूराम के घर आने के इंतजार में 70 साल की बूढ़ी मां के साथ पूरे परिवार की आंखों के आंसू सूख गए, लेकिन गुमशुदगी की इस अर्जी पर पुलिस ने एफआईआर तक नहीं लिखी।

 

ढाई साल से थाने के चक्कर लगाकर थक चुका राजूराम को बेटा नरसाराम मंगलवार को जिला पुलिस अधीक्षक के पास पहुंचा और गुमशुदगी दर्ज नहीं होने की जानकारी दी। पुलिस अधीक्षक ने तत्काल गिड़ा थानाधिकारी को निर्देश दिए और इस पर मंगलवार को मामला दर्ज किया गया।


गिड़ा क्षेत्र के मलवा गोलियान का निवासी राजूराम मजदूरी के लिए पंजाब जाता था और साल-दो साल बाद ही लौटता था। करीब पांच साल पहले वह गया तो आया नहीं। दो साल बाद परिजन को चिंता हुई और अता-पता किया, लेकिन कुछ पता नहीं चला। इसके बाद वे पुलिस थाना गिड़ा पहुंचे और प्राथमिकी दर्ज करवानी चाही, पुलिस ने हर बार टरका दिया। मामला दर्ज करवाने हर बार गुमशुदा राजूराम का भाई और उसका बेटा नरसाराम जाता, लेकिन गुमशुदगी दर्ज नहीं हुई। हर बार थानों से रटारटाया इंतजार मिलता। एक ओर तो थानों में फरियादों की गुहार सुनने का दावा किया जाता है। वहीं दूसरी ओर थाने में आने पर भी फरियादियों की कोई सुनवाई नहीं हो रही है।


नरसाराम ने बताया कि ढाई साल से पुलिस ने मामला दर्ज नहीं किया। पुलिस अधीक्षक से मिले तो आज मामला दर्ज किया है। पहले किया होता तो शायद मिल जाते। ढाई साल से पिताजी का इंतजार करते—करते थक गए हैं, लेकिन अभी तक भी वो वापस नहीं लौटे हैं। घरवाले सभी को पिताजी का इंतजार है। दादी का रो—रोकर बुरा हाल है। अपनों का इंतजार में ढाई साल कैसे गुजारे हैं, ये हम से भला कौन जान सकता है

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned