धार्मिक आयोजन घटे, देसी घी की बिक्री में गिरावट

इन दिनों एक ओर जहां खाने के तेलों ( edible oils ) में निरंतर तेजी चल रही है, वहीं देशी घी ( ghee ) की कीमतें लगातार टूट रही हैं। लॉकडाउन ( lockdown ) के बाद से ब्रांडेड घी काफी सस्ता हो चुका है। महान मिल्क फूड्स लिमिटेड के जीएम (मार्केटिंग) एस.के. वर्मा ने बताया कि लॉकडाउन लगने के साथ ही बल्क में घी की बिक्री लगातार घट रही है।

By: Narendra Kumar Solanki

Published: 16 Oct 2020, 07:43 PM IST

जयपुर। इन दिनों एक ओर जहां खाने के तेलों में निरंतर तेजी चल रही है, वहीं देशी घी की कीमतें लगातार टूट रही हैं। लॉकडाउन के बाद से ब्रांडेड घी काफी सस्ता हो चुका है। महान मिल्क फूड्स लिमिटेड के जीएम (मार्केटिंग) एस.के. वर्मा ने बताया कि लॉकडाउन लगने के साथ ही बल्क में घी की बिक्री लगातार घट रही है। वर्तमान में देशी घी बल्क में मात्र 20 फीसदी ही बिक रहा है। हालांकि कंज्यूमर पैक की मांग पहले के मुकाबले बढ़ी है। इस बीच शादी, समारोह आदि नहीं होने से टिनों में घी की उपभोक्ता लिवाली नहीं के बराबर रह गई है। घी के बाई प्रोडक्ट स्किम्ड मिल्क पाउडर में भी उपभोक्ता मांग नहीं है। लिहाजा घी के भावों में अच्छी गिरावट दर्ज की गई है। इस बीच शनिवार से नवरात्रा प्रारंभ होने के कारण हालांकि देशी घी की डिमांड निकली है, लेकिन कीमतों में मंदी का रुख ही देखा जा रहा है।
जानकारों का कहना है कि मंदिर बंद होने से घी की खपत में भारी कमी आई है। धार्मिक आयोजनों में घी की बिक्री अधिक होती है। वे भी इन दिनों बंद होने से घी के व्यापार को चौतरफा चोट पहुंची है। दूसरी तरफ सरसों सीड महंगी होने से सरसों तेल में एकतरफा तेजी का रुख बना हुआ है। जयपुर मंडी में आज सरसों मिल डिलीवरी 42 प्रतिशत तेल कंडीशन के भाव 5675 रुपए प्रति क्विंटल पर लगभग स्थिर बने हुए थे।

Narendra Kumar Solanki Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned