राजस्थान में पहली बार सेटेलाइट से ट्रेस किए भारी वाहन

एसडीआरआई एवं परिवहन विभाग की संयुक्त कार्रवाई....

By: Jagmohan Sharma

Published: 11 Jan 2018, 02:33 PM IST

- जगमोहन शर्मा

फोकस एनर्जी के जैसलमेर में स्थित गैस उत्खनन क्षेत्र की जांच

जयपुर। एसडीआरआई टीम एवं परिवहन विभाग की संयुक्त कार्यवाही में फोकस एनर्जी लि. इंडिया के १२३ वाहनों की सेटेलाइट द्वारा जांच की गई, जिसमें ३८ वाहनों का चालान बनाया गया है। यह राज्य की पहली एेसी कार्रवाई है, जिसमें अंपजीकृत या अन्य राज्यों में पंजीकृत वाहनों को सेटेलाइट से ट्रेस किया गया है। गौरतलब है कि फोकस एनर्जी लि. के जैसलमेर में पाकिस्तान सीमा के पास स्थित गांव लंगतला व लोहार गांवों में ऑयल एण्ड नेचुरल गैस एक्सप्लोरेशन के 20 स्थानों पर इन वाहनों का इस्तेमाल किया जा रहा था।

 

इन 38 वाहनों से 1 करोड़ 30 लाख रुपए का राजस्व प्राप्त होने की संभावना है। वाहनों में मुख्य रूप से सनी 80 टन क्रेन, लॉजिंग वैन, अमरीकी निर्मित केनवर होर्स व
ट्रांस्मिट मिक्सर, रूस निर्मित क्रेन तथा भारतीय डम्पर, ट्रक और ट्रेलर शामिल हैं।

 

नहीं चुकाया कर

इन वाहनों पर कर दर वाहनों की कीमत का 8.5 प्रतिशत है। जांच किए गए वाहनों में 38 वाहन ऐसे पाए गए, जो कि या तो अपंजीकृत है या फिर अन्य राज्यों में पंजीकृत है तथा राजस्थान राज्य में बिना कर चुकाएं संचालित हो रहे हैं। ये वाहन विदेशों जैसे रूस, अमरीका तथा चीन आदि से आयात किए गए हैं, जिनका प्रयोग मुख्यत: उत्खनन, खनन, आदि कार्यों में लिया जाता है।

 

फोकस एनर्जी लि. तेल एवं गैस उत्खलन, विकास एवं उत्पादन हेतु स्थापित कंपनी है। जिसके पास भारत में चार ब्लॉक क्रमशःRJ-ON/6, RJONN-2003/02, GK-ON/G तथा CB-OSN2004/1 2100 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र मे फैले है। उक्त कंपनी का RJ-ON/6 ब्लॉक पाकिस्तान सीमा पर राजस्थान जैसलमेर जिले में स्थित है जो कि 4026 वर्ग किलोमीटर क्षेत्रफल फैला है।

 

उल्लेखनीय है कि एसडीआरआई द्वारा इस प्रकार की कार्यवाहियॉं एक अभियान के रूप में सम्पूर्ण राज्य में की जा रही है तथा इससे पूर्व की गई कार्यवाहियों में भारी मात्रा में राजस्व भी प्राप्त हुआ है।

Jagmohan Sharma Desk/Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned