RU: कुलपति के फैसले के खिलाफ उतरे छात्र संगठन, दी प्रदर्शन की चेतावनी

By: Arvind Palawat

Published: 04 Feb 2020, 08:20 PM IST

Jaipur, Jaipur, Rajasthan, India
1/2

जयपुर। राजस्थान विश्वविद्यालय में परीक्षा कार्यों में लापरवाही बरतने वाले शिक्षकों को परीक्षा कार्यों से बहिष्कृत करने के मामले में जारी आदेश पर कुलपति की ओर से जारी स्थगन आदेश के खिलाफ स्टूडेंट्स लामबंद हो रहे है। एनएसयूआई की ओर से कुलपति सचिवालय को इस संबंध में ज्ञापन सौंपकर परीक्षा कार्यों में लापरवाही बरतने वाले शिक्षकों को कम से कम तीन साल के लिए परीक्षा कार्यों से डीबार करने की मांग की गई है। एनएसयूआई प्रदेश प्रवक्ता रमेश भाटी ने कहा कि एनएसयूआई की ओर से ज्ञापन में दोषी पाए गए शिक्षकों पर कठोर कार्रवाई करने की मांग की गई है। वहीं, एबीवीपी के प्रांत मंत्री हुश्यार मीणा का कहना है कि प्रशासन से उत्तर पुस्तिकाओं की सघन जांच की मांग उठाई गई है। इसके साथ ही यदि शिक्षकों के खिलाफ कार्रवाई नहीं की जाती है तो उग्र प्रदर्शन किया जाएगा।

यह है मामला
दरअसल, मामला पिछले वर्ष की उत्तर पुस्तिकाओं की चैकिंग से जुड़ा हैं। विभिन्न कक्षाओं की पिछले साल हुई परीक्षाओं की उत्तर-पुस्तिकाओं के मूल्यांकन में परीक्षकों की ओर से की गई लापरवाही सामने आई थी। यह मामला तब उजागर हुआ, जब परीक्षार्थियों ने उत्तर पुस्तिका सूचना का अधिकार कानून के तहत निकलवाई। इसमें अंकों के योग की त्रुटि, प्रश्न के किसी भाग का मूल्यांकन न किया जाना, पोर्टल पर अंकों को गलत अंकित करना सहित अन्य खामियां पाई गई। इस पर ईपीएमसी कमेटी की अनुशंषा पर इन परीक्षकों के खिलाफ कार्रवाई की गई। वहीं, आरयू के शिक्षकों ने जब इस कार्रवाई का विरोध करना शुरू किया तो कुलपति प्रोफेसर आरके कोठारी ने समीक्षा के नाम पर ईपीएमसी के आदेश को फिलहाल स्थगित कर दिया।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned