जयपुर के इस स्कूल में बना है टॉर्चर रूम, वहां है एक खतरनाक कुत्ता, बात नहीं मानने पर बच्चों से होता है ऐसा बर्ताव

वाटिका रोड पर केडी स्कूल में छात्र की मौत का मामला: पुलिस को मिला संदिग्ध कमरा, गिरने से पहले छात्रों को रोता मिला था

देवेन्द्र शर्मा / जयपुर। जयपुर के एक निजी स्कूल में ऐसे टॉर्चर रूम का पता चला है, जहां छात्र—छात्राओं को प्रताड़ित किया जाता है। बच्चों को प्रताड़ित करने के लिए यहां खतरनाक नस्ल का कुत्ता भी रखा जाता है। वाटिका रोड स्थित यह स्कूल केडी सीनियर सैकण्डरी पब्लिक स्कूल है। इस स्कूल में शुक्रवार को एक छात्र संजय जांगिड़ की संदेहास्पद परिस्थितियों में तीसरी मंजिल से कूदने से मौत हुई है। मौत से पहले संजय को इसी कक्ष में लाए जाने की आशंका जताई जा रही है।

वहीं परिजनों का आरोप है कि छात्र को पहले टॉर्चर रूम में ले जाकर मारपीट की गई। जिससे वह काफी प्रताड़ित हुआ और वह कूद गया। मृतक छात्र के परिजन कालूराम जांगिड़ की रिपोर्ट पर पुलिस ने स्कूल प्रशासन के विरुद्ध गैर इरादतन हत्या का मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। कुछ छात्रों ने बताया कि संजय की पिटाई की गई थी। परिजनों को बुलाकर उसकी शिकायत करने की बात चल रही थी।

सूत्रों से पता चला है कि बच्चों को डरा या सजा देने के लिए स्कूल में एक अलग से कमरा बना रखा है। पूरे स्कूल, कक्षा कक्ष में कैमरे लगे हुए हैं, लेकिन इस कमरे में नहीं लगे हैं। ऐसे में पुलिस भी पता नहीं लगा पा रहा है कि संजय के साथ कहां मारपीट की गई है। बताया जा रहा है इस कमरे में एक कुत्ता भी रखते हैं। बच्चों के साथ बुरा बर्ताव किया जाता है।


घूम रहा था परेशान
केडी स्कूल में ही 12वीं कक्षा में पढऩे वाली एक छात्रा ने बताया कि छुट्टी से पहले वह ऊपर-नीचे घूम रहा था। बहुत परेशान लग रहा था और रो भी रहा था। उससे पूछा तो उसने कुछ नहीं बताया।

पुलिस ने साधी चुप्पी
मामले में पुलिस दो दिन से सिर्फ सीसीटीवी कैमरों की फुटेज ही खंगाल रही है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में क्या जानकारी सामने आई, उसे भी छुपा रही है। वहीं आरोपी कमल मीणा, सरिता, सत्येन्द्र और कैलाश मीणा से भी पूछताछ नहीं की गई है। मृतक छात्र के साथी दोस्तों, परिजनों से भी बातचीत की पुलिस ने जहमत नहीं उठाई है। वहीं स्कूल की ओर से छात्रों को छुट्टी और सोमवार को स्कूल खुलने के मैसेज किए गए।

pushpendra shekhawat
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned