पैसों के अभाव में इलाज नहीं करा पा रहे मरीजों के लिए खुशखबरी, निजी अस्पतालों में लोन पर करा सकेंगे इलाज

राजधानी में निजी अस्पताल इलाज के लिए कम ब्याज पर लोन सुविधा देने की ओर कदम बढ़ा रहे हैं। इसके तहत मरीज इलाज लेकर किस्तों पर बिल भर सकेंगे।

By: santosh

Published: 25 Dec 2016, 10:51 AM IST

राजस्थान में पैसों के अभाव में इलाज नहीं करा पा रहे गम्भीर रोग से पीडि़तों के लिए राहत की खबर है। राजधानी में निजी अस्पताल इलाज के लिए कम ब्याज पर लोन सुविधा देने की ओर कदम बढ़ा रहे हैं। इसके तहत मरीज इलाज लेकर किस्तों पर बिल भर सकेंगे।



गौरतलब है कि प्रदेश में हर साल करीब 10 हजार मरीज ऐसे होते हैं, जो पैसे के अभाव में इलाज नहीं करा पाते। ऐसे मरीजों पर दोहरी मार पड़ती है। एक तो गंभीर बीमारी की पीड़ा और दूसरा महंगा उपचार। 



अब लोन सुविधा मिलने से इन मरीजों को इलाज मिलने में आसानी होगी। राजधानी में फिलहाल महात्मा गांधी मेडिकल विवि और कॉलेज से सम्बद्ध अस्पतालों में यह सुविधा शुरू हुई है। इसमें मरीज को कोई अमानत राशि भी नहीं देनी होगी।



50 हजार से 5 लाख तक

विवि के चेयरमैन डॉ. एमएल स्वर्णकार ने बताया कि लोन 50 हजार से 5 लाख तक के उपचार पर मिल सकेगा। उड़ीसा और बंगाल में संचालित ऐसी योजना का अध्ययन कर यह कदम उठाया गया है। गंभीर रोग की स्थिति में किस्तों में सालभर में पूरी रकम चुकाने पर ब्याज नहीं लेने पर भी विचार किया जा रहा है। इधर, प्रदेश के अन्य बड़े निजी अस्पतालों में भी यह सुविधा शुरू होने की उम्मीद बढ़ गई है।



कितना ब्याज

12 महीने के लिए 5 फीसदी वार्षिक ब्याज दर

12 से 36 माह के लिए 10 फीसदी वार्षिक ब्याज दर

03 घंटे में मंजूर हो जाएगा लोन, ईएमआई की भी सुविधा



ये चाहिए होंगे दस्तावेज

आधार कार्ड, वोटर आईडी और ड्राइविंग लाइससें में से एक दस्तावेज

सरकारी या निजी नौकरीपेशा के लिए नियोक्ता का वेतन प्रमाण पत्र यानी सैलरी स्लिप

अन्य के लिए आयकर विवरणी

छह माह का बैंक स्टेटमेंट और स्वयं या रिश्तेदार का पेन कार्ड

अवयस्क होने पर माता-पिता या संरक्षक को मिल सकेगा लोन 

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned