सब्जियों ने बिगाड़ा खाने का स्वाद, 40 फीसदी तक बढ़े दाम

Mridula Sharma

Publish: Jul, 14 2018 11:43:43 AM (IST)

Jaipur, Rajasthan, India
सब्जियों ने बिगाड़ा खाने का स्वाद, 40 फीसदी तक बढ़े दाम

टमाटर के भाव छू रहे आसमान, बाहरी राज्यों से आ रहीं सब्जियां

जयपुर. शहर में टमाटर के भाव आसमान छू रहे हैं, दूसरी ओर अन्य सब्जियों के बढ़ते हुए भावों ने आम आदमी पर बोझ बढ़ा दिया है। शहर के आसपास के इलाकों बस्सी, चौमूं से सब्जियों की आवक कम होने से और बाहर से सब्जियां आने के कारण उनके दाम बढ़ गए हैं। टमाटर की स्थानीय आवक बिल्कुल नहीं हो रही तो ग्वारफली, तुरई, टिंडा, धनिया आदि के दामों में बीते साल से 40 प्रतिशत बढ़े हैं।
घर की थाली में फिर से अलग-अलग तरह की दालें जगह बना रही है। हमेशा हर मौसम में 10 रुपए किलो बिकने वाला आलू थोक बाजार में 13 से 14 और ग्राहकों तक 22 रुपए किलो के बीच पहुंच रहा है। वहीं प्याज के दाम भी खुदरा बाजार में 25 रुपए किलो तक पहुंच गए । आलू के थोक विक्रेता सुरेश का कहना है कि आलू कोल्ट स्टोरेज का आ रहा है। यूपी और अन्य जगहों पर गर्मी के मौसम में आलू की पैदावार बिल्कुल नहीं होती है। स्टोरेज का होने के कारण थोड़ा महंगा है।

लौकी के भाव भी बढ़े
मुहाना मंडी में जहां सब्जियों की रोजाना 600 के आसपास गाडिय़ां आती थी, अब यह 400 के आसपास ही रह गई है। सब्जियों की आवक कम होने से दामों में बढ़ोतरी हुई है। एक महीने पहले 10 से 15 रुपए तक बिकने वाली लौकी 50-60 रुपए प्रतिकिलो के भाव पर पहुंच गई है। यदि प्रदेश में मानसून की दो से तीन बार अच्छी बारिश हो जाए तो कीमतों में कमी देखने को मिल सकती है।

जल्द आएगी कमी
जयपुर फल-सब्जी थोक विक्रेता संघ मुहाना टर्मिनल मार्केट के अध्यक्ष राहुल तंवर ने बताया कि प्रदेश में बारिश नहीं होने के कारण सीजनेबल सब्जियों के साथ अन्य सब्जियां महंगी है। मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र से सब्जियों की आवक हो रही है जिस कारण से सब्जियां महंगी है, आगे आने वाले दिनों में कीमतों में कमी आएगी। फल-सब्जी क्रेता-विक्रेता व्यापार संघ के महामंत्री गिल्ली भोजराज के अनुसार लोकल सब्जियां आवक नहीं होने के चलते महंगी है। बारिश अच्छी आई तो सब्जियों के दाम गिर सकते हैं। कुछ सब्जियां ही अभी सस्ती है। दूसरे राज्यों का माल शहर में पहुंच रहा है, जिस कारण से दाम महंगे हैं।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned