जयपुर में कोरोना विस्फोट, सरकारी कार्यालयो में वर्क फ्रॉम होम की व्यवस्था ठंडे बस्ते में

- अफसरों की बातों से बाहर नहीं निकली वर्क फ्रॉम होम की व्यवस्था
— हर विभाग में कोरोना के मरीजों की संख्या बढ़ी

By: PUNEET SHARMA

Published: 17 Sep 2020, 09:27 AM IST

जयपुर। प्रदेश में चार महीने पहले कोरोना संक्रमण के एक हजार से ज्यादा मामने नहीं थे। लेकिन सरकारी कार्यालयों में 30 और 50 फीसदी कर्मचारियों को कार्यालय बुला कर अन्य कर्मचारियों से वर्क फ्रॉम होम के जरिए कार्य कराया गया। लेकिन अब प्रतिदिन सरकारी विभागों में बड़ी संख्या में कार्मिक कोरोना संक्रमित हो रहे हैं तब भी वर्क फॉम होम की व्यवव्था आला अफसरों की बातों तक ही समिति है। सरकारी विभागों में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए वर्क फ्रॉम होम की व्यवस्था किस तरह से हो सकती है,क्या क्या उपाय किए जा सकते हैं इसे लेकर आईटी विभाग के चुप्पी साधे बैठे हैं।

पांच से ज्यादा पॉजिटिव तो कार्यालय दो दिन के लिए बंद
वर्क फ्रॉम होम की व्यवस्थाक को बढ़ावा देने के बजाय अफसरों ने नई व्यवस्था कर ली है। देखने में आया है कि जिस विभाग में पांच से ज्यादा कोरोना संक्रमित मरीज मिलते हैं उस विभाग को दो दिन के बंद कर दिया जाता है। इसके बाद फिर पूरी क्षमता के साथ कार्मिकों को कार्यालय बुला लिया जाता है। कुछ दिनों बाद एक के बाद एक फिर कार्मिक कोरोना संक्रमण के शिकार हो जाते हैं।

घर से होने वाले काम होने थे चिन्हित
पूर्व मुख्य सचिव डीबी गुप्ता ने सभी विभागों में उन कार्यों को चिन्हित करने के निर्देश दिए थे जो आसानी से घर से हो सकें। लेकिन किसी भी विभाग के अफसरों ने इस कार्य में रूचि नहीं ली। वहीं आईटी विभाग रोडमैप तक नहीं बना सका कि पूरे प्रदेश के सरकारी कार्यालयों में वर्क फ्रॉम होम किस तरह किया जा सकता है।

सचिवालय में ढाई हजार से ज्यादा कार्मिक आते हैं प्रतिदिन
सचिवालय में ढाई हजार से ज्यादा कार्मिक प्रतिदिन आते हैं। यहां आईटी वार रूम, पंचायती राज विभाग, जल संसाधन विभाग समेत कई विभागो में कोरोना मरीज सामने आ चुके हैं। लेकिन यहां भी विभागों में वर्क फ्रॉम होम और न ही विभागों में घर से किए जाने वाले कार्य चिन्हित किए गए।

वर्क फ्रॉम होम से आईटी विभाग ही दूर
सचिवालय के पास योजना भवन में आईटी विभाग है। वर्क फ्रॉम होम जैसी व्यवस्था लागू करने का जिम्मा आईटी विभाग पर है। लेकिन इस व्यवस्था से यही विभाग कोसों दूर है। जबकि पूरे योजना भवन में बीते चार महीनों में 50 से ज्यादा कोरोना मरीज सामने आ चुके हैं और आए दिन मरीज सामने भी आ रहे हैं।

PUNEET SHARMA Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned