JAISALMER NEWS- खुद के अस्तित्व को बचाने बेटियां उतरी सडक़ों पर, लोगों को बताई अपनी अहमियत

रैली निकाल बेटी बचाने का दिया संदेश

By: jitendra changani

Published: 08 Mar 2018, 11:02 AM IST

सम में हुए विविध कार्यक्रम
जैसलमेर . प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की झुंझनू जिले की यात्रा को लेकर बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ कार्यक्रम के तहत जिले के राउमावि सम में प्रार्थना सभा हुई। इसमें स्वस्थ पोषण विषय पर वार्ता की गई। इसके बाद विद्यार्थियों ने जागरूकता रैली निकाल बेटी बचाने व बढ़ाने का संदेश दिया। ऐसे ही विद्यालय में अंतिम दो कालांश में मीना के मुख्य आतिथ्य व पून खत्री के विशिष्ट आतिथ्य व संस्था प्रधान गोविन्दराम की अध्यक्षता में प्रतियोगिताएं हुई। कक्षा 11 व 9वीं की छात्राओं में स्वस्थ्य पोषण विषय पर क्वीज प्रतियोगिता हुई। इसमें 11वीं की छात्राएं विजयी रही। पोस्टर प्रतियोगिता में कविता पहले व मुकेश कुमार दूसरे स्थान पर रहे। इस दौरान किरण सहू व पूनम खत्री ने विचार व्यक्त किए।


बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ की ली शपथ
जैसलमेर जिला कलक्टर की अध्यक्षता में बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ अभियान के तहत बुधवार को जिले के विभिन्न विद्यालयों में शपथ दिलाई गई। सहायक निदेशक महिला अधिकारिता भैरूप्रकाश नागर ने कमला नेहरू विद्यालय गफूर भट्टा, चैनपुरा, चूंधी एवं सीनीयर सैंकेडरी स्कूल रूपसी में शपथ दिलार्ई। जिले के विभिन्न ग्राम पंचायतों में साथिनों की ओर से जाजम बैठकें की गई। इसमें सहायक लेखाधिकारी महेश ओझा ने सहयोग दिया।

Jaisalmer patrika
IMAGE CREDIT: patrika

बालिका विद्यालय नहीं होने से हो रही है परेशानी
फतेहगढ़ उपखंड मुख्यालय में बालिकाओं के लिए अलग से शिक्षा पाने के लिए उच्च बालिका विद्यालय नहीं होने से क्षेत्र की बालिकाएं शिक्षा से वंचित रह रही है। उपखंड मुख्यालय पर बालिका शिक्षा के अलग से विद्यालय के नाम पर मात्र प्राथमिक विद्यालय ही है। उच्च प्राथमिक, माध्यमिक या उच्च माध्यमिक विद्यालय अलग से नहीं होने के कारण प्राथमिक विद्यालय के बाद बालिकाओं को मजबूरन विद्यालय छोडकऱ घरेलू कामकाज करना पड़ रहा है। जिससे उपखंड मुख्यालय सहित आसपास के विभिन्न गांवों व ढाणियों कीं बालिकाएं उच्च शिक्षा से वंचित हो रही हैं। फतेहगढ़ उपखंड क्षेत्र में कहीं भी बालिकाओं के लिए अलग से माध्यमिक या उच्च माध्यमिक विद्यालय की सुविधा नहीं है। क्षेत्र के ग्रामीणों ने जनप्रतिनिधियों व शिक्षा विभाग को कई बार अवगत करवाया, लेकिन उन्हें केवल आश्वासन के कुछ भी नहीं मिला। एक ओर केंद्र व राज्य सरकार बालिकाओं को शिक्षा से जोडऩे के लिए जोरशोर से प्रचार प्रसार ने के दावे कर रही हैं। दूसरी तरफ फतेहगढ़ उपखंड मुख्यालय होते हुए भी यहां बालिकाओ को उच्च शिक्षा से वंचित रहना पड़ रहा है। उपखंंड मुुख्यालय में स्थित विभिन्न सरकारी व गैर सरकारी उच्च प्राथमिक विधालय में पढऩे वाली छात्राओं की संख्या संैकड़ों में होती है, लेकिन प्राथमिक तक शिक्षा के बाद इन बालिकाओं कीं संख्या विधालयों में नाम मात्र कीं रह जाती हैं।ग्रामीण क्षेत्रों में आज भी बालिकाओं को सैकड़ों अभिभावक उच्च शिक्षा तो दिलाना चाहते हैं, लेकिन लडक़ों के साथ वाले विद्यालयों में नहीं भेजना चाहते हैं। उपखंड क्षेत्र में जनप्रतिनिधियों कीं उदासीनता के कारण क्षेत्र कीं होनहार बालिकाओं को उच्च शिक्षा से वंचित रहना पड़ रहा हैं।
बालिकाएं हो रही उच्च शिक्षा से वंचित
यहां बालिकाओं के लिए उच्च अध्ययन की अलग से सुविधा नहीं है। ऐसे में वे उच्च शिक्षा से वंचित रह रही है। फतेहगढ़ उपखंड मुख्यालय पर पूर्व में संचालित बालिका उच्च प्राथमिक विधालय को भी शिक्षा विभाग के नुमाइंदों ने उच्च माध्यमिक विद्यालय में मर्ज कर दिया।
- सवाईलाल सैन, सरपंच, फतेहगढ़

Jaisalmer patrika
IMAGE CREDIT: patrika
jitendra changani Desk/Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned