Jaisalmer News- जैसलमेर के इस ‘ड्रीम’ प्रोजेक्ट पर कर दिए करोडो खर्च फिर भी नहीं बना...

By: jitendra changani

Published: 26 Nov 2017, 11:30 AM IST

Jaisalmer, Rajasthan, India

Rajasthan patrika

1/4

‘ड्रीम’ बनकर रह गया ‘ड्रीम प्रोजेक्ट’ जैसलमेर के ड्रीम प्रोजेक्ट कहे जाने वाले सिटी पार्क की कहानी उसकी बदहाल अवस्था खुद बयां कर रही है। इसके विकास के नाम पर बड़ी धनराशि तो खर्च की गई, लेकिन आज तक सुधार देखने को नहीं मिला है। गौरतलब है कि बाड़मेर मार्ग पर वर्ष 2003 में सिटी पार्क का कार्य शुरू किया गया। करीब 13 वर्षों के दौरान नगरपालिका और अब नगरपरिषद ने करोड़ों रुपए खर्च कर दिए, लेकिन यह आज भी अधूरा है और इसका कोई उपयोग ही नहीं हो रहा। इसकी मौजूदा स्थिति व जिम्मेदारों की गंभीरता देखकर साफ लग रहा है कि सात समंदर पार से आने वाले सैलानियों को शांति व सुकून के पल बिताने के लिए यहां अभी लंबा तक इंतजार करना पड़ेगा। आज स्थिति यह है कि सिटी पार्क में हरी दूब बदहाल स्थिति में है। यहां टाइल्स भी उखड़ी हुई है। स्थिति यह है कि नलकूप ठप व म्यूजिकल फाउंटेन पर लगे सारे फव्वारे भी गायब होने लगे हैं। यही नहीं फाउंटेन के भीतर लगी टाइल्स और वहां लगे ग्रेनाइट पत्थर की पट्टियां भी दुर्दशा का दंश झेल रही है। आवारा पशुओं का स्वच्छंद विचरण यहां बना हुआ है।

जैसलमेर नगर में सौन्दर्यीकरण को लेकर किया गया था निर्माण कार्य
जैसलमेर. पर्यटन के लिहाज से विश्व पर्यटन मानचित्र पर विशिष्ट पहचान बना चुकी स्वर्णनगरी में सौन्दर्यीकरण को लेकर खर्च की गई बड़ी धनराशि खर्च का दुरुपयोग हो रहा है। कहीं निर्माण तो कहीं विकास को लेकर 4 करोड़ से अधिक की राशि खर्च हो चुकी है, लेकिन उसका कोई लाभ ही देखने को नहीं मिल रहा है। ऐसे में सरकारी धन का दुरुपयोग साफ तौर पर देखा जा सकता है। लंबे समय से यह सिलसिला बना हुआ है, लेकिन ध्यान अभी तक किसी का ही नहीं गया है।

Show More

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned