JAISALMER NEWS- प्रधानमंत्री मोदी ने जैसलमेर कलक्टर को जैसाणा की बेटी बचाने के लिए कहा कुछ ऐसा कि सुनकर कांप जाएगी बेटी मारने वालों की...

- प्रधानमंत्री ने जिले में बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान को जन आंदोलन बनाने को कहा
-जैसलमेर सहित छह जिलों के कलक्टर्स के साथ की खास बातचीत

 

By: jitendra changani

Published: 09 Mar 2018, 01:29 PM IST

बेटियों की बहार से खिलखिलाया जैसाण
जैसलमेर. बेटों के मुकाबले बेटियों की कम संख्या के लिए देश भर के चुनिंदा क्षेत्रों में शुमार होने वाले सीमावर्ती जैसलमेर जिले में अब तस्वीर बदल रही है। वर्ष 2011 की राष्ट्रीय जनगणना में जैसलमेर में 1000 पुरुषों पर महज 852 महिलाएं थीं और विगत कुछ वर्षों के दौरान बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान के तहत सरकारी स्तर पर किए गए विभिन्न उपायों से अब यह आंकड़ा बच्चों की जन्म दर में बदलता प्रतीत हो रहा है। चिकित्सा महकमे की ओर से जुटाए गए आंकड़े के अनुसार वर्तमान में जैसलमेर जिले में 1000 बेटों पर बेटियों की संख्या करीब 935 हो गई है। जैसलमेर में आ रहे इस बदलाव को स्वयं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सराहा है। उन्होंने गुरुवार को राजस्थान के झुंझुनूं शहर की यात्रा के दौरान जैसलमेर कलक्टर कैलाशचंद मीना सहित ऐसे चंद जिलों के कलक्टर्स के साथ विशेष तौर पर बैठक की, जो लिंगानुपात के मामले में पिछड़े रहे हैं।
मोदी ने कहा, जन आंदोलन बनाएं
प्रधानमंत्री मोदी ने अपनी झुंझुनूं यात्रा के अवसर पर जैसलमेर सहित धौलपुर, करौली, बारां, सिरोही के साथ हरियाणा के मेवात जिलों के कलक्टर्स के साथ बैठक की।मोदी ने इन सभी कलक्टर्स से कहा कि, ‘बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ’ अभियान को जन आंदोलन बनाएं।उन्होंने इस अभियान से समाज के विभिन्न तबकों को जोडऩे पर जोर दिया तथा सरकारी विभागों के साथ गैरसरकारी संगठनों व आमजन का सहयोग लेने के लिए कलक्टर्स को प्रेरित किया।
फैक्ट फाइल -
-2011 की जनगणना में 1000 पुरुषों पर 852 थी महिलाएं
-935 बालिकाएं जन्म ले रही 1000 बालकों पर वर्तमान में
-7.50 लाख से ज्यादा हो चुकी जिले की जनसंख्या

व्यापक बनाया जाएगा अभियान को
प्रधानमंत्री के साथ बैठक में बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान के संबंध में बातचीत हुई।उनकी प्रेरणा से जिले में इस अभियान को और व्यापक बनाया जाएगा।जन जुड़ाव बढ़ाने पर जोर देंगे।
-कैलाशचंद मीना, जिला कलक्टर, जैसलमेर

Jaisalmer patrika
IMAGE CREDIT: patrika

कैसे आया है बढ़ोतरी का आंकड़ा
-जैसलमेर जिले में बालिकाओं की संख्या में इजाफा होने का यह आंकड़ा संस्थागत प्रसव के दौरान पीसीटीएस नामक ऑनलाइन पोर्टल पर दर्ज हुआ है।
-पोर्टल में सरकारी चिकित्सा केंद्रों में जन्म लेने वाले बच्चों की ऑनलाइन जानकारी फीड की जाती है।
-बताया जाता है कि चिकित्सा विभाग की ओर से तैयार यह सॉफ्टवेयर संस्थागत प्रसव संबंधी जानकारी देता है।
-जैसलमेर जिले में संस्थागत प्रसव अब 1000 लडक़ों पर 935 लड़कियों के पैदा होने की जानकारी दे रहा है।
-इसी वजह से जिले के महिला लिंगानुपात में आने वाले समय में सकारात्मक बदलाव की उम्मीद जाहिर की जा रही है।
-पीसीपीएनडीटी के जिला समन्वयक डॉ. निहाल विश्नोई के अनुसार जिले के तमाम सोनोग्राफी सेंटर्स पर परीक्षण पर सख्ती से पाबंदी लगाई गई है।

 

PM Narendra Modi
Show More
jitendra changani Desk/Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned