Jaisalmer- शहर में स्वच्छता अभियान की दशा से नाराज कलक्टर बोले, सफाई व्यवस्था में राजनीति नहीं करें

- नगरपरिषद के आला अधिकारियों की गैरमौजूदगी पर भी जताई नाराजगी
- जिले में "स्वच्छता ही सेवा अभियान" का आगाज

By: jitendra changani

Updated: 16 Sep 2017, 01:19 PM IST

जैसलमर. जैसलमेर शहरी क्षेत्र में स्वच्छता अभियान की मौजूदा दशा को लेकर जिला कलक्टर कैलाशचंद मीना शुक्रवार को बेहद नाराज नजर आए। जिला परिषद के अटल सेवा केंद्र में ‘स्वच्छता ही सेवा’ अभियान के आगाज अवसर पर आयोजित बैठक में मीना ने नगरपरिषद सभापति की मौजूदगी में कहा कि, कोई कुछ भी कहे, शहर में सफाई व्यवस्था दुरुस्त नहीं है। उन्होंने यहां तक कहा कि, इस काम में राजनीति नहीं की जानी चाहिए तथा जिस वार्ड में स्वच्छता का काम हो, वहां सभी पैंतीस वार्डों के पार्षदों को हाजिर रहना चाहिए। कलक्टर के तीखे तेवरों को देखकर वहां मौजूद अधिकारी एक दूसरे का मुंह तकते नजर आए। 

आपसे नहीं होता तो मुझसे कहें
जैसलमेर शहर में आवारा व स्वच्छंद घूमने वाले पशुओं की लाइलाज होती समस्या पर कड़े तेवर दर्शाते हुए जिला कलक्टर ने नगरपरिषद प्रशासन से कहा कि, आपसे इस समस्या का समाधान नहीं होता है तो मुझसे कहें, मैं 24 घंटे में यह काम करवा दूंगा। परिषद के सहायक अभियंता ने जब कहा कि, आला अधिकारी छुटïï्टी पर गए हुए हैं तो मीना ने तंज कसा। उनसे कहो, जिला कलक्टर ने उन्हें निमंत्रित किया है और सभी को आना है। कलक्टर ने बैठक में मौजूद जनप्रतिनिधियों व अधिकारियों से कहा कि, उनके पास आने वाली समस्याओं का समाधान करवाएं व सुझावों पर अमल करें। जैसलमेर के विकास के लिए सुझाव देने वाले स्थानीय बाशिंदे ही होंगे, कोई बाहर से नहीं आएगा। मीना ने कहा कि जिले में आज से आगामी 2 अक्टूबर तक स्वच्छता ही सेवा अभियान चलाया जाएगा। जिसकी जिलास्तरीय कार्यशाला के साथ शुरुआत हो गई है। इस अभियान को जन जन का अभियान बनाकर हमें स्वच्छता के क्षेत्र में कार्य करने का संकल्प लेना हैं। उल्लेखनीय है कि जिला कलक्टर स्वच्छ भारत मिशन के तहत जिला परिषद के अटल सेवा केन्द्र में आयोजित कार्यशाला को संबोधित कर रहे थे।
कार्यशाला की अध्यक्षता जिला प्रमुख अंजना मेघवाल ने की एवं नगर परिषद सभापति कविता खत्री, उपसभापति रमेश जीनगर, पंचायत समिति के प्रधान अमरदीन, मुख्य कार्यकारी अधिकारी, अनुराग भार्गव, अति. मुख्य कार्यकारी अधिकारी कमल ओझा, अरुण पुरोहित, विक्रमसिंह, कपिल मेहरा के साथ पार्षद उपस्थित थे।

 

स्वच्छता का संकल्प लें
जिला प्रमुख अंजना मेघवाल ने कहा कि हमें संकल्प के साथ स्वच्छता के क्षेत्र मे कार्य करना है एवं गांव -ढाणी तक में स्वच्छता की अलख जगानी है ताकि लोग अपने घरों में शौचालय का उपयोग करें। सभापति कविता खत्री ने इस अभियान को पब्लिक पार्टनरशिप का अभियान बनाते हुए स्वर्णनगरी को स्वच्छ बनाने का आह्वान किया। मुख्य कार्यकारी अधिकारी अनुराग भार्गव ने अभियान के दौरान जिला, ब्लॉक एवं ग्राम पंचायत स्तर पर किये गये कार्यक्रमों के संबंध में जानकारी दी। एसीईओ रामेश्वर प्रसाद मीना ने इस अभियान में प्रभावी ढंग से गतिविधियों के संचालन का विश्वास दिलाया। जैसलमेर समिति प्रधान अमरदीन फकीर ने इसमें पूरा सहयोग देने का विश्वास दिलाया। नगरपरिषद उपसभापति रमेश जीनगर ने शहर में प्लास्टिक एवं पोलीथिन के उपयोग को बंद कराने, कमल ओझा ने सामाजिक भवनों में भी प्लास्टिक के उपयोग पर प्रतिबंध लगाने, विक्रमसिंह नाचना ने गांधी चौक में नाले से ओवरफ्लो होने वाले गन्दे पानी का स्थाई समाधान कराने, शहर के पार्कों को विकसित करने का सुझाव दिया। जिला परियोजना समन्वयक, किशोर बिस्सा ने अभियान की विस्तार से जानकारी दी। जिला समन्वयक गणपतलाल जोशी ने स्वच्छता रथों के संचालन एवं उनके द्वारा पंचायतों में की जाने वाली गतिविधियों की जानकारी दी तथा ब्लॉक समन्वयक, जैसलमेर व सम ने सहयोग प्रदान किया। समारोह के अन्त में जिला कलक्टर मीना ने सभी संभागियों को स्वच्छता की शपथ दिलाई।

jitendra changani Desk/Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned