scriptYears-months of hard work get ready Marushree Then it gets bitter | JAISALMER NEWS- वर्षों-महीनों की मेहनत से तैयार होते हैं ‘मरुश्री’° फिर मिलती है यह कड़वाहट जो रहती है हमेशा.. | Patrika News

JAISALMER NEWS- वर्षों-महीनों की मेहनत से तैयार होते हैं ‘मरुश्री’° फिर मिलती है यह कड़वाहट जो रहती है हमेशा..

-जी-जान से तैयारियां कर रहे प्रतिभागी

जैसलमेर

Published: January 22, 2018 09:26:58 pm

बरकरार है मरुश्री प्रतियोगिता का जलवा

जैसलमेर . दो पाटों में विभक्त दाढ़ी, रौबीली मूंछें, ऊंची कद-काठी, मरुभूमि की पहचान पचरंगी साफा और वस्त्राभूषण...यह सब मिलकर मरु महोत्सव की सबसे लोकप्रिय और प्रतिष्ठापूर्ण ‘मरुश्री’ प्रतियोगिता को करीब तीन दशकों से जीवंत बनाए हुए हैं। समय के साथ जहां मरु महोत्सव के कई कार्यक्रम व प्रतियोगिताएं दोहराव की वजह से अब निष्प्रभावी हो गए हैं वहीं मरुश्री प्रतियोगिता का जलवा अब तक न केवल बरकरार है, बल्कि प्रतिवर्ष इसके आकर्षण में और इजाफा हो रहा है। यही कारण है कि, आगामी 29 जनवरी को महोत्सव के पहले दिन पूनम स्टेडियम में होने वाली इस प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए जैसलमेर ही नहीं बल्कि राज्य के अन्य शहरों फलोदी, बीकानेर , जोधपुर , उदयपुर तक में प्रतिभागी तैयार हो रहे हैं।
मंच पड़ जाता है छोटा
मरुश्री प्रतियोगिता के आयोजन के वक्त हर बार मंच छोटा पड़ जाता है।लगभग 35-40 प्रतिभागी पारम्परिक वेशभूषा में सज-संवर कर जिस समय मंच पर रौबीले अंदाज में खड़े होते हैं, वह लम्हा तीन दिन के मरु महोत्सव का सबसे जानदार माना जाता है। उनकी फोटोग्राफी करने के लिए पेशेवर फोटोग्राफर्स के साथ देशी-विदेशी सैलानी मचल उठते हैं। लोगों का यही प्यार, प्रतियोगिता के प्रत्येक प्रतिभागी के लिए उसकी वर्षों-महीनों की तैयारी का वास्तविक प्रतिफल साबित होता है। परिणाम तो किसी एक के पक्ष में जाता है, लेकिन दर्शकों के लिए आकर्षण का केंद्र सारे प्रतिभागी बन जाते हैं।
करने पड़ते हैं कितने जतन
मरुश्री प्रतियोगिता में भाग लेने वाले प्रतिभागी को सबसे कठिन मेहनत व लगन से काम लेना होता है। इसके लिए करीब चार-छह माह या उससे भी अधिक समय तक दाढ़ी-मूंछ बढ़ानी होती है। दाढ़ी को चमकदार, घनी और मुलायम बनाए रखने के लिए उस पर मक्खन लगाया जाता है। तरह-तरह के शैम्पू से धोया जाता है। फिर सरसों अथवा नारियल का तेल तथा बाजार में उपलब्ध अन्य बियर्ड ऑयल की मालिश की जाती है। दाढ़ी छितरे नहीं, इसके लिए उसे दिन या रात के समय बांध कर भी रखा जाता है। परम्परागत वेशभूषा के साथ कीमती आभूषणों तथा तलवार आदि की व्यवस्था करनी होती है।

Jaisalmer patrika
patrika news

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

कोरोना: शनिवार रात्री से शुरू हुआ 30 घंटे का जन अनुशासन कफ्र्यूशाहरुख खान को अपना बेटा मानने वाले दिलीप कुमार की 6800 करोड़ की संपत्ति पर अब इस शख्स का हैं अधिकारजब 57 की उम्र में सनी देओल ने मचाई सनसनी, 38 साल छोटी एक्ट्रेस के साथ किए थे बोल्ड सीनMaruti Alto हुई टॉप 5 की लिस्ट से बाहर! इस कार पर देश ने दिखाया भरोसा, कम कीमत में देती है 32Km का माइलेज़UP School News: छुट्टियाँ खत्म यूपी में 17 जनवरी से खुलेंगे स्कूल! मैनेजमेंट बच्चों को स्कूल आने के लिए नहीं कर सकता बाध्यअब वायरल फ्लू का रूप लेने लगा कोरोना, रिकवरी के दिन भी घटेCM गहलोत ने लापरवाही करने वालों को चेताया, ओमिक्रॉन को हल्के में नहीं लें2022 का पहला ग्रहण 4 राशि वालों की जिंदगी में लाएगा बड़े बदलाव

बड़ी खबरें

Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.