यूपी में राजनीति को लेकर तेजी से बढ़ रहे सट्टा बाजारों के रेट

उत्तर प्रदेश में एमपी, राजस्थान विधानसभा चुनाव परिणाम को लेकर सट्टाकिंग बाजारों के रेट तेजी के साथ बढ़ते हुए नजर आ रहे हैं।

By: Neeraj Patel

Updated: 11 Dec 2018, 10:24 AM IST

जालौन. उत्तर प्रदेश में एमपी, राजस्थान विधानसभा चुनाव को लेकर सट्टाकिंग बाजारों के रेट तेजी के साथ बढ़ते हुए नजर आ रहे हैं। राजस्थान विधानसभा चुनाव को लेकर यूपी के जालौन में सट्टाकिंग बाजार में लोगों द्वारा जमकर सट्टा लगाना शुरू कर दिया है कि राजस्थान में कौन सी पार्टी जीतेगी। सट्टा केवल वही लोग लगा रहे जो राजनीति में अपनी ज्यादा दिलचस्पी रखते हैं।

राजस्थान विधानसभा चुनाव के परिणाम को लेकर लगाया जा रहा सट्टा

जालौन से राजनीति में दिलचस्पी रखने वाले लोग एमपी, राजस्थान विधानसभा चुनाव के परिणाम को लेकर बहुत ही उत्साहित दिखाई दे रहे हैं। एमपी से भिण्ड, मिहोना, दबोह और दतिया जिले की सीमाएं जिला जालौन से लगी हुई हैं। एमपी, राजस्थान विधानसभा चुनाव के परिणाम को लेकर युवा लोग ज्यादा सट्टा लगा रहे हैं। जो लोग जिस पार्टी में दिलचस्पी रखते हैं वह लोग उसी पार्टी पर सट्टा लगा रहे है जिसकी कीमत लगभग 1000 से लेकर 10,000 रुपए तक है।

चुनाव परिणाम को लेकर लोगों की तेजी से बढ़ रही धड़कनें

इसके साथ ही लोग एमपी, राजस्थान विधानसभा चुनाव के परिणाम का वेसब्री से इंतजार कर रहे हैं कि जल्दी परिणाम आए और उन्हें जल्दी पता कि वह सट्टा बाजार में लगाया हुआ पैसा जीते है कि हारे हैं। सट्टाकिंग बाजार में पैसा लगाने वालों की धड़कनें भी तेज हो गई हैं। कि वह कहीं अपना लगाया हुआ सारा पैसा हार न जाएं। जैसे ही एमपी, राजस्थान विधानसभा चुनाव के परिणाम की तारीख पास आ रही है तो वैसे ही लोगों की धड़कनें तेजी पकड़ रही हैं।

सट्टा बाजार से जीतना चाहते हैं मोटी रकम

यूपी में कोई भाजपा तो कोई कांग्रेस के जीतने व हारने पर सट्टा लगा रहे हैं। कुछ लोग पुलिस बचकर भाजपा और कांग्रेस के जीतने व हारने पर पैसा लगाकर मोटी सट्टा बाजार से मोटी रकम जीतना चाहते हैं। वहीं कुछ लोग अनुमान लगा रहे है कि राजस्थान विधानसभा चुनाव में भाजपा जीतेगी तो कुछ कांग्रेस के जीतने का अनुमान लगा रहे हैं।

 

Show More
Neeraj Patel
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned