बिना लोड बढ़ाए ही हर गली में लग गए एसी, अब ओवरलोड से पॉवरकट

बिना लोड बढ़ाए ही हर गली में लग गए एसी, अब ओवरलोड से पॉवरकट

Dharmendra Ramawat | Updated: 19 Jun 2018, 10:06:04 AM (IST) Jalore, Rajasthan, India

जालोर. पॉवर कट के चलते जिलेभर में पिछले सप्ताहभर में काफी दिक्कतें बढ़ी।

लाख कुल कनेक्शन जिले में
हजार इंडस्ट्रीयल कनेक्शन
२.५० लाख कुल कनेक्शन जिले में
4 हजार इंडस्ट्रीज कनेक्शन
14 हजार व्यवसायिक कनेक्शन
५४ हजार एग्रीकल्चर कनेक्शन
1.80 लाख जिले में कुल घरेलू कनेक्शन
16 हजार घरेलू कनेक्शन जालोर में
धर्मेन्द्र रामावत
जालोर. पॉवर कट के चलते जिलेभर में पिछले सप्ताहभर में काफी दिक्कतें बढ़ी। इन हालातों के लिए जहां डिस्कॉम की लचर मॉनिटरिंग जिम्मेदार रही। वहीं नजरअंदाजी भी इन हालातों का कारण बनी। गर्मी की सीजन में एक तरफ आंधी चलने से फॉल्ट आ रहे थे।वहीं दूसरी तरफ घरों में लगे एयरकंडीशनर से ओवरलोड के चलते ट्रिंपिंग और फॉल्ट भी हो रहे है। नियमानुसार घर में एसी लगाने पर लोड बढ़ाया जाना चाहिए, जिससे संबंधित क्षेत्र में लो-वॉल्टेज की दिक्कत नहीं हो, लेकिन लगभग हर तीसरे घर में एक एसी लगा हुआ है और वह भी बिना लोड बढ़ाए हुए। जिससे कम वॉल्टेज की समस्या के साथ फॉल्ट और ट्रिपिंग की समस्या आ रही है।
भीतरी भागों में दिक्कत
मनमर्जी से बिना लोड सेटिंग करवाए घरों में लगाए गए एसी अन्य उपभोक्ताओं के लिए परेशानी का कारण बन रहे हैं। मुख्य रूप से शहर के भीतरी भागों में लो-वॉल्टेज की समस्या आती है और ट्रिपिंग के चलते अघोषित कटौती भी होती है।
लोड सेटिंग के लिए आवेदन करना जरुरी
अधिकतर उपभोक्ता हर साल अपने घरों में बिना डिस्कॉम को जानकारी दिए ही एसी लगा रहे हैं, जिससे लोड सेटिंग बिगड़ रहा है। आमतौर पर घरेलू कनेक्शन 1 किलोवॉट का होता है और एक एसी ही 2 किलोवॉट का होता है। अधिक एसी बिना डिस्कॉम की जानकारी के लगने पर ट्रांसफार्मर पर अधिक लोड पड़ता है और वहां से जीएसएस पर लोड बढऩे के साथ ट्रिपिंग होती है, जो पॉवर कट का कारण बनती है। नियमानुसार एसी लगाने से पूर्व डिस्कॉम में सूचनार्थ आवेदन की आवश्यकता होती है, लेकिन उपभोक्ता ऐसा नहीं करते।
2500 से अधिक एसी जालोर में
जालोर शहर की ही बात करें तो करीब 16 हजार कनेक्शन में से 2500 के लगभग घरेलू कनेक्शनों पर एसी लगे हुए हैं। खास बात यह है कि कनेक्शनों का लोड सेट किए बिना ही ये एसी लगाए गए है। कई घरों में तो एक से अधिक एसी लगे हुए हैं, जबकि उनका लोड नार्मल घरेलू कनेक्शन के अनुसार ही है।
एसी लगाने से अधिक लोड बढ़ जाता है
नियमानुसार उपभोक्ताओं को एसी या अन्य इलेक्ट्रिक उपकरण जिससे उपभोग अधिक बढ़ जाता है। उसकी जानकारी डिस्कॉम को देनी होती है साथ ही सूचनार्थ आवेदन भी करना होता है। बिना जानकारी एसी लगाने पर संबंधित एरिया के ट्रांसफार्मर पर लोड अधिक बढ़ जाता है, जिससे पॉवर कट या ट्रिपिंग के हालात बनते हैं।
-पीसी टांक, एसई, जोविविएनएल, जालोर

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned