किसानों के साथ बैंक कर रही छलावा

किसानों के साथ बैंक कर रही छलावा
Bank fraud with farmers

Dharmendra Ramawat | Publish: May, 17 2018 09:19:59 AM (IST) Jalore, Rajasthan, India

खरीफ का बीमा क्लेम मिला नहीं, रबी का बीमा ही नहीं किया

चितलवाना. सहकारिता विभाग की ओर से किसानों को कृषक मित्र योजना के तहत दिए जाने फसली ऋण के साथ फसल का बीमा करना भी जरूरी है, लेकिन दी जालोर सैंट्रल को-ऑपरेटिव बैंक की ओर से वर्ष 2016 में रबी फसल के लिए किसानों को ऋण देने के साथ फसल बीमा का प्रीमियम संबंधित बीमा कम्पनी को भेजा ही नहीं। जिससे किसानों को फसल खराबे के बाद क्लेम से वंचित रहना पड़ रहा है। ऐसे में बैंक अधिकारियों की लापरवाही का खामियाजा क्षेत्र के किसानों को भुगतना पड़ रहा हैं। गौर करने लायक बात तो यह है कि अरणाय स्थित इस बैंक की ओर से वर्ष 2016 का खरीफ फसल का बीमा क्लेम अभी तक किसानों को नहीं दिया गया है। वहीं रबी 2016 का बीमा प्रीमियम बैंक अधिकारियों की लापरवाही के चलते कम्पनी में जमा ही नहीं करवाया गया। जिसके कारण किसानों को खराबे के बावजूद इसका क्लेम नहीं मिल पाएगा।
अनिवार्य है बीमा
सहकारिता विभाग की ओर से किसानों को दिए जाने वाले फसली ऋण के साथ फसल का बीमा करना भी जरूरी है। ऋण देने से पहले बैंक की ओर से बीमा प्रीमियम संबंधित बीमा कम्पनी में जमा करवाया जाता है और इसके बाद ही किसानों को ऋण दिया जाता है, लेकिन अरणाय शाखा के अधिकारियों की लापरवाही से किसानों को ऋण तो दे दिया गया, पर किसानों की फसल का बीमा नहीं किया गया।
धुम्बडिय़ा व मेंगलवा शाखा को मिला क्लेम
जिले में दी जालोर सैंट्रल को-ऑपरेटिव बैंक की धुम्बडिय़ा व मेंगलवा शाखा में ही किसानों को वर्ष 2016 का रबी फसल बीमा क्लेम दिया गया है, लेकिन अन्य बैंकों ने किसानों की फसल का बीमा प्रीमियम कम्पनी को भेजा ही नहीं।
इनका कहना है...
बैंक अधिकारियों लापरवाही के कारण किसानों को करोड़ों के बीमा क्लेम का नुकसान उठाना पड़ रहा है। न्याय नहीं मिला तो किसान न्यायालय का दरवाजा खटखटाएंगे।
- महेन्द्रसिंह, पूर्व सरपंच, अरणाय
रबी 2016 का बीमा प्रीमियम नोटबंदी के चलते नहीं भेज पाए थे। इसलिए रबी की फसल में हुए खराबे का बीमा क्लेम भी उन्हें नहीं मिल पाएगा।
- सियाराम मीणा, शाखा प्रबंधक, जेसीसीबी, अरणाय

इधर, क्लेम को लेकर किसानों का क्रमिक अनशन जारी
- गुरुवार से शुरू करेंगे आमरण अनशन
चितलवाना. दी जालोर सैंट्रल को-ऑपरेटिव बैंक अरणाय शाखा की ओर से किसानों का वर्ष 2016 का खरीफ फसल बीमा क्लेम स्वीकृत होने के बावजूद नहीं देने के विरोध में किसानों का क्रमिक अनशन दूसरे दिन बुधवार को भी जारी रहा। किसान संघर्ष समिति के संयोजक जयराम मांजू ने बताया कि वर्ष 2016 का खरीफ फसल बीमा प्रीमियम किसानों ने जमा करवा दिया था। ऐसे में फसल खराबे के बाद बीमा कम्पनी के खाते करोड़ों की क्लेम राशि जमा पड़ी है, लेकिन किसानों को दी नहीं जा रही है। ऐसे में किसानों ने बीमा क्लेम खाते में जमा करवाने, ऋण पर हर साल लिया जाने वाला एक प्रतिशत सेवाकर व जीएसटी दोबारा किसानों के खाते में जमा करवाने, बीमा प्रीमियम पॉलिसी जारी करने व शाखा प्रबंधक को हटाने सहित कई मांगों को लेकर राज्यपाल के नाम एसडीएम को ज्ञापन दिया गया। इस मौके पूर्व जिला प्रमुख नरपतसिंह, पूर्व सरपंच महेन्द्रसिंह, गुमानाराम कुराड़ा, रामाराम मांजू, कोहलाराम खोखर व प्रेमाराम लोमरोड़ सहित कई किसान मौजूद थे।
ये रहे क्रमिक अनशन पर
अरणाय में बीमा क्लेम की मांग को लेकर चल रहे धरने के दौरान बुधवार को बाबूलाल, सूजाराम, कालूराम, देवाराम, भागीरथराम, हरिराम, पूनमाराम, पोकराराम, वागाराम, भगवानाराम, गुमानाराम, महेन्द्रसिंह, रामकिशन, जीवाराम, प्रेमाराम, रामलाल, तगाराम, साजनराम, मोहनलाल, जयराम व ठाकराराम क्रमिक अनशन पर रहे।
आमरण अनशन आज से
अरणाय शाखा में किसानों के साथ हो रहे अन्याय को लेकर किसानों की ओर से गुरुवार से आमरण अनशन शुरू किया जाएगा।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned