नहर तोड़ लगाए अवैध पाइप, पुलिस व नर्मदा चीफ से की शिकायत

नहर तोड़ लगाए अवैध पाइप, पुलिस व नर्मदा चीफ से की शिकायत

Dharmendra Ramawat | Publish: Sep, 09 2018 10:48:22 AM (IST) Jalore, Rajasthan, India

लापरवाही: डडूसन सरहद में बालेरा मुख्य वितरिका से 7 किमी दूरी पर बनवाई थी सीडी, तोड़कर डाल रहे पाइप

हाड़ेचा. बालेरा मुख्य वितरिका से सात किमी की दूरी पर अज्ञात लोगों की ओर से पानी चोरी की नीयत से वितरिका को तोड़कर बीचो बीच पाइप लगाए गए हैं। ऐसे में वितरिका की मुख्य कैनाल टूटने की संभावना के चलते विभाग ने पुलिस व उच्चाधिकारियों से कार्रवाई की मांग की है।
गौरतलब है कि नर्मदा अधिकारियों की ओर से बालेरा वितरिका को 0 से टेल तक जांच कर नियमित पानी छोडऩे के लिए दो दिन बंद रखा गया। वहीं इसमें लगे अवैध पाइप हटवाकर वितरिका की जांच की गई।
इसके बाद विभाग ने मुख्य कैनाल से सात किमी की दूरी पर बाढ़ से टूटी कैनाल पर पानी निकासी के लिए सीडी बनवाई गई। ताकि वितरिका को नुकसान नहीं हो और पानी बाहर निकल सके, लेकिन वितरिका की गहनता से जांच करने पर इसके बीचों बीच अवैध पाइप लगे हुए मिले। जिस पर अधिकारियों ने पुलिस विभाग के उच्चाधिकारियों को अवगत करवाया गया। वहीं नर्मदा चीफ से भी अवैध पाइप तोडऩे की शिकायत की गई।
इसलिए नहीं हो पाई कार्रवाई
नर्मदा अधिकारियों ने बताया कि विभाग की ओर से वितरिका में छेद कर अवैध तौर पर पाइप लगाने के मामले में रिपोर्ट बनाकर नर्मदा चीफ व पुलिस विभाग के उच्चाधिकारियों को अवगत करवाया है, लेकिन भारत बंद के चलते मामला अमल में नहीं लाया गया। इस सम्बंध अधिकारियों ने एएसपी को भी अवगत करवाया है।
अवैध पाइप हटवाए
नर्मदा अधिकारियों की ओर से बालेरा वितरिका व उससे निकलने वाली सभी माइनरों व सब माइनरों के टेल तक पानी पहुंचाने के लिए अवैध पाइप लगाकर पानी कुओं में डालने वाले लोगों को चेतावनी दी। साथ ही पाइपों को हटवाया गया। मुख्य वितरिका के बीच में छेड़छाड़ कर ये पाइप लगाए गए थे। वहीं ये पाइप जमीन के अंदर होने से दिखाईनहीं दे रहे थे। ऐसे में पानी की सप्लाई बंद कर जांच की गई तो ये पाइप पाए गए।
वितरिका को तोडऩे की साजिश
बालेरा वितरिका के प्रभारी व एक्सईएन महेशकुमार मीणा ने बताया कि टेल पर पानी पहुंचाने के लिए विभाग की ओर से अवैध पाइप हटवाए गए। कई लोगों ने मुख्य वितरिका के बीच में छेद कर पानी चोरी की नीयत से वितरिका तोडऩे की साजिश रची है। ऐसे में वितरिका टूटने पर खासा नुकसान होगा। अधिकारियों का कहना है कि मुख्य वितरिका के बीच में छेद करने वाले लोगों के खिलाफ कार्रवाई नहीं होने तक पानी नहीं छोड़ा जाएगा।
इनका कहना..
बालेरा वितरिका की जांच की गईथी। कुछ जगहों पर समस्या होने के कारण मरम्मत के लिए जेईएन व एईएन को मौके पर भेजा था। इस दौरान कई जगह वितरिका के बीच में पाइप पाए गए। इस बारे में कार्रवाई के लिए उच्चाधिकारियों व पुलिस विभाग को रिपोर्ट दी गई है। मामले की जांच और कार्रवाई नहीं होने तक पानी नहीं छोड़ा जाएगा।
- महेशकुमार मीणा, एक्सईएन व प्रभारी, बालेरा वितरिका

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned