आबकारी ने पकड़ी खेत में रखी खेप

आबकारी ने पकड़ी खेत में रखी खेप

Jitesh kumar Rawal | Publish: Sep, 06 2018 12:42:36 PM (IST) Jalore, Rajasthan, India

आबकारी निरोधक दल ने सांचौर के अचलपुर में कार्रवाई कर शराब की खेप पकड़ी। बरामद शराब अरुणाचलप्रदेश में बेचने के लिए निर्मित है।

जालोर. आबकारी निरोधक दल ने सांचौर के अचलपुर में कार्रवाई कर शराब की खेप पकड़ी। बरामद शराब अरुणाचलप्रदेश में बेचने के लिए निर्मित है।
जिला आबकारी अधिकारी विनोद वैष्णव ने बताया कि सांचौर के अचलपुर में दलपतसिंह के खेत पर शराब की अवैध रूप से खेप आने की सूचना मिली। इस पर इपीएफ के जाब्ते ने दबिश दी। यहां से 105 पेटियों में भरे अंग्रेजी शराब के 5040 पव्वे बरामद किए। भीनमाल व सांचौर क्षेत्र में अन्य चार अभियोग दर्ज कर दस लीटर हथकढ़ बरामद की।अन्य राज्य में बेचने वाली अंग्रेजी शराब की 60 बोतलें व देसी शराब के 21 पव्वे भी बरामद किए।कार्रवाईके दौरान डेढ़ सौ लीटर वाश नष्ट की।
राजस्व गांवों मेें अकाल घोषित करने की मांग, सौंपा ज्ञापन
भीनमाल. ब्लॉक सरपंच संघ के अध्यक्ष चैनराज चौधरी के नेतृत्व में सरपंचों ने कम बारिश होने से क्षेत्र के राजस्व गांवों मेें अकाल घोषित करने की मांग को लेकर मुख्यमंत्री के नाम उपखण्ड अधिकारी को ज्ञापन सौंपा।
ज्ञापन में बताया कि क्षेत्र में इस बार औसत से भी कम बारिश हुई है। बारिश नहीं होने से किसानों की फसलें खराब हो चुकी है। जिससे किसानों के लिए रोजगार की समस्या सता रही है। उन्होंने ज्ञापन सौंपकर क्षेत्र के राजस्व गांवों को अकाल घोषित करने व गांवों में व्यक्तिगत लाभ के अधिक से अधिक कार्य स्वीकृत करवाने की मांग की। इस मौके भाजपा नेता रमेश पुरोहित, बाली सरपंच रघुवीरसिंह, निंबावास सरपंच कैलाश कंवर, गोविंदसिंह राऊता, जेरण सरपंच ठाकराराम, लुणावास सरपंच मोहनलाल व मीर मोहम्मद सहित काफी संख्या में लोग मौजूद थे।
शिक्ष्कों ने जताया विरोध
चितलवाना. राजस्थान शिक्षक संघ प्रगतिशील उपशाखा चितलवाना की ओर से बुधवार को ब्लॉक अध्यक्ष बाबूलाल गोदारा के नेतृत्व में मुख्यमंत्री के नाम एसडीएम को ज्ञापन सौंपा गया। ज्ञापन में बताया कि राज्य सरकार ने बुधवार को नवनियुक्त शिक्षकों का सम्मान समारोह आयोजित कर करोड़ों का राजकीय व्यय किया है। वहीं दूसरी ओर राज्य के 4 लाख शिक्षकों ने शैक्षणिक व प्रबंधन में निष्ठापूर्ण कार्य कर देश में राज्य का स्थान स्थापित किया है। ऐसे में सरकार राजनीतिक फायदे के लिए शिक्षकों को राजधानी में एकत्रित कर वोट पाना चाहती है। नवनियुक्त शिक्षकों को जबरन बुलाकर उन्हें परेशान किया जा रहा है। ऐसे में उपशाखा के शिक्षकों ने जिला शाखा के निर्णय अनुसार काली पट्टी बांधकर नारेबाजी करते हुए विरोध स्वरूप एसडीएम को ज्ञापन सौंपा।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned