वन व गोचर भूमि में अवैध खनन, दिन-रात होता ब्लास्ट

वन व गोचर भूमि में अवैध खनन, दिन-रात होता ब्लास्ट
वन व गोचर भूमि में अवैध खनन, दिन-रात होता ब्लास्ट

Jitesh kumar Rawal | Updated: 06 Oct 2019, 11:34:09 PM (IST) Jalore, Jalore, Rajasthan, India

www.patrika.com/rajasthan-news

जालेरा कल्ला, जालेरा खुर्द, वाड़ाल के ग्रामीणों ने अवैध खनन रोकने को लेकर सौंपा ज्ञापन


रानीवाड़ा. निकटवर्ती जालेरा खुर्द ग्राम पंचायत के जालेरा कल्ला, जालेरा खुर्द, वाड़ाल के ग्रामीणों ने अवैध खनन रोकने की मांग की है। वन एवं पर्यावरण मंत्री व जिला कलक्टर के नाम उपखण्ड अधिकारी को ज्ञापन सौंपा। (Illegal mining in forest rajasthan)
ग्रामीणों ने बताया कि ग्राम में पिछले कई वर्षों से अलग अलग कम्पनियों की ओर से अवैध खनन कार्य किया जा रहा हैं। नियमों को ताक पर रखा हुआ है। अवैध खनन के चलते दिन भर ट्रक मिट्टी उड़ाते निकलते हैं। सरकारी रास्ता उपलब्ध नहीं होने से वे वन विभाग की भूमि से निकल रहे हैं। दिनभर धूल उडऩे से लोग दिक्कत उठा रहे हंै। क्रेशर संचालक मशीनों से दिन व रात को अवैध रूप से विस्फोट करते हैं। इससे आसपास के खेतों में रहना मुश्किल हो गया है। पशु डर के मारे भाग जाते हैं। पत्थर व गिटटी ले जाने वाले अवैध वाहनों पर अंकुश लगाने की मांग रखी गई। क्रेशर के पास गोचर व पड़त भूमि भी है, जहां से काफी माल खोदा जा चुका है। अवैध खुदाई से यहां गहरे खड्डे हो गए हैं। अवैध खनन बंद नहीं करने पर ग्राम पंचायत जालेरा खुर्द, जालेरा कल्ला, वाड़ाल के लोगों ने धरना प्रदर्शन की चेतावनी दी। इस मौके पर कानाराम देवासी, संजयकुमार, दलाराम, कान्तिलाल, जवाराम, देवाराम, रतनाराम, भलाराम, अशोक, नारणाराम, गोकलाराम, पारसाराम, कृष्ण कुमार, बालकाराम, अमृतलाल, लाखाराम, भरतकुमार, मगनलाल, हकाराम, किरण कुमार, बगदाराम सहित कई ग्रामीण उपस्थित रहे।

स्कूलों का किया निरीक्षण
रानीवाड़ा. निकटवर्ती रानीवाड़ा खुर्द के सरपंच पोपटलाल रावल ने रा.प्रा.वि. केवडीया नाडी, गामडीया नाडी का निरीक्षण किया। रानीवाड़ा खुर्द को उजियारी पंचायत घोषित करने के उपलक्ष्य में बच्चों को मिठाई वितरित की गई। जवसिंह गोयल, बगदसिंह गोयल, गोविन्द कुमार, अध्यापिका माया टांक, छोटी मीणा, शशि कुमारी, देवाराम घांची, भंवरलाल लुहार, रमेश पुरोहित, लेराराम पुरोहित, ईश्वरलाल रावल आदि मौजूद रहे।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned