स्ट्रक्चर से हो रहा पानी का रिसाव, सीजन में हो सकती है परेशानी

स्ट्रक्चर से हो रहा पानी का रिसाव, सीजन में हो सकती है परेशानी
स्ट्रक्चर से हो रहा पानी का रिसाव, सीजन में हो सकती है परेशानी

Dharmendra Ramawat | Updated: 26 Oct 2018, 11:41:36 AM (IST) Jalore, Jalore, Rajasthan, India

आपदा से बचने के लिए नेहड़ क्षेत्र में नर्मदा केनाल के क्रॉस पर विभाग ने बनवाए थे स्ट्रक्चर

हाड़ेचा. नेहड़ सहित क्षेत्र में बीते साल आई बाढ़ के बाद नर्मदा केनाल के क्रॉस पर बनवाए गए स्ट्रक्चरों में हो रहा पानी का रिसाव रबी सीजन में किसानों के लिए भारी पड़ सकता है। जानकारी के अनुसार पिछले साल बाढ़ के दौरान नर्मदा के क्रॉस पर पानी निकासी के लिए स्ट्रक्चर नहीं बने होने की वजह से मुख्य केनाल के साथ कई जगह से वितरिका व माइनरें टूटकर बिखर गई थीं। ऐसे में नर्मदा परियोजना के तहत करोड़ों के बजट से नेहड़ सहित मुख्य केनाल के क्रॉस पर पानी निकासी के लिए ये स्ट्रक्चर बनवाए गए थे, लेकिन करीब डेढ़ साल बाद नर्मदा मुख्य केनाल सहित वितरिकाओं व माइनरों में पानी छोडऩे पर पता चला कि अधिकतर स्ट्रक्चरों से पानी का रिसाव हो रहा है। ऐसे में सीयाळू सीजन को देखते हुए नर्मदा अधिकारियों ने गुजरात से पानी को क्लोजर करवाकर आनन-फानन में रिपेरिंग का कार्य शुरू करवाया है। मगर कई स्ट्रक्चरों पर सप्लाई शरू कर इसकी जांच ही नहीं की गई है। ऐसे में सियाळू सीजन में पानी छोडऩे के दौरान नुकसान हो सकता है। नेहड़ की अधिकतर वितरिकाओं पर बने स्ट्रक्चरों पर पानी नहीं छोडऩे से किसानों को पूरा पानी नहीं मिल पाएगा।
पानी छोड़ा, पर नहीं की जांच
नेहड़ की बालेरा, जैसला, सुंथाना, इसरोल, रतौड़ा व भीमगुड़ा वितरिकाओं में पानी टेल तक नहीं पहुंचा है। ऐसे में इन वितरिकाओं पर बनवाए गए स्ट्रक्चरों की टेस्टिंग नहीं हो पाई है। जबकि दो माह पूर्व छोड़े गए पानी के दौरान मुख्य केनाल के कई स्ट्रक्चर, सरवाना माइनर व जगह पानी के रिसाव के चलते मरम्मत की गई। ऐसे में इस बार भी किसानों को सीजन में समय पर पानी नहीं मिलने से परेशानी हो सकती है।
किसानों ने लगाए थे घटिया निर्माण के आरोप
नर्मदा नहर में बाढ़ के पानी के क्रॉस को लेकर बनाए गए स्ट्रक्चरों के निर्माण के दौरान पूर्व में भी किसानों ने नर्मदा अधिकारियों पर घटिया निर्माण के आरोप लगाए थे। वहीं सरवाना माइनर पर बने स्ट्रक्चरों व मुख्य केनाल के कई स्ट्रक्चरों में पानी का रिसाव हो रहा है। इधर, किसानों ने सीजन में पानी को लेकर पूर्ण सहमति नहीं देने पर गत दिनों सरवाना में सम्मेलन कर चुनावों के बहिष्कार की चेतावनी दी थी। इसके बावजूद नर्मदा अधिकारियों की ओर से इस बारे में कोई उचित कदम नहीं उठाया जा रहा है।
इनका कहना..
पूर्व में कई बार नर्मदा अधिकारियों को इस बारे में अवगत करवा चुके हैं। क्षेत्र के कई स्ट्रक्चरों के घटिया निर्माण के चलते पानी का रिसाव हो रहा है, लेकिन अधिकारी ध्यान नहीं दे रहे हैं। समय रहते इनकी मरम्मत के अलवा पूरा पानी नहीं देने पर आठ पंचायतों के किसान चुनावों का बहिष्कार करने का निर्णय ले चुके हैं।
- गुलाबसिंह, किसान, सरवाना
सीजन को देखते हुए स्ट्रक्चरों व अन्य जगहों पर समस्याओं की अशंका को लेकर क्लोजर करवाया गया है। वहीं कई जगहों पर कार्य भी करवाया जा रहा है। हालांकि कई जगह पूर्व में भी यह समस्या थी। विभाग इसका समाधान कर रहा है।
- गिरीश लोढ़ा, चीफ, नर्मदा परियोजना, सांचौर

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned